[gtranslate]
Country

कोरोना पीड़ित के इलाज में लापरवाही का मामला पहुंचा हाईकोर्ट 

पिछले कुछ महीनों से कोरोना संक्रमण ने पूरे देश को जकड़ कर रखा हुआ है। हजारों की संख्या में कोरोना के संक्रमण से लोगों की लगातार हो रही मौतों से देश सहमा हुआ है। इस बीच पश्चिम बंगाल में  कोरोना से पीड़ित एक 18 साल के युवक की एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल का चक्कर काटने के दौरान बीते सप्ताह  मौत हो गई थी। तमाम अस्पतालों ने बेड ख़ाली नहीं होने की बात कहकर उसे लौटाया था । अब मामला हाईकोर्ट तक चले गया है।

राज्य के उत्तर 24-परगना ज़िले के बनगाँव में 62 साल के कोरोना संक्रमित एक व्यक्ति को स्थानीय सरकारी अस्पताल से कोलकाता के बड़े अस्पताल में भेजने के दौरान किसी ने एंबुलेंस पर चढ़ने में मदद नहीं की। पीपीई किट पहन कर ड्राइवर दूर से खड़ा तमाशा देखता रहा था। मरीज़ की पत्नी मदद के लिए  गुहार लगाती रही, लेकिन कोई भी मदद के लिए आगे  नहीं आया। नतीजतन मौक़े पर ही उस व्यक्ति की मौत हो गई जिसकी अब तीन-सदस्यीय टीम मामले की जाँच कर रही है।

ऐसा ही एक मामला राज्य की राजधानी कोलकाता के बेहला इलाक़े में एक  व्यक्ति की मौत के बाद 15 घंटे तक शव घर में पड़ा रहा, बार-बार सूचना देने के बावजूद न तो पुलिस मौक़े पर पहुँची और न ही स्वास्थ्य विभाग के लोग।

सरकार की नाक के नीचे राजधानी कोलकाता से लगभग रोज़ाना सामने आने वाली ऐसी खबरें अब शायद कहीं किसी को परेशान नहीं करतीं. जब राजधानी का यह हाल है तो राज्य के बाकी ज़िलों की हालत का अनुमान लगाना बहुत मुश्किल नहीं है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD