[gtranslate]
Country

टोंक के कसाईबाड़ा में दूसरी बार हुआ कोरोना योद्धाओं पर हमला, 3 पुलिसकर्मी घायल

राजस्थान के टोंक इलाके में कसाईबाड़ा ऐसा स्थान है जहां कोरोना योद्धा हर बार उपद्रवियों का शिकार बनते हैं। आज पहली बार नहीं बल्कि इससे भी पहले जब कोरोना की शुरुआत हुई थी तब भी राजस्थान के इसी कसाईबाड़ा में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ मारपीट की गई।

आज एक बार फिर इसी प्रक्रिया को दोहराया गया । जिसमें तीन पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए । हालांकि पुलिस पर हमला करने वाले करीब दो दर्जन लोगों को हिरासत में ले लिया गया है। लेकिन सवाल यह है कि जनता की जान बचाने वाली पुलिस की जान की दुश्मन आखिर उपद्रवी भीड क्यों बन रही है?

वह भीड़ जिसको लाकडाउन का पालन कराने पुलिस पहुंचती है। हालांकि, राजस्थान के डीजीपी भूपेंद्र सिंह कहते हैं कि उपद्रवियों को किसी कीमत पर भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा । दूसरी तरफ इस मामले में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट सख्त रुख अपनाए हुए हैं। उन्होंने कहा है कि कोरोना योद्धाओं पर हमले करने वाले बचने नहीं पाएंगे।

हुआ यूं था कि आज राजस्थान पुलिस टोंक के कसाईबाड़ा में पहुंची थी। पुलिस को सूचना मिली थी कि कसाईबाड़ा में लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं। जैसे ही पुलिस ने वहां जाकर लोगों को लॉकडाउन का पाठ पढ़ाना शुरू किया तो तभी अचानक भारी भीड़ उमड़ पड़ी । इस भीड के हाथ में लाठी थे और डंडे थे और इसी के साथ ही उनके हाथों में सरिए एवं तलवारें भी थी।

भीड़ ने पुलिस पर हल्ला बोल दिया । जिसके चलते तीन राजस्थान के पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए। एक घायल पुलिसकर्मी राजेंदर के अनुसार उन्हें इस बात का पता नहीं था कि उन पर हमला हो जाएगा । अगर ऐसा अंदाजा होता तो वह पुलिस फोर्स के साथ पहुंचते।

राजेंद्र बताते हैं कि गलियों से निकली उपद्रवियों की भीड़ ने अचानक उन पर सरिए और तलवारों से हमला बोल दिया। जिससे उनको गंभीर चोट लगी। पुलिसकर्मियों को फिलहाल स्थानीय अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है।

याद रहे कि टोंक का यह वही कसाइवाड़ा है जहां कोरोना महामारी के शुरुआत में ही आशा कार्यकत्रियों के साथ कुछ लोगों ने बदसलूकी की थी। उसके बाद अब उपद्रवियों का निशाना खाकी वर्दी बनी है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD