[gtranslate]
Country

दिल्ली में “कोवैक्सीन” का स्टॉक हुआ खत्म,सरकार ने बंद किए सेंटर 

कोरोना महामारी से देश में  तबाही मची हुई है। इस  महामारी के तांडव के आगे  स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह लड़खड़ा गई है। हालात इतने ख़राब हो गए हैं कि अस्पताल ऑक्सीजन, दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की कमी का सामना कर रहा है तो दूसरी तरफ वैक्सीनेशन को लेकर राज्यों और केंद्र सरकार के बीच गहमागहमी जारी है। इस बीच अब दिल्ली ने भी भारत बायोटेक की बनाई ‘कोवैक्सीन’ की कमी का दावा किया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने  कहा कि राजधानी में कोवैक्सीन का स्टॉक खत्म हो चुका है और इसलिए उसके सेंटर बंद करने पड़ रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि भारत बायोटेक की ओर से जवाब दिया गया है कि केंद्र के निर्देशों से इतर वैक्सीन उपलब्ध नहीं कराई जा सकती है। हालांकि, भारत बायोटेक ने कल 11 मई  को ही उन राज्यों की सूची जारी की थी जिन्हें वह केंद्र के हस्तक्षेप के बिना सीधे वैक्सीन सप्लाई कर रहा है। इसमें दिल्ली का भी नाम शामिल है।

सिसोदिया ने कहा, ‘कोवैक्सीन (भारत बायोटेक) ने कल चिट्ठी लिखकर कहा है कि वैक्सीन नहीं दे सकते हैं क्योंकि वैक्सीन उपलब्ध नहीं है।उन्होंने कहा है कि संबंधित सरकारी अधिकारियों के कहने पर राज्यों को वैक्सीन दे रहे हैं। वे कह रहे हैं कि जितना केंद्र कह रहा है उससे ज्यादा वैक्सनी नहीं दे सकते।’ सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार ने कुल 1.34 करोड़ डोज  मांगी थीं। इसमें से 67 लाख कोवैक्सीन और 67 लाख कोविशील्ड की खुराकें मांगी गई थीं। हालांकि, कोवैक्सीन ने कल चिट्ठी लिखकर कहा है कि वह टीके की आपूर्ति नहीं कर सकते। उन्होंने आगे कहा, ‘हमारे पास वैक्सीन का जो भी स्टॉक था वो खत्म हो गया है। हमारे पास कोविशिल्ड के जो सेंटर थे वे चल रहे हैं। कोवैक्सीन के सेंटर हमें बंद करने पड़े हैं।’

भारत बायोटेक की को-फाउंडर सुचित्रा एला ने  ट्वीट कर यह कहा था कि कुछ राज्य उनकी मंशा पर सवाल उठा रहे हैं, जो कि दुखदायी है। उन्होंने यह भी बताया कि कंपनी के 50 कर्मचारी कोविड संक्रमित हैं और फिर भी 10 मई को कुछ राज्यों को कोवैक्सीन की खेप भेजी गई है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD