Country

राजधानी की सड़कों पर आक्रोश

पुलवामा में आतंकी हमले के दौरान शहीद हुए सैनिकों के सम्मान में और देशवासियों को संकट की घड़ी में संयम से काम लेने के लिए काॅलेज की छात्राओं ने एक शांति मार्च का आयोजन किया था।
छात्राओं के हाथों में उन जवानों के नाम लिखी तख्तियां थीं जो पुलवामा में शहीद हुए थे। कुछ तख्तियां यह भी कह रही थीं कि आतंकवाद का कोई मजहब नहीं होता। शायद इसलिए ताकि देश में एक वर्ग विशेष के खिलाफ माहौल खराब न होने पाए।
छात्राएं सरकार से मांग कर रही थीं कि देश के दुश्मनों के साथ ही देश के उन गद्दारों को भी अब सबक सिखाया जाना चाहिए जो हिन्दुस्तान की जड़ों को खोखला करने की नापाक कोशिशों में जुटे हैं।
रविवार के दिन निकला छात्राओं का यह जुलुस हजरतगंज स्थित 1090 चैराहे से लोहिया पार्क तक गया और वहीं से वापस 1090 चैराहे पर आकर समाप्त हुआ। लगभग 5 किलोमीटर के शांति मार्च के दौरान छात्राओं का जोश छलक ही आता था। वे चाहकर भी स्वयं को रोक नहीं पा रही थीं। कुछ छात्राओं ने पाकिस्तान मुर्दाबाद और हिन्दुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए तमाम ऐसे नारे उद्घोषित किए जो यह प्रदर्शित कर रहे थे कि आतंकवादियों को अब किसी भी सूरत में न बख्शा जाए और आतंकवाद को पनाह देने वाले देश पाकिस्तान को भी अब सबक सिखाया जाना जरूरी है।
2 Comments
  1. ovariecyste 1 month ago
    Reply

    Testosterone is not honest in regard to the more advisedly of libido alone. Especially in environs of women, have an examination stems from a much more labyrinthine associated with supply of hormonal soatlec.afsnit.se/instruktioner/ovariecyste.php and edgy interactions. But allowances of men, while testosterone is not the in the main ditty, it does portion of a primary show consideration and the new-fashioned lifestyle may be your worst enemy.

  2. Geabeinhani 1 month ago
    Reply

    benefits of cbd cbd cream amazon

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like