[gtranslate]
Country

यूपी की घिनोनी राजनीति: नही माना प्रत्याशी तो बेटी का अपहरण कर किया गैंगरेप

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की आहट हो चुकी है । येन – केन – प्रकारेण प्रत्याशी पंचायत चुनाव में जीत दर्ज करना चाहते हैं। इसके लिए साम-दाम-दंड-भेद सब नीति अपनाई जा रही है। ऐसा चुनाव में पहले भी होता आया है । लेकिन इस बार उत्तर प्रदेश में घिनोनी राजनीति का रूप चेहरा सामने आया है।

जिसमें बाराबंकी जिले के एक गांव में प्रत्याशी को बिठाने के लिए पहले दबंगई की गई। जब वह नहीं माना तो उसे पैसे का लालच दिया गया। लेकिन इस पर भी जब वह चुनाव में सरेंडर करने को तैयार नहीं हुआ तो विपक्षियों ने उसकी मासूम बेटी को हथियार बना डाला।

कहा जा रहा है कि प्रत्याशी की नाबालिग बेटी को पहले रास्ते से उठा कर जंगल में ले जाया गया और उसके बाद 4 लोगों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया ।जिस प्रदेश में योगी आदित्यनाथ बेटियां बचाने का दावा करते हैं वहां बेटियों के साथ अन्याय अब चरम पर हो चुका है ।

बताया जा रहा है कि बाराबंकी जिले के थाना जैदपुर इलाके का वह गांव अब तनावपूर्ण हो गया है। फिलहाल वहां पुलिस बल तैनात कर दिया गया है । पीड़ित लड़की का पिता ग्राम प्रधान का उम्मीदवार है। वह ग्राम प्रधानी का चुनाव न लड़े इसके लिए कई दिनों से उस पर दबाव बनाया जा रहा था ।

पैसे का लालच भी जब उसे झुका नहीं पाया तो बेटी का अपहरण कर उसके साथ दरिंदगी का खेल खेला गया। जिसमें 4 लोगों का नाम आ रहा है । इनमें आकाश वर्मा , लालजी वर्मा , सचिन वर्मा और शिवम वर्मा आदि लोग शामिल हैं। जिन्होंने नाबालिक लड़की का स्कूल जाते समय अपहरण किया और उसके बाद उसके साथ गैंगरेप किया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD