[gtranslate]
Country

उंगलियों के अंतर से पता करें आपको कोरोना का खतरा कम है या ज्यादा

दो साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी कोरोना का खतरा कम नहीं हुआ है। समय के साथ कोरोना वायरस के कई नए रूप सामने आ रहे हैं। वहीं दुनिया भर के वैज्ञानिक इस वायरस से जुड़ी नई जानकारियों और इसके खतरों को समझने के लिए रिसर्च में लगे हुए हैं। कोरोना के बारे में जानकारी में अभी भी कोरोना का कारण अज्ञात है। साथ ही इस बीमारी के लक्षणों को लेकर कई नई थ्योरी सामने आ रही हैं।

वैज्ञानिकों ने हाल ही में वायरस को समझने के प्रयास में एक अध्ययन किया है, जिसमें पाया गया है कि किसी व्यक्ति की अँगुलियों को देखने से भी कोरोना के जोखिम का पता चलता है। अध्ययन में पाया गया कि न केवल किसी व्यक्ति की उंगलियों के आकार का भी देखकर कोरोना के खतरे को बता सकता है।

साइंटिफिक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों की अनामिका तर्जनी से छोटी होती है उनमें कोरोना का खतरा अधिक होता है।

दाएं और बाएं हाथ की अंगुली में अंतर वाले लोगों में भी कोरोना का खतरा

अध्ययनों से पता चला है कि छोटी अनामिका वाले लोगों में तीव्र लक्षणों के कारण अस्पताल में भर्ती होने की संभावना अधिक होती है। छोटी अनामिका वाले लोगों के गंभीर कोविड लक्षणों के कारण अस्पताल में भर्ती होने की संभावना अधिक होती है। अध्ययनों से यह भी पता चला है कि दाएं और बाएं हाथ की उंगलियों में बड़े अंतर वाले लोगों में वायरस के गंभीर लक्षण होने की संभावना अधिक होती है।

अध्ययन किसने किया?

अध्ययन यूके में स्वानसी विश्वविद्यालय, पोलैंड में लॉड्ज़ के मेडिकल विश्वविद्यालय और स्वीडन में करोलिंस्का विश्वविद्यालय अस्पताल के शोधकर्ताओं की एक टीम द्वारा किया गया था।

यह भी पढ़ें : खतरे की जद में दुनिया

You may also like

MERA DDDD DDD DD