[gtranslate]
Country

कटारिया को मंत्री बनाकर एक तीर से दो निशाने साधेगी भाजपा

कल उत्तर प्रदेश के होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार में पश्चिम उत्तर प्रदेश के गुर्जर नेता अशोक कटारिया को स्थान मिलना लगभग तय हो चुका है ।अशोक कटारिया विधान परिषद सदस्य है और भाजपा के खाटी नेताओं में गिने जाते हैं । कटारिया का पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गुर्जर नेताओं में खासा रुतबा है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर प्रदेश मंत्रिमंडल में गुर्जरों को प्रतिनिधित्व नही देने के आरोप लगते रहे हैं । पिछले ढाई साल के कार्यकाल के दौरान गुर्जर समाज इस बात को लेकर कई बार नाराजगी जता चुका है । यहां तक कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गुर्जर समाज के एक बड़े नेता ने इसी उम्मीद से हरियाणा से आकर यहां विधानसभा का चुनाव लड़ा था ।

अवतार सिंह भड़ाना नामक यह नेता पूर्व में मेरठ से और फरीदाबाद से सांसद भी रह चुके हैं । लेकिन अवतार सिंह भडाणा को उम्मीद थी की भाजपा सरकार उन्हें मंत्रिमंडल में जरूर स्थान देगी । लेकिन ढाई साल तक इंतजार करने के बाद अवतार सिंह भड़ाना उम्मीद हार गए । यही नहीं बल्कि उन्होंने भाजपा छोड़ वापिस पुरानी पार्टी कांग्रेस का दामन थाम लिया ।

फिलहाल उत्तर प्रदेश में गुर्जर समाज के तीन विधायक है । हालाकि विधायकों की संख्या पहले पांच थी । जिनमें अवतार सिंह भड़ाना कांग्रेस में चले गए । जबकि दूसरे विधायक प्रदीप चौधरी कैराना से सांसद बन गए । इसके अलावा जो फिलहाल 3 विधायक है उनमें दादरी से तेजपाल नागर, लोनी से नंदकिशोर गुर्जर तथा मेरठ से सोमेंद्र तोमर है । इन तीनों ही विधायकों में कोई भी मंत्री पद के लिए सरकार को उपयुक्त नहीं लगा । जिसके चलते फिलहाल विधानसभा परिषद सदस्य अशोक कटारिया पर भाजपा मंत्री पद का दांव खेलने जा रही है ।

सोमवार को हो रहे मंत्रिमंडल विस्तार में अशोक कटारिया का नाम पहले नंबर पर है । भाजपा अशोक कटारिया को मंत्री बनाकर एक तीर से दो निशाने मारेगी । पहला यह कि कटारिया के मंत्री बनने पर गुर्जर समाज की नाराजगी दूर होगी तो दूसरा उनके मंत्री बनने पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश को भाजपा साध सकेगी ।

अशोक कटारिया ने 1989 से छात्र राजनीति से शुरुआत की थी। राम मंदिर आंदोलन से उन्होंने सक्रिय राजनीति की शुरुआत की और बीजेपी पार्टी में अपना कद बढ़ाया।

पार्टी में काफी अहम पद पर रहे अशोक कटारिया के बारे में कहा जाता है कि उन्होने कभी पार्टी से कोई उम्मीद जाहिर नहीं की और पार्टी को हमेशा आगे बढ़ाने का काम करते रहें ।

पार्टी ने उन्हें अप्रैल 2018 में एमएलसी बनाकर बीजेपी में एक बड़ा सम्मान देने का काम किया । बिजनौर के नूरपुर तहसील के हीमपुर के रहने वाले अशोक कटारिया पेशे से किसान हैं।

छात्र राजनीति के तहत विद्यार्थी परिषद से 1991 में कटारिया धामपुर कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव में उपाध्यक्ष बने। 1994 में मुरादाबाद मंडल से विद्यार्थी परिषद से संगठन मंत्री और 1997 से 2000 तक बरेली मंडल के संगठन मंत्री भी रहें।

2004 में उन्हें भाजपा युवा मोर्चा का प्रदेश युवा अध्यक्ष बनाया गया और 2007 तक वो इस पद पर बने रहें। 2013 में उन्हें बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष पद ने नवाजा गया। बीजेपी ने 2016 में उन्हें प्रदेश महामंत्री बनाया। अशोक कटारिया बीजेपी के कई बड़े आंदलोन का हिस्सा भी रहे और इन आंदोलन के दौरान वो जेल भी गए।

You may also like

MERA DDDD DDD DD