[gtranslate]
Country

बेगानी शादी में  अब्दुल्ला दीवाना

अब तो उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की स्थिति ऐसी हो गयी है मानो ‘बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना’। कांग्रेस में प्रदेश स्तर से लेकर केन्द्र स्तर तक बैठे दिग्गज नेता भी यह बात अच्छी तरह से जानते हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव में भी पार्टी को कुछ खास हासिल होने वाला नहीं फिर भी दौड़ में शामिल हैं। पिछला लोकसभा चुनाव परिणाम कांग्रेस के लिए डूब मरने जैसा था फिर भी पिछले लगभग पांच वर्षों के दौरान कांग्रेस हाई कमान न तो कोई अच्छा प्रदेश अध्यक्ष तलाश कर सका और न ही पार्टी में उठा-पटक पर ही लगाम लगा सका। स्थिति यह है कि लोकसभा चुनाव में सिर्फ आठ माह का समय शेष है और पार्टी के कई बडे़ नेताओं की दिल्ली परिक्रमा सिर्फ इस बात के लिए हो रही है कि यूपी कांग्रेस में किसे हटाया जाए और किसे जगह दी जाए। 

‘‘न सूत, न कपास, जुलाहों में लट्ठम-लट्ठा’’ यूपी कांग्रेस का हाल कुछ ऐसा ही है। न जनमत न जनाधार और न ही पार्टी में कोई चर्चित चेहरा। राजनीति के अकुशल खिलाड़ी और प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर को यदि नजरअंदाज कर दिया जाए तो शायद ही कोई ऐसा चेहरा नजर आयेगा जो पार्टी के जनाधार को बढ़ाने की कला रखता हो। हालांकि राज बब्बर स्वयं पार्टी का जनाधार बढ़ाने की क्षमता नहीं रखते फिर भी कांग्रेस ने उन्हें किसी तरह से ढो रखा है। कहने में कतई गुरेज नहीं है कि यूपी कांग्रेस के तरकस में ऐसा कोई तीर नहीं है जो चुनावी महाभारत में विरोधियों के बीच हलचल भी पैदा कर सके। यूपी कांग्रेस में एकमात्र पुराना चेहरा प्रमोद तिवारी के रूप में मौजूद तो जरूर है लेकिन पार्टी उन्हें भरोसेमन्द नहीं समझती, दूसरी ओर प्रमोद तिवारी को भी पार्टी की इस सोंच से कोई एतराज नहीं। कहना गलत नहीं होगा कि प्रमोद तिवारी तो अब जैसे-तैसे कांग्रेस के बैनर तले राजनीति में अपना अंतिम समय गुजार रहे हैं। अब मौजूदा स्थिति यह है कि आगामी लोकसभा चुनाव में लगभग आठ माह का समय शेष रह गया है फिर भी यूपी कांग्रेस कुछ छुटभैये नेताओं और कार्यकर्ताओं के सहारे सिर्फ उछल-कूद में ही व्यस्त है जबकि यूपी में उसे इस वक्त एक ऐसे बड़े नेता की आवश्यकता है जिसका चेहरा यूपी की जनता के बीच तो चर्चित रहा ही हो साथ ही वह जनता के बीच कांग्रेस को पुनर्जीवित करने की क्षमता भी रखता हो। इन अपेक्षाओं के विपरीत स्थिति यह है कि पार्टी के अधिकतर पुराने कार्यकर्ता व पदाधिकारी आपसी सिर-फुटौव्वल के चलते कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं तो कुछ वरिष्ठों को पार्टी के भीतर चल रही राजनीति ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। मौजूदा समय में भी स्थिति यह है कि

जहां एक ओर यूपी के प्रमुख राजनीतिक दल आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटे हैं वहीं दूसरी ओर यूपी कांग्रेस में पार्टी पदाधिकारी से लेकर कार्यकर्ता तक आपस में ही एक-दूसरे को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। कार्यकर्ता और पदाधिकारी अपने ही लोगों की जड़ों में मट्ठा डालने के लिए दिल्ली में बैठे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी तक के चक्कर लगा रहे हैं। रही बात प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के हस्तक्षेप की तो उनकी गतिविधियां सिर्फ खानापूर्ति करती ही प्रतीत हो रही हैं। ऐसे समय में पार्टी के पदाधिकारी चाहते हैं कि राहुल गांधी के स्थान पर स्वयं सोनिया गांधी या फिर प्रियंका गांधी सीधे हस्तक्षेप करें तो बात बने लेकिन यूपी में सिर फुटौव्वल की जानकारी के बावजूद उनका लापरवाह रवैया बताता है कि कांग्रेस हाई कमान के एजेण्डे में यूपी कांग्रेस कहीं पर नहीं है या फिर कांग्रेस यह मान बैठी है कि यूपी से वह कुछ भी हासिल नहीं कर पायेगी।
कांग्रेस का यह हाल पिछले लगभग तीन दशकों से बना हुआ है। इस दौरान कांग्रेस हाई कमान कई प्रयोग कर चुका है लेकिन कांग्रेस की जमीन हर चुनाव में खिसकती गयी। पिछले लोकसभा चुनाव (वर्ष 2014) में यूपी से कांग्रेस को सिर्फ 2 ही सीटें मिली थीं। एक सोनिया गांधी के रूप में और दूसरी राहुल गांधी के रूप में। यदि ये दोनों भी यूपी से बाहर चुनाव लड़ते तो निश्चित तौर पर कांग्रेस शून्य में होती। हालांकि पिछले लोकसभा चुनाव में यूपी से बसपा का भी पत्ता साफ हो गया था लेकिन बात यदि जनाधार की हो तो बसपा के पास जमीन भी है और जनाधार भी, बस उसे अपना मत-प्रतिशत बढ़ाने के लिए अपनी नीति में परिवर्तन की आवश्कता मात्र है।
पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अकेले दम पर यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से 71 पर कब्जा जमाया था। यह दीगर बात है कि उपचुनाव में उसे गोरखपुर, फूलपुर और कैराना जैसी अति महत्वपूर्ण सीटों पर मात मिल चुकी है। रही बात यूपी में नम्बर एक मानी जाने वाली समाजवादी पार्टी की बात तो उसे भी मोदी लहर के चलते सिर्फ 05 सीटें ही मिल सकी थीं। मोदी लहर का परिणाम था कि अपना दल ने भी यूपी की 02 सीटों पर कब्जा जमाया। यह तो रहा विगत लोकसभा चुनाव में समस्त राजनीतिक दलों की सीटों का लेखा-जोखा, अब बात यदि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर की हो तो पार्टी हाई कमान ने यूपी की 80 लोकसभा सीटों पर जंग की कमान एक ऐसे नेता के हाथों में दे रखी है जो स्वयं पिछला लोकसभा चुनाव हार गया था। इतना ही तमाम अवसरों पर विवादों के बावजूद राज बब्बर को प्रदेश अध्यक्ष बनाए रखना भी पार्टी पदाधिकारियों की समझ से बाहर है। ज्ञात हो ये वही राज बब्बर हैं जिन्होंने स्वयं पार्टी अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा हाई कमान के पास भेजा था। चूंकि हाई कमान के पास यूपी की बागडोर संभालने लायक कोई ऐसा बड़ा नेता नहीं था लिहाजा एक अभिनेता के हाथों में पार्टी की कमान महज इसलिए सौंपी गयी ताकि प्रदेश की जनता प्रदेश अध्यक्ष की भांति न सही एक अभिनेता को देखने के लिए तो जरूर उमडे़गी लेकिन हाई कमान की यह मंशा भी असफल रही। कहने में गुरेज नहीं है कि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के बाद कांग्रेस ने अभिनेता से नेता तक का सफर तय करने वाले जिस राज बब्बर को सूबे की कमान सौंपी है उसे न तो रूपहले पर्दे पर कोई खास सफलता मिल सकी है और न ही राजनीति के मैदान में। अब जबकि लोकसभा चुनाव की तारीख आने वाले कुछ समय में कभी भी घोषित की जा सकती है ऐसे में सूबे की कमान राज बब्बर के स्थान पर किसी दूसरे बडे़ नेता को सौंपे जाने की चर्चा हो रही है। पार्टी कार्यालय में हो रही चर्चा में कितना बल है? इसका खुलासा आने वाले चन्द दिनों में ही हो जायेगा लेकिन बात यदि पिछले चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन की करें तो उसे देखकर तो ऐसा नहीं लगता है कि इस बार के चुनाव में भी कांग्रेस को कोई खास सफलता हाथ लगने वाली है।
विगत लोकसभा चुनाव में पार्टी प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर की राजनीतिक हैसियत का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वे अपने गृह जनपद आगरा से कांग्रेस प्रत्याशी उपेन्द्र सिंह तक को नहीं जिता पाए। उपेन्द्र सिंह की जमानत जब्त हो गयी थी। जब परिणाम घोषित हुआ तो उपेन्द्र सिंह के साथ ही कांग्रेस का जनाधार नीचे से दूसरे नम्बर पर दिखा। भाजपा की लहर की यह स्थिति थी कि 21 गंभीर आपराधिक मामलों में लिप्त होने के बावजूद राम शंकर कठेरिया कमल चुनाव चिन्ह पर चुनाव जीत गए थे। हालांकि अभी तक आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा हाई कमान ने कोई आधिकारिक सूची जारी नहीं की है फिर भी इस बार भी राम शंकर कठेरिया की दावेदारी मजबूत मानी जा रही है।
कांग्रेस की ऐसी ही स्थिति उत्तर प्रदेश के अन्य लोकसभा सीटों पर भी नजर आयी। अम्बेडकर नगर से भाजपा के हरिओम विजयी रहे जबकि कांग्रेस के अशोक सिंह को दूसरे नम्बर पर संतोष करना पड़ा। अकबरपुर से भाजपा के देवेन्द्र सिंह उर्फ भोले सिंह विजयी रहे जबकि कांग्रेस के राजा रामपाल नीचे से चैथे नम्बर पर नजर आए। अलीगढ़ की स्थिति भी कुछ ऐसी ही रही। यहां से भाजपा के सतीश कुमार विजयी रहे तो कांग्रेस के बिजेन्द्र सिंह चैथे नम्बर पर रहे। इलाहाबाद से भाजपा के श्यामा चरण गुप्ता विजयी रहे जबकि कांग्रेसी प्रत्याशी नन्द गोपाल गुप्ता उर्फ नन्दी 13वें स्थान पर नजर आए। कांग्रेस की पुश्तैनी सीट अमेठी से कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष (उस वक्त उपाध्यक्ष) राहुल गांधी बमुश्किल विजयी हुए। अमरोहा से भाजपा के कुंवर सिंह तंवर विजयी रहे जबकि कांग्रेस का प्रत्याशी कहीं भी नजर नहीं आया। आंवला से भाजपा के धर्मेन्द्र कुमार विजयी रहे जबकि कांग्रेस प्रत्याशी सलीम इकबाल शेरवानी नीचे से तीसरे स्थान पर नजर आए। सलीम इकबाल शेरवनी कांग्रेस के पुराने दिग्गज नेताओं में गिने जाते रहे हैं। मुस्लिम बाहुल्य संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ से पूर्व सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव विजयी रहे जबकि कांग्रेस प्रत्याशी अरविन्द कुमार जायसवाल तीसरे नम्बर पर रहे। बदायूं से सपा तो अपनी नाक बचाने में सफल हो गयी और धर्मेन्द्र यादव विजयी हुए लेकिन इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी कहीं नजर नहीं आया। बागपत सीट भी भाजपा के सत्यपाल सिंह के पास चली गयी। मुस्लिम बाहुल्य संसदीय क्षेत्र बहराइच से भी कांग्रेस को जीत नहीं मिल सकी। यहां पर कांग्रेस प्रत्याशी कमाण्डो कमल किशोर दूसरे स्थान पर रहे जबकि भाजपा प्रत्याशी दलित नेता सावित्री बाई फूले ने बाजी मार ली। बलिया से भाजपा के भारत सिंह विजयी रहे जबकि कांग्रेस प्रत्याशी सुधा राय नीचे से दूसरे स्थान पर नजर आयीं। बांदा से भाजपा के बैरन प्रसाद मिश्रा को जीत मिली जबकि कांग्रेस प्रत्याशी विवेक कुमार सिंह की जमानत तक जब्त हो गयी। बांसगांव से भाजपा के कमलेश पासवान विजयी हुए जबकि कांग्रेस प्रत्याशी संजय कुमार नीचे से दूसरे स्थान पर रहे। संजय की भी जमानत जब्त हो गयी थी।
बाराबंकी से भाजपा की प्रियंका सिंह रावत चुनाव जीत गयी थीं जबकि कांग्रेस के पीएल पुनिया नीचे से चैथे स्थान पर रहे। ज्ञात हो ये वही आईएएस से नेता तक सफर तय करने वाले पीएलपुनिया हैं जो कभी मायावती सरकार के कार्यकाल में मुख्यमंत्री मायावती के बेहद करीबी साथियों में से एक थे। श्री पुनिया राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। श्री पुनिया वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में अपना दम-खम दिखा चुके थे। वे वर्ष 2014 तक सांसद रहेे। दलितों के बीच अच्छी पकड़ रखने वाले पुनिया पर कांग्रेस ने दोबारा दांव लगाया और उन्हें बाराबंकी लोकसभा का टिकट देकर मैदान में उतारा लेकिन भाजपाई लहर में पुनिया की जमीन खिसक गयी। चर्चा है कि एक बार फिर से कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव में पीएल पुनिया पर दांव लगाने की सोंच रही है।
बरेली सीट पर भाजपा के संतोष कुमार गंगवार का जलवा कायम रहा जबकि कांग्रेस के प्रवीन सिंह ऐरन नीचे से चैथे स्थान पर रहे। बस्ती से भाजपा के हरीश चन्द्र विजयी रहे जबकि कांग्रेस के दमदार प्रत्याशी यहां भी अपना जलवा नहीं दिखा पाए। कांग्रेस के प्रत्याशी अम्बिका सिंह दूसरे स्थान पर रहे। भदोही भी कांग्रेस के हाथ नहीं आया। यहां से भाजपा के वीरेन्द्र सिंह ने बाजी मारी और कांग्रेस का प्रत्याशी नीचे से तीसरे स्थान पर आया। चन्दौली सीट महेन्द्र नाथ ने भाजपा के टिकट पर जीती, यहां पर कांग्रेस का प्रत्याशी तरुणेन्द्र चन्द्र पटेल नीचे से दूसरे नम्बर पर रहे। देवरिया से भाजपा के कलराज मिश्रा विजयी रहे जबकि कांग्रेस के सभा कुंवर नीचे से चैथे स्थान पर रहे। धौरहरा सीट भी भाजपा की रेखा को मिली जबकि यहां से कांग्रेस के प्रत्याशी कुंवर जितिन प्रसाद सातवें स्थान पर रहे। डुमरियागंज से भाजपा के टिकट पर जगदम्बिका पाल ने बाजी मारी और कांग्रेस प्रत्याशी वसुन्धरा को अपनी जमानत गंवाकर आखिरी स्थान पर संतोष करना पड़ा। समाजवादी पार्टी के गढ़ इटावा में भी भाजपा की लहर रही और यहां से भाजपा के अशोक कुमार दोहरे विजयी रहे जबकि कांग्रेस के हंसमुखी को तीसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा। फैजाबाद से भाजपा के लल्लू सिंह विजयी रहे जबकि कांग्रेस के निर्मल खत्री को आठवें स्थान पर संतोष करना पड़ा। फर्रुखाबाद से भाजपा के मुकेश राजपूत को सफलता हाथ और कांग्रेस के कद्दावर नेता सलमान खुर्शीद नीचे से पांचवे स्थान पर नजर आए। इस सीट पर 22 प्रत्याशी मैदान में थे। फतेहपुर सीट भाजपा की साध्वी निरंजन ज्योति को मिली जबकि कांग्रेस प्रत्याशी ऊषा मौर्या नीचे से दूसरे स्थान पर रहीं। फिरोजाबाद सीट भी कांग्रेस के हाथ नहंी लग सकी। यहां से सपा के अक्षय कुमार विजयी रहे जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी अतुल चतुर्वेदी को दूसरे स्थान पर संतोष करना पड़ा। गौतमबुद्धनगर सीट भी भाजपा की झोली में गयी और कांग्रेस प्रत्याशी रमेश चन्द्र तोमर को 13वें स्थान पर संतोष करना पड़ा। गाजियाबाद की सीट भाजपा के विजय कुमार को मिली जबकि यूपी कांग्रेस के मौजूदा अध्यक्ष राजबब्बर को छठे स्थान पर संतोष करना पड़ा। गाजीपुर की सीट भाजपा के मनोज सिन्हा ने जीती। इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी मोहम्मद मकसूद खान नीचे से छठे नम्बर पर रहे। घोसी सीट पर भाजपा के हरिनारायण राजभर को जीत हासिल हुई और कांग्रेस के राष्ट्र कुंवर सिंह को नीचे से चैथे स्थान पर संतोष करना पड़ा। गोण्डा से कीर्ति वर्धन सिंह को भाजपा के टिकट पर जीत हासिल हुई जबकि कांग्रेस प्रत्याशी बेनी प्रसाद वर्मा को चैथे स्थान पर संतोष करना पड़ा। गोरखपुर से भाजपा के टिकट पर योगी आदित्यनाथ विजयी हुए थे लेकिन उपचुनाव के दौरान यह सीट भाजपा के हाथों से खिसक कर सपा-बसपा के गठबन्धन से सपा प्रत्याशी प्रवीण कुमार निषाद ने जीती। उप चुनाव में भी कांग्रेस का प्रत्याशी डाॅ. सुरहीता करीम चुनाव नहीं जीत सके। इससे पहले कांग्रेस के टिकट पर अष्टभुजा प्रसाद ने किस्मत आजमायी थी लेकिन वे भी चुनाव जीतने में सफल नहीं हो सके थे। हमीरपुर सीट भाजपा के कुंवर पुष्पेन्द्र सिंह ने जीती जबकि यहां से कांग्रेस प्रत्याशी प्रीतम सिंह को नौवंे स्थान पर संतोष करना पड़ा। हरदोई संसदीय सीट से भी कांग्रेस का प्रत्याशी सर्वेश कुमार 11वें नम्बर पर आया जबकि यहां से भी भाजपा के प्रत्याशी अंशुल वर्मा ने जीत दर्ज की। जालौन से भानु प्रसाद सिंह भाजपा से विजयी हुए जबकि कांग्रेस प्रत्याशी विजय चैधरी अंतिम पायदान पर नजर आए। जौनपुर से कृष्ण प्रताप भाजपा से विजयी हुए जबकि कांग्रेस का प्रत्याशी रवि किशन 14वें स्थान पर रहा। झांसी से उमा भारती को भाजपा के टिकट पर सफलता हाथ लगी जबकि कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप कुमार जैन दसवें स्थान पर रहे। कैराना से भाजपा के टिकट पर बाहुबली नेता बृजभूषण शरण सिंह ने जीत दर्ज की जबकि इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी मुकेश श्रीवास्तव उर्फ ज्ञानेन्द्र प्रताप छठे स्थान पर रहे। कानपुर से कांग्रेस के दिग्गज नेता श्रीप्रकाश जायसवाल बुरी तरह से पराजित हुए और यह सीट भाजपा के डाॅ मुरली मनोहर जोशी के हाथों में चली गयी। कौशाम्बी की सीट भाजपा के विनोद कुमार ने जीती जबकि कांग्रेस प्रत्याशी महेन्द्र कुमार को चैथे स्थान पर ही संतोष करना पड़ा। खीरी सीट पर भाजपा के अजय कुमार विजयी हुई जबकि दिग्गज कांग्रेस प्रत्याशी जफर अली नकवी को प्रत्याशियों की सूची में आखिरी स्थान पर संतोष करना पड़ा। कुशीनगर की सीट भी भाजपा के खाते में गयी थी। इस सीट से भाजपा के राजेश पाण्डेय उर्फ गुड्डू विजयी हुए थे जबकि कांग्रेस प्रत्याशी कुंवर रतनजीत प्रताप सिंह दसवें नम्बर पर लुढक गए। लालगंज संसदीय क्षेत्र से भाजपा की नीलम को जीत मिली जबकि कांग्रेस के बलिहारी को चैथे स्थान पर संतोष करना पड़ा। राजधानी लखनऊ से रीता जोशी को कांग्रेस के टिकट पर हार नसीब हुई थी जबकि राजनाथ सिंह भाजपा के टिकट पर विजयी हुए थे। रीता जोशी ने बाद में कांग्रेस छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर ली और कैण्ट से विधायक बनने के बाद यूपी सरकार के मंत्रिमण्डल में मंत्री बन गयीं। मछली शहर से भाजपा के राम चरित्र निषाद को जीत हासिल हुई जबकि कांग्रेस के तूफानी निषाद को अंतिम पायदान पर ही संतोष करना पड़ा। कांग्रेस यहां से बुरी तरह से हार गयी थी। महराजगंज से भाजपा के पंकज को जीत हासिल हुई जबकि कांग्रेस के हर्षवर्धन को 12वंे नम्बर पर ही संतोष करना पड़ा। मेरठ से भाजपा के राजेन्द्र अग्रवाल चुनाव जीते थे जबकि कांग्रेस के मोरारजी नगमा अरविन्द को 10वें स्थान पर ही संतोष करना पड़ा। मिर्जापुर की सीट भाजपा के सहयोग से अपना दल की अनुप्रिया पटेल के हाथ लगी, यहां से भी कांग्रेस का प्रत्याशी मुकाबले से बाहर रहा और कांग्रेसी प्रत्याशी ललितेशपति त्रिपाठी 13वें स्थान पर नजर आए। मिश्रिख की सीट भाजपा की अंजुबाला के हाथ लगी जबकि इस सीट पर कांग्रेसी प्रत्याशी ओम प्रकाश को हार का मुख देखना पड़ा। ओम प्रकाश नवें स्थान पर रहे। इस सीट पर भी कांग्रेस की ऐसी स्थिति हुई कि वह छोटे दलों को भी क्राॅस नहीं कर पाया। राजधानी लखनऊ की तहसील और संसदीय सीट मोहनलालगंज से कौशल किशोर ने भाजपा के टिकट पर बाजी मारी जबकि कांग्रेस के नरेन्द्र कुमार 11वें स्थान पर रहे। यहां भी छोटे दलों ने एक राष्ट्रीय पार्टी को उनकी हैसियत से परिचय करवा दिया। महिला स्वाभिमान पार्टी, नैतिक पार्टी, निर्दलीय, आवामी समता पार्टी, मानवतावादी समता पार्टी, आरपीआई, राष्ट्रीय राष्ट्रवादी पार्टी, समतावादी रिपब्लिकन पार्टी और एआईटीसी जैसे राजनीतिक दलों से भी कांग्रेस पिछड़ गयी। एक समय था जब मुरादाबाद संसदीय सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा करता था लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव में मुरादाबाद की सीट न सिर्फ भाजपा प्रत्याशी कुंवर सर्वेश कुमार के हाथों में गयी बल्कि कांग्रेस की बेगम नूर बानों को तीसरे स्थान पर ही संतोष करना पड़ा। मुजफ्फरनगर से भाजपा के संजीव कुमार बालियान को जीत मिली जबकि कांग्रेस प्रत्याशी पंकज अग्रवाल 13वंे स्थान पर रहे। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में फूलपुर से कांग्रेस ने पहले मोहम्मद कैफ को टिकट देकर मैदान में उतारा था लेकिन भाजपा प्रत्याशी रहे और वर्तमान सूबे के उप मुख्यमंत्री केशव मौर्या ने उन्हें धूल चटा दी। उप चुनाव में भाजपा का इकबाल भले ही धाराशायी हो गया हो, इसके बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी मनीष मिश्रा चुनाव नहीं जीत सके। इस उप चुनाव में सपा ने बाजी मारी और सपा के टिकट पर नागेन्द्र प्रताप सिंह पटेल चुनाव जीत गए। पीलीभीत की सीट भाजपा की मेनका गांधी ने जीती और कांग्रेस के संजय कपूर की जमानत जब्त हो गयी। वे आखिरी से दूसरे नम्बर पर रहे। प्रतापगढ़ की सीट भाजपा के समर्थन से अपना दल के प्रत्याशी कुंवर हरिवंश सिंह ने जीती जबकि यहां से भी कांग्रेस की प्रत्याशी राजकुमारी रत्ना सिंह कोई कमाल नहीं दिखा सकीं।                                                                                रायबरेली में जरूर कांग्रेस ने अपनी नाक बचा ली और कांग्रेस की पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जीत दर्ज कर नाक कटने से बचा ली। रामपुर की सीट भाजपा के डाॅ नेपाल सिंह ने जीती जबकि कांग्रेस प्रत्याशी नवाब काजिम अली खान को 9वें स्थान पर संतोष करना पड़ा। राबर्ट्सगंज से भी भाजपा के छोटे लाल ने बाजी मारी जबकि यहां से कांग्रेस के प्रत्याशी भगवती प्रसाद चैथे नम्बर पर रहे। सहारनपुर से भाजपा के राघव लखनपाल विजयी रहे जबकि कांग्रेस के इमरान मसूद को चैथे स्थान पर ही संतोष करना पड़ा। सलेमपुर की सीट पर भाजपा के रविन्द्र कुशवाहा विजयी रहे जबकि कांग्रेस के डाॅ. भोला पाण्डेय को चैथे स्थान पर संतोष करना पड़ा। सम्भल की सीट पर भले ही कांग्रेस ने कड़ी टक्कर दी हो लेकिन मोदी लहर ने कांग्रेस के मंसूबे पूरे नहीं होने दिए और भाजपा के सत्यपाल सिंह ने कांग्रेस के आचार्य प्रमोद कृष्णनम को हरा दिया। कांग्रेस यहां पर दूसरे स्थान पर रही। संतकबीर नगर की सीट भाजपा के शरद त्रिपाठी ने जीती जबकि कांग्रेस के प्रत्याशी रोहित पाण्डेय इस स्थान पर अंतिम पायदान पर नजर आये। शाहजहांपुर सीट भी भाजपा के कृष्ण राज ने जीती जबकि कांग्रेस के चेतराम दूसरे स्थान पर रहे। श्रावस्ती से दद्दन प्रसाद मिश्रा ने भाजपा के टिकट पर जीत दर्ज की जबकि इस सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी विनय कुमार पाण्डेय आखिरी स्थान पर रहे। कांग्रेस की स्थिति ऐसी कि निर्दलीय प्रत्याशी से लेकर छोटे दल को भी कांग्रेस प्रत्याशी से अधिक वोट मिले। सीतापुर से भाजपा के टिकट पर राजेश कुमार सिंह ने जीत दर्ज की और कांग्रेस वैशाली अली को आखिरी स्थान पर संतोष करना पड़ा। एक वक्त था जब सुल्तानपुर संसदीय सीट कांग्रेसी सीट मानी जाती थी लेकिन विगत लोकसभा चुनाव में इस सीट पर भाजपा के वरुण गांधी ने बाजी मारी और कांग्रेस की अमिता सिंह को दूसरे स्थान पर पटखनी दे दी। गौरतलब है कि अमिता सिंह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे संजय सिंह की दूसरी पत्नी हैं। उन्नाव से भाजपा के टिकट पर आपराधिक प्रवृत्ति के साक्षी महाराज को जीत मिली जबकि कांग्रेस के अन्नु टण्डन को छठे स्थान पर संतोष करना पड़ा। बनारस की सीट मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम गयी जबकि इस सीट पर कांग्रेस के टिकट से मैदान में खडे़ अजय राय को चैथे स्थान पर संतोष करना पड़ा।
हाई कमान की नजरअंदाजी के चलते यूपी में कांग्रेस की स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि उसका प्रत्याशी एक निर्दलीय प्रत्याशी तक को मात देने की हैसियत नहीं रखता। विगत लोकसभा चुनाव के आंकड़े इस बात के गवाह हैं कि ऐसे-ऐसे राजनीतिक दलों ने कांग्रेस प्रत्याशियों को पीछे छोड़ दिया जो जिनका जन्म ही ऐन चुनाव के वक्त हुआ था।
उपरोक्त आंकड़े बताते हैं कि यूपी में कांग्रेस का राजनीतिक स्वास्थ्य वेंटिलेटर पर है। यूपी एक ऐसा राज्य है जहां लोकसभा की सर्वाधिक 80 सीटे हैं। ऐसा माना जाता है कि केन्द्र का रास्ता यूपी को फतह किए बगैर तय नहीं किया जा सकता इसके बावजूद कांग्रेस हाई कमान की तरफ से ऐन चुनाव के वक्त भी किसी प्रकार की हलचल का दिखायी न देना इस बात का प्रमाण है कि शायद कांग्रेस अब यूपी को अपने जेहन से निकाल चुकी है। शायद यही वजह है कि पिछले कुछ वर्षों से यूपी कांग्रेस से जुडे़ कई बडे़ नेता कांग्रेस से नाता तोड़कर दूसरे दलों में अपना भविष्य बना चुके हैं तो कई और निकलने की तैयारी में हैं। यूपीसीसी कार्यकर्ताओं का दावा है कि आने वाले कुछ दिनों में कई और कांग्रेसी पार्टी छोड़कर दूसरे दलों में जा सकते हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD