[gtranslate]
Country

टीआरपी फर्जीवाड़े की जांच के लिए CBI को लेनी होगी महाराष्ट्र सरकार की अनुमति 

टीआरपी  यानी टेलिविजन रेटिंग पॉइंट में फर्जीवाड़ा करने के मामले में नया मोड़ आ गया है। टीवी चैनलों द्वारा टीआरपी हासिल करने के लिए किए जा रहे फर्जीवाड़े की जांच  सीबीआई  को देने के बाद सीबीआई ने इस मामले में दिल्ली में केस भी दर्ज कर लिया था । राजधानी के हजरतगंज थाने में विज्ञापन एजेंसी गोल्डन रैबिट कम्युनिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड के क्षेत्रीय निदेशक कमल शर्मा ने पिछले हफ्ते  इस मामले में केस दर्ज कराया था।इस मामले में अब केंद्रीय जांच एजेंसी (CBI)  को अब महाराष्ट्र में बिना इजाजत एंट्री नहीं मिलेगी। महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने सीबीआई को दी गई आम सहमति  को कल 21 अक्टूबर को वापस ले ली है, इससे अब सीबीआई महाराष्ट्र में किसी मामले की जांच बिना महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के नहीं कर सकेगी।

बता दें कि इससे पहले राजस्थान , छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल  ने भी सीबीआई को बिना अनुमति केस की जांच पर रोक लगाई थी। महाराष्ट्र सरकार में गृह विभाग के उपसचिव कैलाश गायकवाड की ओर से सीबीआई जांच के संबंध में यह आदेश जारी किया गया है, लेकिन यह आदेश अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच में लागू नहीं होगी, क्योंकि यह जांच सुप्रीम कोर्ट  के आदेश से हो रही है।

दरअसल सीबीआई ने इस मामले में दिल्ली में केस भी दर्ज कर लिया था । राजधानी के हजरतगंज थाने में विज्ञापन एजेंसी गोल्डन रैबिट कम्युनिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड के क्षेत्रीय निदेशक कमल शर्मा ने पिछले हफ्ते  इस मामले में केस दर्ज कराया था। प्रदेश सरकार ने इस एफआईआर के आधार पर मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की थी। गौरतलब है कि टीआरपी में फर्जीवाड़े को लेकर मुंबई में तीन टीवी चैनलों और एक एंकर पर केस दर्ज किया गया है। इस विवाद के बाद टीआरपी मापने वाली संस्था ब्रॉडकास्टिंग ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने 12 हफ्तों के लिए टीआरपी पर रोक लगा दी है।

दरअसल, महाराष्ट्र सरकार नहीं चाहती कि टीआरपी (TRP) मामले की जांच सीबीआई करे।  इसलिए ठाकरे सरकार का यह निर्णय टीआरपी स्कैम जांच के बीच में सीबीआई के दखल के तौर पर देखा जा रहा है।  बता दें कि इस महीने की शुरुआत में टीआरपी में हेराफेरी को लेकर रिपब्लिक टीवी के खिलाफ जांच शुरू करने के बाद यह विवाद शुरू हुआ है।

गौरतलब है कि टीआरपी का घोटाला तब सामने आया था जब रेटिंग एजेंसी ब्राडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। इसके आधार पर मुंबई पुलिस ने टीआरपी में हेरफेर में धांधली की जांच शुरू की। मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने प्रेस वार्ता कर रिपब्लिक टीवी सहित फक्त मराठी और बॉक्स मराठी पर टीआरपी में हेरफेर का आरोप लगाया था। मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच इस मामले में अब तक 8 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD