[gtranslate]
Country

शहीदों के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा देगी गुजरात सरकार

गुजरात सरकार ने ऐलान किया कि शहीद सैनिकों के परिजनों को मिलने वाले मुआवजे व वीरता पदक (अशोक चक्र ) जीतने वाले सिपाहियों को दी जाने वाली रकम को 1 लाख से बढाकर अब 1 करोड़ कर दिया जाएगा । राज्य सरकार ने घोषणा की है कि सेवा के दौरान किसी भी प्रकार से मरने वाले सैनिक को मिलने वाले मुवावजे की रकम को बढ़ा दिया गया है। सरकार ने इसके लिए 2016 के प्रस्ताव में संशोधन किया है।

आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सर्वोच्च सैन्य पुरस्कार परमवीर चक्र विजेता के लिए नकद पुरस्कार को 22 हजार 500 रुपये से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये कर दिया गया है, जबकि अशोक चक्र से सम्मानित व्यक्ति को 20 हजार रुपये के बजाय एक करोड़ रुपये मिलेंगे।

कैसे बढ़ी मुआवजे की रकम

 

राज्य द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति में मुआवजे को लेकर कई बदलाव किये गए हैं। विज्ञप्ति में कहा गया कि शहीद सैनिक की विधवा को वर्तमान में दिए जाने वाले 1 हजार रुपये के मासिक आर्थिक सहायता को बढ़ाकर 5 हजार रुपये कर दिया गया है। वहीं शहीदों के बच्चे जिन्हे 25 साल की उम्र तक पढाई के लिए हर महीने 500 रुपये बढ़ाकर अब 5 हजार कर दिया गया है।
अविवाहित शहीद जो अभी अपने माता पिता के साथ ही रह रहे होते हैं उनके माता -पिता को एकमुश्त 50 हजार रुपये मुआवजा दिया जाता था और मासिक 500 रुपये । जिसे बढ़ा कर अब एकमुश्त मुआवजे को अब 5 लाख और मासिक मुआवजे को बढाकर 5 हजार कर दिया गया है।

 

किसकी मांग पर लिया गया यह फैसला

यह फैसला सरकार द्वारा पूर्व सैनिकों की मांगों को लेकर किये जा रहे आंदोलन को देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है। जिसमें शहीद सैनिकों के परिवारों को अधिक मुआवजा देने की मांग भी शामिल थी । हालांकि आंदोलन कर रहे पूर्व सैनिक इस बात का भी विरोध कर रहे हैं। गुजरात पूर्व सैनिक संघ के अध्यक्ष जितेंद्र निमावत का कहना है कि , ‘‘हमें सरकार द्वारा की गई इस तरह की घोषणा के बारे में पता नहीं है। हम इस पर तभी विश्वास करेंगे जब कोई मंत्री हमसे संपर्क करेगा और हमें बताएगा कि सरकार ने हमारी मांगों पर क्या फैसला किया है। हम चाहते हैं कि सरकार गारंटीकृत प्रेषण (जीआर) जारी करे। ’’

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD