[gtranslate]
Country

खाकी छोड़ खादी पहनेंगे बिहार के DGP गुप्तेश्वर पांडेय, बनेगें NDA प्रत्याशी

पिछले दिनों जब सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में बिहार के एक आईपीएस मुंबई में गए तो इसके साथ ही आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया था। मुंबई पुलिस पर आरोप लगा कि उन्होंने बिहार के आईपीएस अधिकारी को जबरन क्वॉरेंटाइन कर दिया। तब इस मुद्दे पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे मुखर हो उठे थे । यही नहीं बल्कि गुप्तेश्वर पांडेय ने तब अपनी बातों को बेबाक तरीके से सबके सामने रखा था।
इसके चलते ही कई बार वह खुलकर मीडिया के सामने भी आए थे।  बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ने तब मुंबई पुलिस ही नहीं बल्कि महाराष्ट्र सरकार की जमकर घेराबंदी की थी । तब से ही कयास लगने शुरू हो गए थे कि गुप्तेश्वर पांडे जल्द ही खाकी छोड़ खादी पहनेंगे। यानी कि उनका अगला सफर राजनीति का होगा।
सोशल मीडिया पर गुप्तेश्वर पांडेय की राजनीति में जाने भविष्यवाणी की जाने लगी थी। तब एक राजनेता ने यह तक भी कह दिया था कि बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे को पुलिस की नौकरी छोड़ राजनीति ज्वाइन कर लेनी चाहिए। फिलहाल वह ऐसा ही करने जा रहे हैं।
जानकारी के अनुसार बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति यानी कि वीआरएस ले लिया है। बिहार सरकार ने उन्हें सेवानिवृत्ति की मंजूरी भी दे दी है। हालांकि उनका अभी बिहार का पुलिस महानिदेशक का 5 महीने का कार्यकाल बाकी बचा हुआ था। लेकिन इससे पहले ही वह पुलिस की नौकरी छोडकर राजनीति में आने की तैयारियों में जुट गए हैं।
गुप्तेश्वर पांडे 1987 बैच के आईपीएस ऑफिसर है। 31 जनवरी 2019 को पुलिस महानिदेशक के तौर पर गुप्तेश्वर पांडे का कार्यकाल शुरू हुआ था। जो 28 फरवरी 2021 को पूरा होने वाला था। लेकिन इससे पहले ही वह वीआरएस ले चुके हैं। इसके पीछे का कारण बताया जा रहा है कि वह जल्द ही राजनीति ज्वाइन कर लेंगे।
सूत्रों की मानें तो एक बार पहले भी गुप्तेश्वर पांडे ने पुलिस की नौकरी छोड राजनीति में जाने का प्रयास किया था । तब 2009 के लोकसभा चुनाव से पहले वह पुलिस सेवा से सेवानिवृत्ति लेना चाहते थे।  यही नहीं बल्कि इसके लिए उन्होंने अप्लाई भी कर दिया था । तब बहुत जोरों से चर्चा चली थी कि गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर से लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहते हैं। यहां तक कि नहीं टिकट का भरोसा भी मिल गया था। लेकिन ऐन टाइम पर उन्हें इस मामले में पीछे हटना पड़ा।
बताया जा रहा है कि गुप्तेश्वर पांडेय को तब बक्सर से टिकट नहीं मिला था। जिसके चलते 9 माह बाद वह फिर से पुलिस सेवा में शामिल हो गए थे। फिलहाल बताया जा रहा है कि गुप्तेश्वर पांडे को बक्सर या भोजपुर से एनडीए का प्रत्याशी बनाया जा सकता है।
राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा जोरों से है कि गुप्तेश्वर पांडेय एनडीए में जल्द शामिल होंगे और विधानसभा का चुनाव लड़ेंगे। यहां यह भी बताना जरूरी होगा कि भारतीय जनता पार्टी और जदयू दोनों ही पार्टियों से गुप्तेश्वर पांडेय के अच्छे संबंध रहे हैं।  बिहार के युवाओं के बीच गुप्तेश्वर पांडेय बहुत लोकप्रिय बताए जाते हैं । कहा जाता है कि बिहार के अधिकतर युवा गुप्तेश्वर पांडेय को अपना आइडियल मानते हैं। इसके चलते ही बिहार के युवाओं में गुप्तेश्वर पांडे जी की बड़ी फैन फॉलोइंग है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD