[gtranslate]
Country

रोबोटिक सर्जरी की तरफ बढ़ता भारत

रोबोटिक सर्जरी मेडिकल साइंस के विकास का जीता-जागता उदाहरण है। यह सुरक्षित सर्जरी मानी जाती है। रोबोटिक सर्जरी ऐसी सर्जरी होती है जिसमें मशीनों का सहारा लिया जाता है। देश में पहली बार रोबोटिक एंड इनोवेटिव सर्जनस का एसोसिएशन मुख्यालय गुवाहाटी में बनाया गया है। इसके अध्यक्ष डॉ सुभाष खन्ना हैं। इस एसोसिएशन को एनआरआईएस (द एसोसिएशन ऑफ द रोबोटिक एंड इनोवेटिव सर्जन) के नाम से जाना जाएगा। यह केवल भारत का ही रोबोटिक सर्जन संघ नहीं है बल्कि इसे पहला अंतराष्ट्रीय स्वास्थ्य पेशेवर संघ माना जा रहा है

इकीसवीं सदी के इस आधुनिक युग में भारत ने एक और बड़ी उपलब्धि हासिल की है। यह उपलब्धि है रोबोटिक एंड इनोवेटिव सर्जनस। देश में पहली बार रोबोटिक एंड इनोवेटिव सर्जनस का एसोसिएशन मुख्यालय गुवाहाटी में बनाया गया है। इसके अध्यक्ष डॉ सुभाष खन्ना हैं। इस एसोसिएशन को एनआरआईएस (द एसोसिएशन ऑफ द रोबोटिक एंड इनोवेटिव सर्जन) के नाम से जाना जाएगा। आरआइएस केवल भारत का ही रोबोटिक सर्जन संघ नहीं है बल्कि इसे पहला अंतराष्ट्रीय स्वास्थ्य पेशेवर संघ माना जा रहा है।

गुवाहाटी मे आयोजित एक कार्यक्रम में सबकी सहमति से डॉक्टर सुभाष खन्ना को संस्थापक अध्यक्ष के रूप में चुना गया। यह संगठन सर्जिकल कौशल और प्रोटोकॉल के क्षेत्र में अकादमिक और वैज्ञानिक गतिविधियों को बढ़ावा देगा। रोबोटिक सर्जरी दुनिया भर में सर्जरी का नया भविष्य है। उपकरणों और सर्जिकल तकनीक की प्रगति ने न्यूनतम चीरे वाली सर्जरी को लोकप्रिय बना दिया है। मानक सर्जिकल तरीकों की तुलना में रोबोटिक सर्जरी के फायदे ज्यादा होते हैं।

देश में 100 सर्जिकल रोबोट
इस संगठन के संस्थापक अध्यक्ष खन्ना के अनुसार यह पहली बार है जब कई अंतरराष्ट्रीय संघों ने रोबोटिक्स में सर्जनों को तैयार करने के लिए गठजोड़ करने में रुचि दिखाई है। डॉ ़खन्ना के अनुसार भारत में बेहतरीन सर्जन और हेल्थकेयर पेशेवर हैं और यह दुनिया के लिए भारत में हो रही सराहनीय सर्जरी, उपचार प्रक्रियाओं को स्वीकार करने का समय है। देशभर में अब तक कुल 100 सर्जिकल रोबोट है जबकि श्रीलंका, मालदीव, मलेशिया, बांग्लादेश में ऐसे कोई सर्जिकल रोबोट नहीं है।

क्या है रोबोटिक सर्जरी
रोबोटिक सर्जरी मेडिकल साइंस के विकास का जीता-जागता उदाहरण है। यह सुरक्षित सर्जरी मानी जाती है। रोबोटिक सर्जरी ऐसी सर्जरी होती है जिसमें मशीनों का सहारा लिया जाता है। यह मुख्य रूप से पांच प्रकार के होते हैं। रोबोटिक गायनेकोलाजिस्ट सर्जरी, रोबोटिक प्रास्टेट सर्जरी, रोबोटिक किडनी सर्जरी, रोबोटिक कोलेरेक्टल सर्जरी, रोबोटिक स्पाइन सर्जरी। इस सर्जरी के दौरान व्यक्ति को कम दर्द से गुजरना पड़ता है, अन्य सर्जरी की तुलना में रोबोटिक सर्जरी में काफी छोटे कट लगाये जाते हैं जो कि समय के साथ स्वयं ही भर जाते हैं। इस सर्जरी में व्यक्ति को काफी कम समय में आराम मिल जाता है और सेहत में जल्दी सुधार होने लगता है। इस सर्जरी के दौरान डॉक्टर स्क्रीन पर देख कर कंसोल की मदद से रोबोट को गाइड करते हैं। रोबोटिक बाजुओं में लगे बहुत ही छोटे सर्जिकल इंस्ट्रूमेंट से सर्जरी की जाती है। इन इंस्ट्रूमेंट को कंसोल की मदद से हटाया और उठाया जाता है। रोबोटिक बाजू में लगा हुआ कैमरा मॉनिटर पर वीडियो दिखाता रहता है जिससे सर्जरी में समय भी कम लगता है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD