[gtranslate]
Country

किसानों का चक्का जाम : गाजीपुर बॉर्डर को किया किसानों ने बंद, पंजाब में रोकी रेल

केंद्र सरकार द्वारा तीन कृषि ब्लॉक के विरोध में और किसान आंदोलन के 4 महीने पूरे होने के उपलक्ष्य में संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद का ऐलान किया है । जिसके मद्देनजर आज संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में पूरे देश के किसान चक्का जाम होगा । किसानों ने सुबह 6:00 बजे से लेकर शाम के 6:00 बजे तक यानी पूरे 12 घंटे भारत बंद का आव्हान किया गया है।

गाजीपुर बॉर्डर से खबर आ रही है। जिसके अनुसार किसान रास्ता रोककर बैठ गए हैं। जबकि दूसरी तरफ पंजाब में किसानों के द्वारा रेलवे ट्रैक को बाधित कर दिया गया है । हालांकि एनसीआर के इलाकों की बात करें तो यहां भारत बंद का असर अभी बहुत कम देखने को मिल रहा है। जबकि दिल्ली के सभी बॉर्डर पर किसान रास्ता रोकने की रास्ता रोकने की तैयारियों में जुटे हैं।

किसान नेता अभिमन्यु कोहाड़ ने कहा कि ‘भारत बंद’ का बड़ा प्रभाव हरियाणा और पंजाब में होगा। उन्होंने कहा कि चुनावी राज्यों-तमिलनाडु, असम, पश्चिम बंगाल, केरल और पुडुचेरी के लोगों से बंद में शामिल नहीं होने की अपील की गई है।

किसान मोर्चा के नेता दर्शनपाल ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा कि बंद के दौरान सब्जियों और दूध की आपूर्ति भी रोकी जाएगी। किसान संयुक्त मोर्चे ने एक बयान जारी कर कहा है कि संपूर्ण भारत बंद के तहत सभी दुकानें, मॉल, बाजार और संस्थान बंद रहेंगे। सभी सड़कों को जाम किया जाएगा और ट्रेनों के परिचालन पर रोक लगाई जाएगी। एंबुलेंस और अन्य आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाएं बंद रहेंगी।

यहां यह भी बताना जरूरी है कि ट्रेड यूनियन और व्यापार मंडल के नेताओं ने संयुक्त किसान मोर्चा को भारत बंद का समर्थन किया था । लेकिन दुकान और संस्थान फिलहाल खुले हुए दिखाई दे रहे हैं। जिससे लगता है कि व्यापारियों ने किसानों के भारत बंद को अस्वीकार कर दिया है।

गौरतलब है कि 8 दिसंबर 2020 को भी किसान संयुक्त मोर्चा ने भारत बंद का एलान किया था। इस दिन भारत बंद का असर अधिक देखने को मिला था । इस भारत बंद में कांग्रेस सहित आम आदमी पार्टी और कई पार्टियों ने अपना समर्थन दिया था। लेकिन 8 दिसंबर के भारत बंद के मुकाबले आज का भारत बंद फीका लग रहा है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD