[gtranslate]
Country

कोरोना के नए स्ट्रेन ने बढ़ाई भारत की चिंता , दिल्ली में मिले सबसे ज्यादा मामले

पिछले एक साल से देश में कोरोना वायरस का प्रकोप अभी थमा नहीं है।  केन्द्र व राज्य सरकारें मिलकर इसकी रोकथाम के लिए लगातार प्रयास कर रही हैं ।  कोरोना वैक्सीन को तैयार करने का काम भी जोरों पर है। देश में इस महामारी की चपेट में आकर अब तक एक लाख 48 हजार 439 लोगों की मौत हो चुकी है।इस महामारी की अभी तक देश में कोई वैक्सीन नहीं बन पाई है और अब इस महामारी के दूसरे स्ट्रेन ने देश अपने पांव  पसारने शुरू कर दिए हैं।

कल 29 दिसंबर को इस नए स्ट्रेन के  14 नये मामले आए हैं। इससे एक दिन पहले छह ऐसे केस आए थे। सभी छह लोग ब्रिटेन से लौटे थे। देश में जो नये क़िस्म के कोरोना संक्रमण के मामले आए हैं वह नए क़िस्म का कोरोना वही है जो ब्रिटेन में सबसे पहले सामने आया था। यह काफ़ी तेज़ी से फैलता है। अब संक्रमण में तेज़ी आने के डर से सरकार पिछले एक महीने में ब्रिटेन से लौटे क़रीब 33 हज़ार लोगों का पता लगाने में जुटी है।

जुलाई के बाद सबसे कम कोरोना के केस आने के बावजूद नए  सिरे से चिंताए  पैदा क्यों हो गई हैं? दरअसल, ब्रिटेन से आए यात्रियों में नए  क़िस्म का कोरोना संक्रमण मिलने के बाद अजीब सा डर है और यह अधिकारियों में भी दिख रहा है। तभी तो ताबड़तोड़ फ़ैसले लिए जा रहे हैं। इस नए  क़िस्म के कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए विशेष जांच  बढ़ाने की तैयारी है। इसके लिए सरकार की 10 प्रयोगशालाओं को जोड़ा गया है। विदेश से आने वाले सभी यात्रियों की जांच   की जाएगी। ब्रिटेन की उड़ानों पर प्रतिबंध के समय को बढ़ाया जा सकता है। कुल मिलाकर अधिकारियों से लेकर सरकार तक को लगता है कि कोरोना संक्रमण के तेज़ी से बढ़ने का डर है। यह तब है जब जनवरी में ही देश में टीकाकरण अभियान शुरू किए जाने की उम्मीद है।

यह डर इसलिए कि नए किस्म का कोरोना 70 फ़ीसदी अधिक तेज़ी से फैलता है।  हाल के दिनों में ब्रिटेन से लौटे लोगों की विशेष कोरोना जांच  (जीनोम सिक्वेंसिंग) की गई है जिनमें से इन लोगों में इस नए  क़िस्म के कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के सबसे अधिक मामले दिल्ली में मिले हैं। NCDC दिल्ली लैब में 14 सैंपल में से 8 नए स्ट्रेन से पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं, बेंगलुरु (NIMHANS) लैब में इसके संक्रमितों की संख्या 7 पाई गई है। कोलकाता और पुणे के लैब में नए कोरोना वायरस के एक-एक मामले सामने आए हैं। CCMB हैदराबाद में भी कोरोना के नए प्रकार के 2 मामले दर्ज किए गए हैं। उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक दो वर्षीय बच्ची के अंदर कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिला है।  बच्ची का परिवार कुछ दिनों पहले ही ब्रिटेन से लौटा था।  इस दौरान सभी के सैंपल को लैब में भेजा गया जहां बच्ची में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पुष्टि की गई है।

बता दें कि बच्ची के माता पिता केवल कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।  वहीं बच्ची में कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने से पूरे इलाके को सील कर दिया गया है और लगातार प्रशासन नजर बनाए हुए हैं औऱ टेस्टिंग कर रही है।

जानकारी के मुताबिक 25 नवंबर से 23 दिसंबर के बीच लगभग 33 हजार लोग ब्रिटेन से भारत आ चुके हैं और अलग – अलग एयरपोर्ट पर उतरकर वे अपने घरों तक पहुंचे हैं।

बता दे कि कोरोना के नए स्ट्रेन की शुरुआत के साथ ही भारत सरकार ने यूरोप और मिडिल ईस्ट से हवाई यात्रा को बंद कर दिया है।  यूरोप के डेनमार्क, ब्रिटेन, नीदरलैंड, स्वीडन, फ्रांस, इटली, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, स्विट्जरलैंड, कनाडा, जर्मनी, जापान, लेबनान जैसे कई देशों में कोरोना के नए स्ट्रेन पाए जा चुके हैं।

कुल मिलाकर देश के 10 लैब में 107 सैंपलों की जांच की गई है और इनमें से 20 कोरोना वायरस के नए प्रकार से पॉजिटिव पाए गए हैं। बता दें कि यह आंकड़ा 29 दिसंबर  तक की जांच के हैं। आशंका जताई जा रही है कि इस वायरस से संक्रमितों की संख्या में और भी इजाफा हो सकता है। सबसे पहले ब्रिटेन में मिला वायरस का नया स्वरूप दुनिया के कई देशों  में  पाया गया है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD