[gtranslate]
Country

बिहार के किसलय ने गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड में दर्ज कराया अपना नाम

बिहार के किसलय ने गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड में दर्ज कराया अपना नाम

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड (Golden Book of World Records) में पटना के किसलय शर्मा का नाम दर्ज किया गया है। 2500 से ज्यादा मैथ्स के फॉर्मूले (Formulas of Mathematics) को संग्रहित करने के लिए दिया गया। किसलय महान गणितज्ञ वशिष्ट नारायण को अपना आदर्श मानते हैं। किसलय ने 2-3 साल की कड़ी मेहनत के बाद ये मुकाम हासिल की है। उन्होंने फॉमूलों को गढ़ने के लिए 500-600 किताबें पढ़ीं।

लिम्का बुक तक पहुंचने की तैयारी में किसलय

किसलय ने दो हजार छप्पन मैथ्स फार्मूले बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। अब उनका सपना है कि लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में वो अपना नाम दर्ज कराएं। किसलय चार हजार से ज्यादा फॉर्मूले बनाने की तैयारी में लगे हैं। किसलय अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर अपनी पहचान बनाना चाहते हैं।

पहला प्यार क्रिकेट

किसलय क्रिकेटर बनना चाहते थे। वे 7वीं क्लास से क्रिकेट खेल रहे थे। किसलय ने झारखंड अंडर-14 में, अंडर-19 में भी अपनी जगह बनाई। उन्होंने एक मैच में हैट्रिक विकेट भी ली। इसी क्षेत्र में अपना भविष्य तलाश रहे थे। लेकिन बिहार में क्रिकेट में करिअर नहीं होने के कारण क्रिकेटर बनने का सपना छोड़ना पड़ा। फिर उन्होंने मैथ्स पर अपना ध्यान लगाया। किसलय का पहला प्यार मैथ है। उन्होंने बताया कि उन्हें मैथ्स बनाना बहुत पसंद है।

किसलय के दोस्त शांतनू पांडे बताते हैं कि हममें से कई लड़कों ने क्रिकेट छोड़कर पढ़ाई में मन लगाने लगे थे। इस कारण था बिहार में क्रिकेट में कोई भविष्य का न होना। लेकिन आज हम बिहार से बाहर किसलय की उप्लब्धि सुनते हैं तो खुशी होती है।

शांतनू से जब ये पूछा गया कि किसलय को क्रिकेट छोड़ने का अफसोस है? जिसका जवाब देते हुए शांतनू ने कहा कि अफसोस तो नहीं है तो नहीं, पर वह ये जरुर कहते हैं अभी के वक्त में होता तो क्रिकेट नहीं छोड़ता। आपको बता दें कि बिहार में क्रिकेट को मान्य़ता मिली चुकी है।

किसलय पटना में मैथ्स गुरू के नाम से जाने जाते हैं। वे पटना में छह साल से छात्रों को मैथ्स पढ़ा रहे हैं। किसलय 9वीं, 10वीं के स्टूडेंट को मैथ पढ़ते हैं। इतना ही नहीं आईआईटी इंटर्नशिप की परीक्षा के उम्मीदवारों को मैथ्स पढ़ाते हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD