[gtranslate]
Country

किसानों ने दी अब दिल्ली का दूध और सब्जी रोकने की चेतावनी

दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन का विरोध अभी तक जनता की तरफ से नहीं किया गया है । हालांकि सिंधु बॉर्डर पर कुछ तथाकथित जनता विरोध में उतरी थी । जिसमें कहा गया था कि उस जनता में बीजेपी के नेता ज्यादा थे। हालांकि यह मामला एक-दो दिन ही चला।

लेकिन अब अगर किसानों की नई रणनीति पर गौर करें तो उससे लगता है कि वह जनता के खिलाफ फैसला जा सकता है। जिसमें दिल्ली को सप्लाई होने वाले दूध और सब्जी तथा फल की आवाजाही रोकने की योजना बनाई जा रही है। अगर ऐसा होता है तो यह दिल्ली की जनता के खिलाफ किसानों का कदम होगा ।जनता इसका विरोध करने सड़कों पर उतर सकती है।

हालांकि, दिल्ली की जनता के लिए दूध सब्जी और फल रोकने का यह फैसला संयुक्त किसान मोर्चा के एक किसान नेता दर्शन पाल का है। जिसे अभी किसी भी मोर्चा के संगठन ने स्वीकृति नहीं दी है । यहां तक की गाजीपुर बॉर्डर पर नेतृत्व कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत ने इस संबंध में कुछ नहीं बोला है।

किसान नेता दर्शन पाल ने दिल्ली का फल सब्जी दूध रोकने की यह बात कल कितलाना टोल पर हुई पंचायत में कहीं। जिसमें 3 राज्यों हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश से दिल्ली में आने वाला दूध फल सब्जी पर रोक लगाने की बात कही जा रही है ।

हालांकि किसान नेता दर्शन पाल राकेश टिकैत के खिलाफ बोलते हुए दिख रहे हैं। 2 दिन पहले जब 6 फरवरी को चक्का जाम की घोषणा की गई तो उसमें उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में चक्का जाम नहीं करने का फैसला लिया गया था। इस फैसले के खिलाफ दर्शन पाल उतर गए हैं।

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD