[gtranslate]
Country

हंगामेदार होगा बजट सत्र ,सरकार को घेरने विपक्षी दलों को एकजुट करने में जुटी कांग्रेस 

मानसून सत्र में केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए नए कृषि कानूनों को लेकर देशभर के किसान करीब डेढ़ महीने से आंदोलित हैं। अब 29 जनवरी से संसद का बजट सत्र शुरू होने वाला है।

ऐसे में सरकार को घेरने के लिए विपक्ष जो  रणनीति बना रहा है उससे माना जा रहा है कि  इस बार बजट सत्र काफी हंगामेदार होने वाला है। बजट सत्र में नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन मुद्दे पर कांग्रेस  सरकार को घेरना चाहती है।  कांग्रेस की  अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी इस उद्देश्य से जल्द ही  विपक्षी दलों के  प्रमुख नेताओं के साथ बैठक करने वाली हैं।  इस बैठक में संसद सत्र से पहले विपक्षी दलों के साथ मिलकर किसान आंदोलन पर रणनीति तय की जाएगी।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जल्द ही समान विचारधारा वाले दलों के नेताओं के साथ एक औपचारिक या अनौपचारिक बैठक करेगी और किसान मुद्दों पर एक संयुक्त रणनीति पर चर्चा करेगी। लोकसभा में कम संख्या बल को देखते हुए कांग्रेस पार्टी निचले सदन में DMK, TMC और TRS जैसी क्षेत्रीय ताकतों के साथ हाथ मजबूत करने के प्लान पर काम कर रही है, ताकि विपक्ष की आवाज को बुलंद किया जा सके।

दरअसल मानसून  सत्र के दौरान कांग्रेस पार्टी तमाम विरोध प्रदर्शनों के बावजूद सत्तारूढ़ एनडीए के तीन महत्वपूर्ण कृषि बिलों को रोकने में नाकाम रही थी।  लोकसभा में एनडीए आक्रामक रहा और कांग्रेस नरम दिखी। लिहाजा कांग्रेस को उम्मीद है कि इस बार किसानों के  मुद्दे पर क्षेत्रीय दलों का साथ मिलेगा।

हालांकि मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा यानी उच्च सदन में विपक्षी दल आवाज बुलंद करने में सफल रहे थे।  राज्यसभा में विपक्षी दलों ने बेहतर प्रदर्शन किया था और निर्धारित प्रक्रियाओं को दरकिनार कर कृषि बिलों को पास कराने के सरकार के प्रयास पर हंगामा करने में कामयाब रहे थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने बताया कि कांग्रेस पार्टी थिंक टैंक को लगता है कि सत्र से पहले विपक्ष को अपनी रणनीति पर काम करना चाहिए और इसके लिए  बैठक जल्द ही होगी।  कांग्रेस पार्टी भी बहुत जल्द किसान आंदोलन पर 20 पेज की पुस्तिका लेकर आने वाली है।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने  बताया कि बुकलेट मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों के छिपे एजेंडे को उजागर करेगी। कांग्रेस नेता ने कहा, “हमने मोदी सरकार द्वारा पेश किए गए तीन कृषि कानूनों का गहन अध्ययन किया है। बुकलेट में हम बताएंगे कि वे किसानों और खेत मजदूरों को कैसे धोखा दे रहे हैं।  बुकलेट लोगों को इस सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में बताएगी कि वे एनडीए सरकार गरीब विरोधी हैं और समाज के कमजोर वर्गों के खिलाफ है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD