[gtranslate]
Country

समय से पहले सिमट सकता है बजट सत्र 

पिछले एक साल से पूरा देश निरंतर कोरोना महामारी के खिलाफ जंग लड़ रहा है। पिछले कुछ महीनों में बड़ी मुश्किल से देश के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली  कोरोना के संक्रमण से बाहर निकली थी । हालात सामान्य होने से जन जीवन भी तेजी से पटरी पर लौटने लगा था। लेकिन बीते कुछ दिनों से संक्रमण फिर तेजी से बढ़ने लगा है। बीते साल अक्टूबर-नवंबर में चरम पर पहुंचने के बाद फरवरी 2021 में मामले सौ से भी कम हो गए थे,लेकिन वर्तमान में जो स्थिति है उससे आशंका जाहिर की जा रही है कि संक्रमण अभी और बढ़ेगा। इसका कारण वायरस के स्वरूप में आया बदलाव है। इसलिए बहुत सतर्क रहने की जरूरत है। यही कारण है कि  तेजी से बढ़ रहे मामलों और पांच विधानसभाओं के चुनावों को देखते हुए संसद का बजट सत्र अपने तय समय से पहले ही खत्म होने के आसार हैं। इस बीच सरकार ने भी तेजी से अपना विधायी कामकाज निपटाना शुरू कर दिया है। सब कुछ ठीक रहा तो इसी सप्ताह बजट सत्र का समापन हो जाएगा।

बजट सत्र का सबसे महत्वपूर्ण कामकाज वित्तीय कामकाज होता है, जिसे संसद के दोनों सदनों से कल 24 मार्च  को पूरा कर लिया गया है। सरकार के कुछ महत्वपूर्ण विधेयक रह गए हैं जिनको वह तेजी से पूरा करने में जुटी हुई है। सूत्रों के अनुसार आज 25 मार्च को संसद का मौजूदा सत्र समाप्त किया जा सकता है। हालांकि सरकार सत्र के पहले जो लंबा-चौड़ा एजेंडा लेकर आई थी, वह अभी भी पूरा नहीं हो सका है, लेकिन उसके सभी महत्वपूर्ण विधेयक पारित हो चुके हैं।

गौरतलब है कि संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरुआत में ही विपक्ष के तमाम दलों ने सत्र को तय समय 8 अप्रैल से पहले ही समाप्त करने की मांग की थी, ताकि वे चुनाव प्रचार में हिस्सा ले सकें। इसे देखते हुए होली के पहले संसद सत्र समाप्त करने के लिए एक सहमति बनी थी। अब इस पर अमल किया जा सकता है।

आज  सत्र का आखिरी दिन होने की अटकलें:  सूत्रों के अनुसार आज 25 मार्च को  मौजूदा सत्र का आखिरी दिन हो सकता है, हालांकि इसकी अभी अधिकृत घोषणा नहीं की गई है। दरअसल सत्ता पक्ष और विपक्ष के तमाम नेता इन दिनों पांच विधानसभाओं के चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। लोकसभा में कांग्रेस को तो अपने नेता को भी बदलना पड़ा है। अधीर रंजन चौधरी के पश्चिम बंगाल चुनाव में व्यस्तता को देखते हुए कांग्रेस ने रवनीत सिंह बिट्टू को अपना नेता बनाया है। तृणमूल कांग्रेस, द्रमुक, अन्नाद्रमुक, वामपंथी दलों के अलावा भाजपा के भी तमाम नेता इन दिनों विधानसभा चुनाव में व्यस्त हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD