Country

दिल्ली-एनसीआर में सबसे ज्यादा स्टार्टअप, मुंबई और बेंगलुरु को छोड़ा पीछे

स्टार्टअप्स स्थापित करने के मामले में दिल्ली-एनसीआर, बेंगलुरु और मुंबई को पीछे छोड़ आगे निकल गया है। रिसर्च फर्म टीआईई दिल्ली-एनसीआर और जिन्नोव ने देशभर में स्टार्टअप्स स्थापित करने के मामले में शहरों के अनुसार एक रिपोर्ट पेश की है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि स्टार्टअप्स और यूनिकॉर्न के मामले में बेंगलुरु और मुंबई की तुलना में दिल्ली-एनसीआर कहीं आगे है। ‘टर्बोचार्जिंग दिल्ली-एनसीआर स्टार्ट-अप इकोसिस्टम’ नाम की रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में कुल स्टार्टअप्स में 23 प्रतिशत दिल्ली-एनसीआर में हैं। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में स्टार्टअप्स की संख्या 7,039 है। बेंगलुरु में इनकी संख्या 5,234 मुंबई में 3,829 और हैदराबाद में 1,940 है।

रिपोर्ट के मुताबिक “देश के टॉप-10 कीमती स्टार्टअप में से पांच का मुख्यालय दिल्ली एनसीआर में ही है। इनमें ओयो रूम्स ,पेटीएम और हाईक भी शामिल है।”

रिपोर्ट के मुताबिक इन नयी कंपनियों की स्थापना 2009 से 2019 के दौरान हुई है। दिल्ली-एनसीआर में इन स्टार्टअप की संख्या का विश्लेषण किया जाए तो दिल्ली में 4,491, गुरुग्राम में 1,544 और नोएडा में 1,004 स्टार्टअप्स हैं। रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है कि दिल्ली-एनसीआर में 10 यूनिकॉर्न कंपनियां हैं। इन कंपनियों का मूल्यांकन एक अरब डॉलर से अधिक का होता है। बेंगलुरु में ऐसी कंपनियों की संख्या नौ है, जबकि मुंबई और पुणे में दो-दो और चेन्नई में एक ऐसी कंपनी है।
 नीति आयोग अपने कोष से 25 इंक्यूबेशन सेंटर बनाएगा। अटल इनोवेशन मिशन के तहत सरकार पहले ही देशभर में 3,500 अटल टिंकरिंग लैब स्थापित कर चुकी है। इन प्रयोगशालाओं में छठी कक्षा या इससे ऊपर के विद्यार्थियों को कंप्यूटर, रोबोट आदि के जरिये प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बाजार में कदम रखने वाले स्टार्टअप के लिए दिल्ली-एनसीआर में सक्रिय एंजेल निवेशक भी तलाश किए जाएंगे।

You may also like