[gtranslate]
Country

मोदी मंत्र के बीच कोरोना कहर,गंगा राम हॉस्पिटल के 37 डाँक्टर पॉजिटिव

कल मुख्यमंत्ररियो के साथ हुई बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से बचाव के लिए सुझाव मांगे। उन्होंने कहा कि देश के राज्यों में हालात एक बार फिर से चुनौतीपूर्ण हो गए हैं। उन्होंने माइक्रो कंटेनमेंट ज़ोन बनाने पर ध्यान केंद्रित करने को कहा। याद रहे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मंत्र जारी होने के दौरान पूरे देश में कोरोना की दूसरी लहर प्रकोप फैला रही है। पूरा देश इसकी गिरफ्त में हैं।

इस दौरान वह एक शिक्षक की भूमिका में नजर आए । जिस तरह शिक्षक बच्चों को मास्क पहनना सिखाता है, उसी तरह प्रधानमंत्री मोदी ने मास्क पहनने की विधि बताते हुए कहा कि लोग उसे नाक से नीचे पहनते हैं। लेकिन मास्क को नाक के ऊपर से पहनना चाहिए। इसी दौरान बैठक में कई मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री की बातों से उघते नजर आए । यहां तक कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल झपकी लेते हुए दिखे। यह उस दौरान है जब देश की राजधानी दिल्ली में प्रसिद्ध हॉस्पिटल गंगाराम अस्पताल में 37 डॉक्टर कोरोना वायरस से पीड़ित पाए गए हैं। यह डॉक्टर वही है जो मरीजों का इलाज करते हैं। ऐसे में सवाल पैदा हो रहे हैं कि जब डॉक्टर ही कोरोना से पीड़ित है तो वह मरीजों का इलाज करते समय कोरोना संक्रमण को फैलने से कैसे रोक सकते हैं?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस संक्रामक बीमारी से लड़ने के लिए हमें इसकी जाँच पर फ़ोकस करना चाहिए। इस समस्या का यही सबसे बढ़िया इलाज है। राज्यों को चाहिए कि भले संख्या बढ़े लेकिन टेस्टिंग से नहीं घबराना है। पॉज़िटिव केस चाहे कितना बढ़ जाए अधिक से अधिक टेस्टिंग करते जाना है। इसके अलावा उन्होंने जाँच में आरटीपीसीआर टेस्ट को बढ़ाकर 70 फ़ीसद तक ले जाने का लक्ष्य दिया।

नरेंद्र मोदी ने इस मौक़े पर कहा कि ज्योतिबा फुले की जयंती 11 अप्रैल और बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की जयंती 14 अप्रैल के बीच ‘टीका उत्सव’ मनाया जाए। हमें इस दौरान ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका लगाने की कोशिश करनी चाहिए। मैं युवाओं से आग्रह करूंगा कि वे अपने आसपास के 45 साल से बड़े लोगों को टीका लगवाने में हरसंभव मदद करें। इस दौरान प्रधानमंत्री ने टीके की बर्बादी रोकने और संसाधनों का अधिकतम उपयोग कैसे हो, इस पर ध्यान रखने का अनुरोध भी किया।

You may also like

MERA DDDD DDD DD