[gtranslate]
Country

AAP को रोकने के लिए भाजपा का ‘मिशन जीरो’

गुजरात विधानसभा चुनावों का ऐलान हो चुका है। पहले चरण में 89 सीटों पर 1 दिसंबर, तो दूसरे चरण में 93 सीटों पर 5 दिसंबर को मतदान होगा, जबकि गुजरात चुनाव के नतीजे हिमाचल प्रदेश के साथ 8 दिसंबर को आएंगे। ऐसे में देखना है कि भाजपा अपना सियासी वर्चस्व बनाए रखने में कामयाब हो पाती है या कांग्रेस की वापसी होगी या फिर आम आदमी पार्टी के सिर ताज सजता है।

 

इन सबके बीच भाजपा ने चुनाव में 150 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य निर्धारित किया है। तो वहीं पिछले 27 वर्षों से सत्ता का वनवास झेल रही कांग्रेस चुनाव में वापसी के लिए दमखम लगा रही है।भाजपा और कांग्रेस के मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश में पंजाब और केंद्र शासित प्रदेश दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी ने भी पूरी ताकत झोंक रही है। आम आदमी पार्टी के नेता अप्रैल महीने के बाद से ही गुजरात में लगातार चुनाव प्रचार कर रहे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी खुद गुजरात के लगातार दौरे कर रहे हैं। इस दौरान राज्य की जनता से अपील कर रहे है कि चुनाव जीतने के बाद सिस्टम बदल देंगे,भ्रष्टाचार खत्म कर देंगे, मुफ्त बिजली, बेहतर पढ़ाई और स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के वादे कर रहे हैं।

आम आदमी पार्टी के इसी सक्रियता ने तो सत्ताधारी भाजपा की टेंशन भी बढ़ा दी है। जिसके वजह से भाजपा को अपने चुनावी रणनीति में लगातार बदलाव कर रही है। भाजपा गुजरात में आम आदमी पार्टी को एक भी सीट पर जीत दर्ज नहीं करने देना चाहती है। इसके लिए भाजपा ने मिशन आम आदमी पार्टी जीरो अभियान शुरू किया है। इसका ऐलान खुद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने किया है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी का खाता ही ना खुले, इसके लिए भी प्रयास किए जाएंगे।

गौरतलब है कि,गुजरात विधानसभा चुनाव में वापसी करना भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल माना जा रहा है। ऐसे में भाजपा भाजपा किसी भी तरह की कोई कोताही नहीं बताना चाहती है। भाजपा के नेताओं का मानना है कि वो 150 से अधिक सीटें जीतने का अपना लक्ष्य प्राप्त भी कर लेते हैं। और आम आदमी पार्टी एक-दो सीटें भी जीत गई तो ये गुजरात में केजरीवाल की सेंध के तौर पर देखा जाएगा।आम आदमी पार्टी एक भी सीट न जीत पाए, इसके लिए अब खुद गृह मंत्री अमित शाह मैदान में आ गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह गुजरात की चुनावी रण जीतने और आम आदमी पार्टी को शून्य सीटों पर समेटने के लिए रणनीति तैयार कर रहे हैं। एक-एक सीट के समीकरणों और हालात का बारीकी से विश्लेषण कर रणनीति बनाई जा रही है। भाजपा का ध्यान ऐसी सीटों पर अधिक है जहां आम आदमी पार्टी से कड़ी टक्कर मिलती नजर आ रही है।अमित शाह पिछले कुछ दिनों से गुजरात में ही कैंप कर रहे हैं,वे टिकट वितरण से लेकर नाराज नेताओं को मना रहे है,ताकि विधानसभा चुनाव में होने वाले नुकसान से बचाया जा सके।

 

You may also like

MERA DDDD DDD DD