[gtranslate]
Country

किसानों और पुलिस के बीच टकराव, पुलिस ने किसानों पर किया लाठीचार्ज, छोड़े आंसू गैस के गोले

आज देश अपना 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है।दिल्ली के राजपथ के साथ-साथ आज हर किसी की निगाहें दिल्ली की सीमाओं पर भी टिकी हैं। कृषि कानून के खिलाफ पिछले दो महीनों से आंदोलन कर रहे किसान आज दिल्ली की सीमाओं के आसपास ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं। कड़ी सुरक्षा और तमाम व्यवस्थाओं को करने के बाद दिल्ली पुलिस ने इसकी इजाजत दी है। हालाकि इससे पहले किसानों ओर सरकार के बीच कई बार वार्ता ही चुकी है लेकिन हर बार की तरह वार्ता बेनतीजा निकली है। किसान आज अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे है। किसान ट्रैक्टर के द्वारा दिल्ली में परेड कर रहे है।

लेकिन अब कई जगह से खबरें आ रही है कि किसानों और पुलिस के बीच टकराव हो गया है। गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों ने पुलिस द्वारा लगाए गए बैरिकेड तोड़ दिए है। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े है। इसके साथ ही किसानों पर लाठीचार्ज किया गया है। दरअसल, अक्षरधाम से पहले एनएच 24 पर पुलिस ने बैरिकेडिंग की हुई थी, लेकिन कुछ किसानों के जत्थे ने ट्रैक्टरों के साथ कुछ बैरिकेडिंग को तोड़कर दिल्ली की तरफ घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। किसानों को वहां से खदेड़ा गया है।

वहीं दूसरी तरफ नोएडा मोड़ पर किसानों और पुलिस के बीच फिर टकराव हुआ है। किसानों ने बैरिकेड्स को तोड़कर फेंक दिया है। किसानों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही के कारण यह भिड़ंत हुई है। अभी भिड़ंत के बाद किसानों को उनके रूट पर जाने के लिए कह दिया गया है।

भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वो गणतंत्र दिवस मनाने आये है, हम शांतिपूर्ण रैली निकाल रहे है और तय रुट से वापस आ जाएंगे, मेरी सरकार से अपील है कि वह अपनी जिद छोड़ दे और एक छोटी सी मांग मान ले, सब किसान अपने खेतों में चले जाएंगे।

सिंघु बॉर्डर से किसानों का ट्रैक्टर मार्च शुरू हो गया है। बार-बार दिल्ली पुलिस की ओर से किसानों से नियमों का पालन करने की अपील की जा रही है। इसके साथ ही रूट के बारे में बताया जा रहा है। किसानों को राजीव गांधी ट्रांसपोर्ट पर रोक दिया गया है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD