[gtranslate]
Country

‘पोता दो या पांच करोड़’

उत्तराखंड की देवनगरी हरिद्वार में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिसमें एक वृद्ध दंपत्ति ने अपने बहू व बेटे पर पोता-पोती के सुख से वंचित कर मानसिक पीड़ा व उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए कोर्ट में याचिका दायर की।
 
उन्होंने अपने बेटे व बहू से ढाई-ढाई करोड़ रुपये दिलाने की मांग की है। दंपती का यह भी कहना है कि या तो हमें एक साल के भीतर पोता दे दिया जाए या फिर हर्जाने के तौर पर पांच करोड़ रुपये दिए जाएं।
 
हरिद्वार की बीएचईएल कंपनी में अधिकारी रहे संजीव रंजन प्रसाद ने अपने बहू और बेटे पर यह दावा करने के साथ ही कोर्ट में भी मामला दर्ज करा दिया है। कोर्ट में पिता ने बेटे और बहू के खिलाफ घरेलू हिंसा की धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज कराया है। 
 
इस मामले में कोर्ट ने अगली तारीख 17 मई तय कर दी है। संजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि मां-बाप अपने भविष्य के लिए बच्चों की परवरिश करते हैं, उन पर पैसा खर्च करते हैं। लेकिन बच्चे नौकरी लगने के बाद अपने बूढ़े मां-बाप को भूल जाते हैं। 
 
फिलहाल, हरिद्वार में सिडकुल क्षेत्र की हरिद्वार ग्रीन कालोनी में अपनी पत्नी साधना के साथ रह रहे संजीव रंजन प्रसाद ने अपने अधिवक्ता अरविंद श्रीवास्तव के माध्यम से हरिद्वार के तृतीय अपर सिविल जज (सीनियर डिवीजन) की अदालत में हर्जाने का दावा दाखिल कर दिया है। इस दावे में उन्होंने कहा है कि उन्होंने अपने बेटे श्रेय सागर की पढ़ाई में दिल खोलकर पैसा खर्च किया था। 
 
इस पर 35 लाख रुपये खर्च कर पायलट की ट्रेनिंग के लिए अमेरिका भेजा। आज उनका बेटा एक एयर लाइंस कम्पनी में बतौर पायलट कैप्टन तैनात है। इसी के साथ ही उनकी बहू शुभांगी सिन्हा नोएडा में जॉब करती है। संजीव रंजन प्रसाद ने यह भी दावा किया है कि उन्होंने अपनी बहू को 60 लाख की ऑडी भी दिलवाई है। 

You may also like

MERA DDDD DDD DD