[gtranslate]
Country

जल्द शुरू होगी देश की पहली अंडर वाटर मेट्रो

  •      प्रियंका यादव, प्रशिक्षु

वर्ष 24 अक्टूबर 1984 में कोलकाता में मेट्रो ट्रेन सेवा की शुरुआत हुई थी। जिसका उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा किया था। तब कोलकाता ने 20वीं सदी में देश की पहली मेट्रो सेवा शुरू करके इतिहास रचा था। कोलकाता पुराना और ऐतिहासिक शहर है। एक समय में यह भारत की राजधानी रही थी। इस शहर के अलावा देश के इन शहरों जैसे दिल्ली, बेंगलुरु, मुंबई, चेन्नई, जयपुर, कोच्चि, लखनऊ और हैदराबाद में भी अब मेट्रो ट्रेन चल रही है।

कोलकाता में ही अब देश की पहली अंडर वाटर मेट्रो टनल का निर्माण किया जा रहा है। यह मेट्रो हावड़ा और कोलकाता के बीच चलेगी। इस प्रोजेक्ट का संचालन कर रही सरकारी कंपनी कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के अनुसार वह अपना यह प्रोजेक्ट 2023 तक पूरा कर देगी। इस मेट्रो की टनल हुगली नदी के नीचे बनाई जा रही है। इसे कोलकाता और हावड़ा मेट्रो रूट से जोड़ा जायेगा। 16 .6 किलोमीटर लंबे इस रूट पर नदी के नीचे बनाये जाने वाली इस टनल की लंबाई 520 मीटर की होगी। भूमिगत गलियारे में 520 मीटर की दो सुरंगें हुगली नदी के नीचे बनाई गई हैं। यह भूमिगत सुरंग करीब आधा किलोमीटर तक हुगली नदी को पार करेगी। इसे रीवर बेड के करीब 33 मीटर नीचे बनाया जा रहा है। इस सुरंग के निर्माण में रूस और थाइलैंड की मदद ली जा रही है। इस टनल में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेन दौड़ पाएगी।

इस अंडर वाटर मेट्रो को कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन बना रहा है। साट सुपरवाइजर मिथुन घोष ने टनल सुरक्षा के बारे में बताते हुए कहा है कि टनल में यात्रियों के लिए पैदल चलने के लिए रास्ता बनाया जाएगा ताकि किसी आपातकालीन अथवा तकनीकी समस्या उत्पन्न होने पर यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके। घोष ने बताया कि इस मेट्रो का लगभग 80 फीसदी काम पूरा कर लिया गया है और उम्मीद की जा रही है कि अगले साल 2023 में इसे शुरू कर दी जाएगी।
इस रूट पर कुल 17 मेट्रो स्टेशन बनाए गए हैं। इनमें हावड़ा मैदान, हावड़ा, न्यू महाकर्ण, एस्प्लेनेड (म्ेचसंदंकम), सियालदाह, फूलबाग, साल्टलेक स्टेडियम, बंगाल केमिकल, सिटी सेंटर, सेंट्रल पार्क, करुणामई और साल्टलेक सेक्टर-5 शामिल स्टेशन शामिल हैं।

हाई टेक तकनीक का प्रयोग
ट्रेन को पानी के रिसाव से सुरक्षित रखने के लिए 4 हाई टेक सुरक्षा कवच सुरंग के भीतर लगवाए गए हैं। इस ट्रेन को सुरंग पार करने में मात्र 1 मिनट लगेगा। हुगली नदी के अंदर बनी यह सुरक्षा देश की हाईटेक तकनीक का प्रतीक है। इससे पहले जमीन के नीचे सुरंग में चलने वाली ट्रेन कभी किसी नदी में नहीं गुजरती थी, ऐसे में पानी के अंदर ट्रेन चलाकर कीर्तिमान रच रहा है।

आठ लाख लोगों के लिए रोजाना सफर की संभावना
यह देश की सबसे सस्ती मेट्रो सेवा होगी। एक स्टेशन से दूसरे तक का किराया मात्र 5 रुपए होगा। इसमें कई तरह की यात्री सुविधाएं भी होंगी। इसमें यात्रियों के लिए प्लेटफॉर्म स्क्रीन डोर और डिटेक्शन सिस्टम जैसी आधुनिक सुविधाएं होंगी। इससे कोलकाता, उत्तर 24 परगना और हावडा जिले में रहने वाले लोगों को फायदा पहुंचेगा। करीब 8 लाख लोग रोजाना इससे सफर कर सकते हैं। देश की पहली अंडर वाटर मेट्रो ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना पूरी करने की अनुमानित लागत 8,575 करोड़ रुपए और पूरा होने की लक्ष्य तिथि दिसंबर, 2021 थी लेकिन अब 2023 से मेट्रो शुरू करने की खबर है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD