[gtranslate]
Country

मादक पदार्थों का फैलता कारोबार

drugs

गुजरात के कच्छ स्थित मुंद्रा पोर्ट पर हेरोइन की अब तक की सबसे बड़ी खेप पकड़ी गई है। इसकी कीमत 21 हजार करोड़ बताई जा रही है। पोर्ट पर आए दो कंटेनर्स से 3000 किलो हेरोइन बरामद की गई है, जिसे अफगानिस्तान से लाया गया है। इस मामले कुछ संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। मुंद्रा पोर्ट का मालिकाना हक़ गौतम अडानी की कंपनी के पास है।

दरअसल गुजरात के कच्छ में राजस्व खुफिया निदेशालय ने ड्रग्स तस्करी के मामले में कार्यवाही करते हुए अब तक के सबसे बड़ी ड्रग्स तस्करी का खुलासा किया है। राजस्व खुफिया निर्देशालय ने 3 हजार किलो हेरोइन को जब्त किया है। जिसकी कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लगभग 21 हज़ार करोड़ रुपये है। इस कार्रवाई में दो दंपतियों को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ अफगान नागरिकों की भी तलाश की जा रही है।

डीआरआई और कस्टम विभाग के संयुक्त ऑपरेशन के कारण ही इतनी बड़ी कामयाबी मिली है। कुछ दिनों पहले ही गुजरात में नशे के खिलाफ एक गुप्त ऑपरेशन शुरू किया गया था। ऑपरेशन के दौरान गौतम अडानी के मुद्रा पोर्ट के कंटेनर की तलाशी ली गई जिसमे 21 हज़ार करोड़ का डॉग्स बरामद किया गया। डीआरआई इस तस्करी को बहुत बड़े रैकेट से जुड़े होने की आशंका जता रही है। इस कंटेनर को आंध्रप्रदेश की एक कंपनी ने आयात किया था। आधिकारिक दस्तावेज में टेलकम पाउडर होने की जानकारी दी गई। लेकिन तलाशी के वक्त फॉरेंसिक एक्सपर्ट की जांच में पता चला कि जिसे टेलकम पाउडर कहा गया है, वो दरअसल हेरोइन है। ये कंटेनर अफगानिस्तान के कंधार स्थित हसन हुसेन लिमिटेड कंपनी ने निर्यात किए हैं। कंटेनर को ईरान के बंदरगाह अब्बास पोर्ट से भेजा गया था।

अफगानिस्तान से ड्रग्स का काला कारोबार

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में सबसे ज्यादा अफीम की खेती होती है। अफगानिस्तान में हेरोइन का उत्पादन हजारों टन में होता है। वहां से ही ईरान ,पाकिस्तान समेत अन्य देशों के रास्ते इसे दुनिया भर में पहुंचाया जाता है। गांजा और हशीश उत्पादन में भी अफगानिस्तान सबसे आगे माना जाता है। जिसका उत्पादन पाकिस्तान से सटे हेलमंड और कंधार प्रांत इलाके में होता है। करीब दो लाख से ज्यादा हेक्टेयर भूमि पर इसका उत्पादन होता है।

अब तक के मामले

8 मई 2021 को दिल्ली पुलिस द्वारा 860 करोड़ की हेरोइन बरामद की गई। जिसमें अफगानी आरोपी पति पत्नी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

दिल्ली पुलिस द्वारा 13 मई, 2021 को 250 करोड़ की हेरोइन जब्त की गई थी। पुलिस ने दो अफगानी नागरिकों समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया है।

इसी तरह 3 जून 2021 को राजस्थान के बीकानेर में बीएसएफ ने 300 करोड़ की कीमत की 54 किलो हेरोइन बरामद की।

10-जुलाई, 2021 को भी दिल्ली पुलिस की ओर से 2500 करोड़ रुपये की 350 किलो से अधिक हेरोइन के साथ चार आरोपियों को हिरासत में लिया गया।

भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा से अफगानिस्तान में बनी 14 करोड़ रुपये की हेरोइन 23 जुलाई, 2021 को बरामद हुई।

11 अगस्त 2021 को दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर तेहरान से शैम्पू में 7 किलो 620 ग्राम हेरोइन छिपाकर ला रहे 2 अफगानिस्तानी तस्करों को कस्टम विभाग ने गिरफ्तार कर लिया।

पंजाब पुलिस ने 21 अगस्त, 2021 को अमृतसर से 40.81 किलोग्राम हेरोइन के 39 पैकेट जब्त किये ,जिसकी कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में करीब 200 करोड़ रुपये तक है।

अप्रैल, 2017 को जोधपुर में अहमदाबाद से गई ट्रक से 1,745 किग्रा पॉपी हस्क (ओपियम पॉपी का हिस्सा) जब्त किया गया।

वर्ष 2012 में पाकिस्तान से आई एक मालगाड़ी से सीमेंट की बोरियों में 105 किग्रा हेरोइन बरामद हुई थी।

अडानी ग्रुप ने दी सफाई

इस मामले में अडानी ग्रुप ने एक बयान जारी किया है। समूह ने 16 सितंबर, 2021 को अफगानिस्तान से आए दो कंटेनर से अवैध ड्रग्स को जब्त करने और आरोपियों को पकड़ने के लिए डीआरआई को धन्यवाद दिया। साथ ही कहा कि कानून के अनुसार डीआरआई को जांच करने का अधिकार है। पोर्ट ऑपरेटर कंटेनर की जांच नहीं कर सकता है। हमारी भूमिका बंदरगाह चलने तक सीमित है। हमें उम्मीद कि इस बयान से अडानी समूह के खिलाफ सोशल मीडिया पर चलाए जा रहे झूठे प्रचार पर विराम लगेगा।

विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा

अडानी ग्रुप पोर्ट पर मिले 3 हजार किलोग्राम हेरोइन मामले पर केंद्र सरकार को घेरते हुए कांग्रेस पार्टी ने हैरानी जताते हुए कहा कि गुजरात से आने वाले प्रधानमंत्री मोदी इस ड्रग्स तस्करी को तोड़ने में असफल क्यों रहे ? सरकार के नाक के नीचे से देश इतनी बड़ी मात्रा में ड्रग्स आखिर पहुंची कैसे ?
कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि हिंदुस्तान के इतिहास में पहली बार सबसे अधिक मात्रा में ड्रग्स जब्त किया गया है। ये ड्रग्स अफगानिस्तान से भारत भेजी गई थी। ये गंभीर मामला है।भारत के नौजवानों बर्बाद करने की यह साजिश है। गौरतलब है कि मुंद्रा पोर्ट का स्वामित्व उद्योगपति गौतम अडानी के पास है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस अडानी और अडानी समूह की प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह संग स्थित नजदीकियों का मुद्दा लगातार उठती रहती है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ‘हम दो -हमारे दो ‘के जरिए मोदी -शाह पर इन दोनों उद्योगपतियों को संरक्षण देने का आरोप लगते रहे हैं। ऐसे में हेरोइन की इतनी विशाल खेप का अडानी समूह द्वारा संचालित बंदरगाह से पकड़ा जाना एक बड़ा चुनावी मुद्दा बन सकता है।

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD