[gtranslate]
Country

उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भाजपा ने बदली रणनीति

देश में इन दिनों पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों को लेकर सियासत चरम पर है। इन पांच राज्यों में चुनावी अभियान जोर पकड़ता जा रहा है। सबकी निगाहें उत्तर प्रदेश पर लगी हैं। जिन पांच राज्यों में चुनाव  हैं उनमें से चार राज्यों में भाजपा की सरकार है। इसलिए भाजपा के लिए यह चुनाव काफी मायने रखते हैं। भाजपा नेतृत्व इन चुनावों को बेहद गंभीरता से ले रहा है। पार्टी के सामने अपनी सत्ता बचाने की सबसे बड़ी चुनौती है।

 

भाजपा इन राज्यों में एंटीइन्कम्बेंसी से जूझ रही है। इसलिए भी भाजपा के लिए ये चुनाव अहम हैं। उत्तर प्रदेश में बाकी पांच चरणों के चुनाव प्रचार अभियान में भाजपा नेता अपनी सभाओं की संख्या ज्यादा बढ़ाने में जुटे हुए हैं। इससे कई क्षेत्रों को मिलाकर होने वाली एक बड़ी सभा की संख्या कम हो सकती है, लेकिन कुल सभाओं की संख्या ज्यादा होगी और पहुंच भी व्यापक बनेगी।

समाजवादी पार्टी के साथ कई सीटों पर लगभग सीधे मुकाबले की स्थिति को देखते हुए भाजपा अपने अभियान को और सघन कर रही है। पहले दो चरणों के प्रचार अभियान की समीक्षा करते हुए भाजपा ने अब बाकी पांच चरणों के लिए ज्यादा से ज्यादा सभाएं करने की तैयारी की है। लगभग हर विधानसभा क्षेत्र तक उसके प्रमुख नेता पहुंचेंगे, जिनमें उसकी अपनी और सहयोगी दलों की सीटें भी शामिल है। सूत्रों के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तो बड़ी सभाएं ही होगी, लेकिन अन्य सभी नेता एक सभा में ज्यादा भीड़ जुटाने के बजाय कई सभाएं कर ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचने का प्रयास करेंगे।

 

सभाओं के मामले में विरोधियों से आगे निकली भाजपा

 


सभाओं के मामले में भाजपा अपने विरोधियों से बहुत आगे निकल चुकी है और वह इसे और आगे ले जा रही है। पार्टी की रणनीति ज्यादा से ज्यादा संपर्क और संवाद करने की है। दरअसल, इस बार के सामाजिक समीकरण पिछली बार की तुलना में कुछ बदल सकते हैं। इसकी वजह कांग्रेस और बसपा का जमीन पर कमजोर दिखना है। समाजवादी पार्टी और उसके सहयोगी दल भाजपा विरोधी मतों को एक साथ लाकर इस स्थिति का लाभ लेने की कोशिश में है।

 

कार्यकर्ताओं को भी कर रही एक्टिव

 


ज्यादा सभाओं के जरिए भाजपा अपने कार्यकर्ताओं को भी सक्रिय कर रही है। यह बात भी सामने आई थी कि भाजपा कार्यकर्ता पार्टी के कार्यक्रमों में तो पूरी ताकत से जुटते हैं, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर जनसंपर्क में कमी दिखाई दे रही है। ऐसे में भाजपा के नेता जगह जगह पहुंच रहे हैं ताकि कार्यकर्ताओं को साथ लेकर जनता के बीच जा सके। हाल में कोरोना प्रोटोकाल में जब सभाओं पर रोक थी तब जनसंपर्क में भी पार्टी के बड़े नेता उतरे थे। इस दौरान जो माहौल बना उसे पार्टी काफी फायदेमंद मान रही है।

 

बूथ मैनेजमेंट पर फोकस

 

बड़े नेताओं की घर-घर दस्तक से कार्यकर्ताओं में भी उत्साह आया है। हालांकि इसके लिए पार्टी को अपने विभिन्न नेताओं को गांव गांव तक पहुंचाना पड़ रहा है, ताकि कार्यकर्ताओं की शिथिलता दूर की जा सके। पार्टी का जोर बूथ मैनेजमेंट पर ज्यादा है और कोशिश है कि वह अपने समर्थकों ज्यादा से ज्यादा मतदान कराने के लिए ला सके।

You may also like

MERA DDDD DDD DD