[gtranslate]
Country

केजरीवाल ने सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को दिए कोरोना मृत्यु दर को शून्य करने के आदेश

केजरीवाल ने सभी स्वास्थ्य अधिकारियों को दिए कोरोना मृत्यु दर को शून्य करने के आदेश

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना केसों में हो रही वृद्धि थमने का नाम नहीं ले रही है। हालांकि, दिल्ली में कोरोना रिकवरी दर 89.93 प्रतिशत है। इसी बीच कोरोना प्रसार को रोकने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि कोरोना से हो रही मौत की संख्या को जल्द शून्य पर लाने का प्रयास किया जाए।

दिल्ली में जिन चयनित कोविड 10 अस्पतालों में लगातार कोरोना मरीजों की मौतें हो रही हैं उनके ऊपर जाँच व मूल्यांकन करने के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया गया था। इस समिति द्वारा बुधवार को मुख्यमंत्री को रिपोर्ट भी सौंपी गई। इस रिपोर्ट में समितियों ने सभी अस्पतालों के बारे में अलग-अलग सुझाव दिया है, जिसे अब दिल्ली सरकार जल्द ही लागू करेगी।

जिन 10 अस्पतालों में लगातार कोरोना मरीज मृत्यु को  प्राप्त हो रहे हैं उन अस्पतालों में मौत के कारणों को जानने और जायजा लेने के लिए इन चारों समिति को जिम्मेदारी दी गई थी। साथ ही साथ समितियों को आवंटित अस्पतालों में यह भी जानकारी लेने के लिए कहा गया था कि कोरोना रोगियों के इलाज में सभी मानकों और नियमों का ख्याल रखा जा रहा है या नहीं।

आवंटित अस्पतालों का समिति ने दौरा किया। समिति द्वारा अस्पतालों में मरीजों को कैसी सुविधा मिल रही है इसका भी मूल्यांकन किया गया और बुधवार को इसकी विस्तृत रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी गई। इसी दौरान समिति की तरफ से दिए गए सुझावों को लागू करने पर भी सहमति जताई गई है। समिति की ओर से अलग-अलग अस्पतालों के लिए अलग-अलग सिफारिशे लगाई गई है।

दिल्ली में कोरोना के कारण उत्पन्न स्थिति पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल स्वयं नजर रख रहे हैं। इससे मौतों की दर में काफी कमी आई है। सीएम के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने बीते सप्ताह 4 समितियों का गठन किया था। सभी समितियों में 4-4 सदस्यों का गठन किया गया है। समिति में 4 सदस्य्यों मे से दो सदस्य आंतरिक चिकित्सा और दो सदस्य एनेस्थेसिया के विशेषज्ञ है।

समितियों द्वारा दिए गए सुझाव

जीटीबी अस्पताल

  • कोविड वार्डों को आरंभ की जाँच के लिए एचएफएनओ/ बीआईपीएपी मशीनों से लैस किया जाना चाहिए।
  • बीमार रोगी को जल्दी से जल्दी आईसीयू मे पहुंचना।
  • मरीजो के इलाज के लिए प्लाज़्मा कि संख्या को बढ़ाया जाना चाहिए।

सफदरजंग अस्पताल

  • शुरुआती चेतावनी स्कोर कार्डों का उपयोग किया जाना चाहिए, ताकि गंभीर मरीजों का तत्काल पता लगाया जा सके और उन्हें वार्डों से आईसीयू में स्थानांतरित किया जा सके कोविड आईसीयू बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए।

लोक नायक अस्पताल

  • शुरू के चेतावनी स्कोर कार्डों का प्रयोग किया जाना चाहिए, जिससे गंभीर मरीजों का जल्दी से जल्दी पता लगाया जा सके और उन्हें वार्डों से आईसीयू में जल्दी से  जल्दी स्थांतरित किया जा सके।

सर गंगा राम अस्पताल

  • जितने भी मरीज बेहद लंबे वक्त से वेंटिलेटर पर है। उनकी बीमारी का शीघ्र ही पता लगाना चाहिए।

You may also like

MERA DDDD DDD DD