[gtranslate]
Country

दिल्ली एमसीडी भी ‘आप’ की

दिल्ली एमसीडी चुनाव में आम आदमी पार्टी ने बहुमत के साथ जीत हासिल की है। इसी के साथ 15 साल से एमसीडी की सत्ता में काबिज बीजेपी को बाहर का रास्ता देखना पड़ रहा है। नतीजों की बात करें तो अब तक आप ने 134 सीटें, बीजेपी 104, कांग्रेस 9 और निर्दलीय ने 3 सीटों पर जीत दर्ज की है।

 

दिल्ली एमसीडी में बीजेपी के 15 साल के शासन का अंत

दिल्ली एमसीडी में बीजेपी के पंद्रह साल के शासन का अंत हो गया है। एमसीडी में 2015 से बीजेपी का शासन है लेकिन अब केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी का शासन होगा। एमसीडी की 250 सीटों के लिए चार दिसंबर को मतदान हुआ था। 250 वार्डों में कुल 1349 प्रत्याशी मैदान में थे। अब दिल्ली नगर निगम में जीते हुए पार्षद मेयर का चुनाव करेंगे।

मेयर का चुनाव कैसे होता है?

दिल्ली में मेयर का सीधा चुनाव नहीं होता है। जीतने वाले पार्षद ही मेयर का चुनाव करते हैं। एमसीडी चुनाव जीतने वाली पार्टी का कार्यकाल 5 साल का होता है। लेकिन एक ही व्यक्ति 5 साल के लिए मेयर हो, ऐसा नहीं होता है। पहले दिल्ली में तीन एमसीडी थीं, अब एक है। महापौर या महापौर के कार्यालय का कार्यकाल एक वर्ष है। हर साल पार्षद मेयर का चुनाव करते हैं।

 

एमसीडी चुनाव :  मुस्लिम इलाकों में साफ हो गई ‘आप’

 

दिल्ली नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी ने प्रचंड बहुमत के साथ जीत दर्ज की है।नगर निगम के 250 वार्डों में से आम आदमी पार्टी 133 सीटों पर जीत दर्ज करती नजर आ रही है,जबकि भाजपा को 103 सीटें मिलती दिख रही है। कांग्रेस ने तो दहाई का भी आंकड़ा छू नहीं पाया है। इन सबके बावजूद आम आदमी पार्टी मुस्लिम इलाकों में बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी है। आम आदमी पार्टी के मुस्लिम चेहरा अमानतुल्लाह खान और दिल्ली दंगे के आरोपी ताहिर हुसैन के इलाके में मुसलमानों ने केजरीवाल को अहमियत नहीं दी है। सीएए-एनआरसी के खिलाफ आंदोलन वाले इलाके में भी आम आदमी पार्टी को मुस्लिमों ने नकार दिया है। आम आदमी पार्टी को सिर्फ पुरानी दिल्ली के इलाके के मुस्लिमों ने ही वोट दिया है, जिसके चलते वह जामा मस्जिद और बल्लीमरान के इलाके में जीत दर्ज किया है।

 

आम आदमी पार्टी के मुस्लिम चेहरा और दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष अमानतुल्लाह खान के ओखला विधानसभा क्षेत्र के तहत 5 पार्षद सीटें आती है।  इसमें मदनपुर खादर ईस्ट,मदनपुर खादर वेस्ट, सरिता विहार,अबुल फजल एन्क्लेव और जाकिर नगर वार्ड शामिल हैं,जिसमे आम आदमी पार्टी पूरी तरहसफाया हो गया है। इसमें दो सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है,जबकि भाजपा के खाते में दो सीट आई है।  एक सीट ही आम आदमी पार्टी को मिली है। मदनपुर खादर वेस्ट सीट से भाजपा के ब्रह्म सिंह बिधूड़ी और सरिता विहार से नीतू मनीष जीती हैं। अबुफजल वार्ड से कांग्रेस की अरीबा खान और जाकिर नगर से नाजिया दानिश जीती हैं। मदनपुर खादर ईस्ट वार्ड से आप आदमी पार्टी के प्रवीण कुमार आगे चल रहे हैं। इसी इलाके में शाहीन बाग आता है, जहां पर बड़ी संख्या में महिलाओं ने सीएए-एनआरसी के खिलाफ आंदोलन शुरू किया था।

इसके अलावा दिल्ली के मुस्लिम बहुल सीलमपुर वार्ड पर निर्दलीय उम्मीदवार हज्जन शकीला ने जीत दर्ज की है। इस सीट पर आम आदमी पार्टी के कैंडिडेट ने चुनाव लड़ने से पीछे हट गया था और निर्दलीय शकीला को समर्थन किया था। कांग्रेस की मुमताज को मात दिया है।सीलमपुर इलाके की चौहान बांगर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी शागुफ्ता चौधरी जीती हैं, जहां वो आम आदमी पार्टी की आसामा बेगम को मात दी है। मुस्तफाबाद वार्ड नंबर 243 से कांग्रेस की सबीला बेगम ने जीत दर्ज की है। बृजपुरी वार्ड नंबर 245 से कांग्रेस की नाजिया खातून आगे चल रही हैं और आम आदमी पार्टी की अरफीन नाज पीछे हैं। घोंडा पार्षद सीट पर भाजपा की प्रीति गुप्ता आगे चल रही है। इसी वार्ड में भाजपा सांसद मनोज तिवारी और पूर्व विधायक कपिल मिश्रा मतदाता है। दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप कपिल मिश्रा पर भी मुस्लिम समुदाय ने लगाया था। मौजपुर वार्ड से भाजपा प्रत्याशी अनिल गौड़ ने जीत दर्ज की है। गौड़ कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए थे और एक बार फिर से पार्षद बनने में कामयाब रहे है। यमुना विहार वार्ड में भाजपा के प्रमोद गुप्ता ने जीत दर्ज की है। इससे पहले भी वो पार्षद रहे हैं। ऐसे ही कर्दमपुरी और करावल नगर में भी भाजपा ने जीत दर्ज की है। दयालपुर वार्ड में भी भाजपा के पुनीत शर्मा ने जीत दर्ज की है। वहीं,गोकुलपुरी सीट पर आम आदमी पार्टी ने जीत दर्ज की है,तो ब्रह्मपुरी वार्ड में भी आम आदमी पार्टी के छाया गौरव शर्मा, भजनपुरा में आप की रेखा रानी और श्रीराम कालोनी वार्ड नंबर 246 से आम आदमी पार्टी के मोहम्मद आमिल मलिक आगे चल रहे हैं। सुभाष मोहल्ला में आम आदमी पार्टी की मंजू सेतिया ने जीत दर्ज की है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD