[gtranslate]
Country

ओवैसी के आरोपों पर यूरोपीयन सांसदों ने कहा- ‘हम नाज़ी नहीं, हमें राजनीति से कोई मतलब नहीं’

यूरोपियन यूनियन के सांसदों के कश्मीर दौरे पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी कड़ी में एक बार फिर कश्मीर दौरे पर आए यूरोपीय सांसदों पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन के अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने हमला बोला और कहा कि हिटलर को भी जनता ने ही चुना था। उन्होंने कहा कि यूरोपीय सांसदों की विचारधारा हिटलर से जुड़ी है और वो इस्लामोफोबिया से ग्रस्त हैं। इतना ही नहीं ओवैसी ने एक बार फिर यूरोपीय सांसदों के दौरे पर सवाल उठाया और कहा कि उनके दौरे का खर्च क्या विदेश मंत्रालय ने उठाया। इससे पहले ओवैसी ने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए मशहूर गाने का जिक्र किया था। दरअसल असदुद्दीन ओवैसी ने यूरोपियन यूनियन के सांसदों के कश्मीर दौरे को लेकर मोदी सरकार पर सवाल उठाए थे। ओवैसी ने ट्वीट किया था कि गैरों पर करम अपनों पर सितम, ए जाने वफा ये जुल्म न कर। रहने दे अभी थोड़ा सा धरम। दरअसल यह तंज ओवैसी ने विपक्ष के नेताओं को जम्मू-कश्मीर के दौरे पर जाने से रोकने पर कसा था। केंद्र सरकार ने विपक्ष के नेताओं को घाटी का दौरा करने से रोका था।

वहीं असदुद्दीन ओवैसी द्वारा यूरोपीय सांसदों को नाजी प्रेमी कहे जाने का जवाब आज यूरोपीय यूनियन के सांसद थियरे मारियानी ने दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें नाजी कहना गलत है। थियरे मारियानी ने कहा, “मैंने कुछ अखबारों में देखा कि हमें नाज़ी कहा गया। मुझे नहीं पता ऐसा क्यों कहा गया। ऐसे आरोप से दौरे की शुरुआत करना अजीब था। आप मेरा अतीत देखेंगे तो पता चलेगा कि अगर मैं नाज़ी होता तो 14 बार संसद के लिए चुना नहीं जाता। मेरी सलाह है कि आरोप लगाने से पहले आप मेरी बायोग्राफी देख लें।“

ओवैसी ने यूरोपीय सांसदों को फासिस्ट और इस्लामोफोबिया से भी पीड़ित बताया था जिसपर सांसदों ने कहा, “मैं इस बात से हैरान हूं कि हमारे दौरे को गलत तरीके से पेश किया गया। कुछ लोगों ने हमारे दौरे को इस तरह से पेश किया कि हम इस्लामोफोबिया से पीड़ित हैं लेकिन ये सच नहीं है। हमें फासिस्ट भी कहा गया लेकिन हमें फासिस्ट नहीं कहा जा सकता है।”

ओवैसी के हिटलर वाले आरोप पर सांसदों ने कहा, ‘’कश्मीर के बारे में काफी कुछ कहा और लिखा जा रहा है। हमें भारतीय राजनीति से कोई मतलब नहीं है। हम यहां की राजनीति में दखल देने नहीं आए हैं।  हम सिर्फ तथ्य जुटाने आए हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘’हम खुद देखना चाहते थे कि कश्मीर में किस तरह के बदलाव लाए जा रहे हैं। कुछ लोगों ने कहा कि हम नाज़ीवादी हैं। अगर ऐसा होता तो जनता हमें नहीं चुनती।’’

You may also like

MERA DDDD DDD DD