[gtranslate]
Country

झुग्गी बस्तियों को लेकर सक्रिय हुई कांग्रेस,माकन ने सुप्रीम कोर्ट में डाली याचिका 

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कई वर्षों से हाशिये पर पड़ी कांग्रेस एक बार फिर झुग्गी -झोपड़ियों के लोगों की समस्याओं को लेकर सक्रिय हो रही है। एक समय झुग्गी बस्तियों को कांग्रेस का वोट बैंक माना जाता था। लगता है है कि पार्टी अपने इस पुराने वोटर को फिर से हासिल करने की रणनीति में है।

इस बीच पार्टी नेताओं ने दिल्ली में रेलवे ट्रैक के आसपास बसी करीब 48 हजार झुग्गी बस्तियों को हटाने के सुप्रीम कोर्ट  के आदेश के बाद सक्रियता दिखाई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने पूर्व जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच द्वारा झुग्गी बस्तियों को हटाये जाने के संबंध में  दिए गए इस आदेश को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आवेदन दिया है कि इन झुग्गी बस्तियों को न हटाया जाए।

कोर्ट के आदेश के बाद झुग्गियों को हटाने की कार्रवाई भी तेज कर दी गई है। सूत्रों के  मुताबिक रेलवे ने दिल्ली इलाके में झुग्गियों पर नोटिस चिपकाया है।

कांग्रेस का कहना है कि पूर्व जस्टिस अरुण मिश्रा की बेंच के फैसले से रेल की पटरियों के पास बसी झुग्गियों में रहने वाले करीब 10 लाख से अधिक लोग बेघर हो जाएंगे। लिहाजा कांग्रेस ने सर्वोच्च न्यायालय में इस मामले को लेकर समीक्षा याचिका दायर करने का फैसला किया है। कांग्रेस ने इस बर्बादी के लिए दिल्ली के मुख़्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। पार्टी ने कहा, जेजे कलस्टर में रह रहे लोगों की बर्बादी के लिए केजरीवाल सरकार जिम्मेदार है।

अजय माकन ने अदालत से अपील की है कि झुग्गी बस्तियों को हटाने से लाखों लोगों के सिरों पर छतें नहीं रहेंगी। उन्होंने इन लोगों के पुनर्वास की मांग की है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD