[gtranslate]
Country

हम पर नहीं थोप सकते हिंदी : कमल हासन

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के ‘एक देश, एक भाषा’ वाले बयान पर अभिनय से राजनीति में आए कमल हासन ने तीव्र प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा- ‘हमारी मातृभाषा तमिल ही रहेगी।’ बता दें कि 14 सितंबर को हिंदी दिवस के मौके पर गृहमंत्री ने अपने संबोधन में हिंदी को देश की भाषा बनाने की बात कहते हुए ‘एक देश एक भाषा’ की वकालत की थी। इसके खिलाफ कर्नाटक व तमिलनाडु में काफी विरोध प्रदर्शन हुए। दक्षिण भारत से जताए गए विरोधों व आपत्तियों में दक्षिण भारतीय नेताओं ने गृहमंत्री के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा, ‘हिंदी को जबरन न थोपा जाए।’

इसमें उन्होंने कहा है कि भारत 1950 में इस वादे के साथ गणतंत्र बना कि इसकी भाषा और संस्कृति संरक्षित रखी जाएगी। एक राष्ट्र, एक भाषा के खिलाफ चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि कोई शाह, सुल्तान या सम्राट उस वादे को नहीं तोड़ सकता। हम सभी भाषाओं का सम्मान करते हैं लेकिन हमारी मातृ भाषा हमेशा तमिल रहेगी। उन्होंने आगे कहा कि जल्लीकट्टू मात्र विरोध प्रदर्शन था। हमारी भाषा के लिए जंग उससे बड़ी होगी। पोंगल पर्व के अवसर पर तमिलनाडु में जल्लीकट्टटू का आयोजन होता है। यहां का यह पारंपरिक खेल है जिसमें बैलों को काबू में किया जाता है। लेकिन इस खेल में कई लोगों की जान चली जाती है इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में जल्लीकट्टू पर रोक लगा दी थी। इस दौरान पशुओं पर क्रूरता की जाती है। लेकिन राज्य में इसे जारी रखने के लिए व्यापक प्रदर्शन किया गया। इसके बाद राज्य सरकार ने एक अध्यादेश पारित कर इस पारंपरिक खेल को जारी रखने की इजाजत दे दी थी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD