[gtranslate]
Country

मुख्यमंत्री योगी ने कोरोना से निपटना जरूरी समझा, नहीं करने जाएंगे पिता का अंतिम संस्कार

योगी ने कोरोना की बीमारी से निपटना जरूरी समझा, नहीं करने जाएंगे पिता का अंतिम संस्कार

एक तरफ पुत्र का फर्ज और दूसरी तरफ प्रदेश के मुखिया का फर्ज। ऐसे में योगी जी कौन से फर्ज को प्राथमिकता दें। यह सवाल आज हर किसी के जेहन में उस समय से ही चल रहा था तब से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिताजी आनंद सिंह बिष्ट का निधन हुआ था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए हर कोई यही सोच रहा था कि वह ऐसे समय में क्या करेंगे।

क्या वह अपने पैतृक प्रदेश उत्तराखंड में पिता की अंत्येष्टि में पहुचेंगे। ऐसे समय में जब देश और खासकर उत्तर प्रदेश में कोरोना बीमारी भयंकर रूप धारण कर चुकी है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ क्या फैसला लेंगे। और अंत में मुख्यमंत्री योगी ने पिता के अंतिम संस्कार की बजाय सूबे को प्राथमिकता दी।

ऐसी परीक्षा की घड़ी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैसला किया है कि वह अपने पिता की अंत्येष्टि में 21 अप्रैल को शामिल नहीं होंगे। इसके पीछे उन्होंने प्रदेश में दिनोंदिन बढ़ रही कोरोना महामारी का कारण बताया। इसी के साथ मुख्यमंत्री योगी ने एक पत्र लिखकर पिता के अंतिम संस्कार में ने पहुंचने की बात कही है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह पिता के दर्शन करने लाकडाऊन के बाद ही आ सकेंगे।

पिता को अर्पित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा है कि अपने पूज्य पिताजी के कैलाशवासी होने पर मुझे भारी दुख एवं शोक हैं। वह मेरे पूर्वाश्रम के जन्मदाता है। जीवन में ईमानदारी कठोर परिश्रम एवं निस्वार्थ भाव से लोकमंगल के लिए समर्पित भाव के साथ कार्य करने का संस्कार बचपन में उन्होंने मुझे दिया।

अंतिम क्षणों में उनके दर्शन की हार्दिक इच्छा थी। परंतु वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई को उत्तर प्रदेश की 23 करोड़ जनता के हित में आगे बढ़ाने का कर्तव्य बहुत जरूरी है। इसके कारण मैं नहीं आ सका। अंतिम संस्कार के कार्यक्रम में लॉकडाउन की सफलता और महामारी कोरोना को परास्त करने के की रणनीति के कारण भाग नहीं ले पा रहा हूं।

पूजनीय मां पूर्वाश्रम से जुड़े सभी सदस्यों से भी अपील है कि वह लॉकडाउन का पालन करते हुए कम से कम लोग अंतिम संस्कार के कार्यक्रम में रहे। पूज्य पिताजी की स्मृतियों को कोटि-कोटि नमन करते हुए उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा हूं । लॉकडाउन के बाद दर्शनार्थ आऊंगा।

गौरतलब है कि आज सुबह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिताजी आनंद सिंह बिष्ट का दिल्ली के एम्स हास्पिटल में निधन हो गया। उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली से उनके गांव पंचूरी यमकेश्वर ले जाया जा रहा है। जहां कल उनका अंतिम संस्कार होगा। योगी आदित्यनाथ को मिलाकर आनंद सिंह बिष्ट के तीन पुत्र हैं। जिनमें एक सेना में है तथा दूसरे गांव में ही गोरखनाथ कालेज को संचालित करते हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD