[gtranslate]
Country

दिवाली से पहले राजस्थान में पटाखों की बिक्री पर बैन

देश में दिवाली का त्यौहार नजदीक है ऐसे में राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री गहलोत ने पटाखों के जहरीले धुएं से कोरोना संक्रमितों को बचाने के लिए राज्य भर में पटाखों की आतिशबाजी और पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रदेश सरकार ने प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर भी सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है।

इस संबंध में, मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि कोरोना महामारी के इस चुनौतीपूर्ण समय में राज्य के नागरिकों के जीवन की रक्षा करना सबसे महत्वपूर्ण है। आतिशबाजी से निकलने वाला धुआं न केवल कोरोना संक्रमित रोगी के लिए बल्कि दिल और सांस की समस्याओं वाले रोगियों के लिए भी घातक है, इसलिए लोगों को दिवाली पर पटाखे नहीं जलाने चाहिए। उन्होंने पटाखों की बिक्री के लिए अस्थायी लाइसेंस निलंबित करने का भी निर्देश दिया। गहलोत ने यह भी कहा कि शादियों और अन्य समारोहों में आतिशबाजी का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

कल 1 अक्टूबर, अपने निवास स्थान से ‘नो मास्क-नो एंट्री’ और ‘पवित्रता के लिए युद्ध’ में राज्य में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने अनलॉक -6 के दिशानिर्देशों पर भी चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जर्मनी, इंग्लैंड, फ्रांस, इटली, स्पेन जैसे विकसित देशों में कोरोना की दूसरी लहर शुरू हो गई है। कई देशों को फिर से तालाबंदी की घोषणा करनी पड़ी है। ऐसी स्थिति न हो इसके लिए हमें सावधानी बरतने की भी जरूरत है।

अनलॉक -6 के दिशा-निर्देशों पर चर्चा के दौरान, प्रमुख सचिव, गृह अभय कुमार ने कहा कि राज्य में स्कूलों और कॉलेजों सहित शैक्षणिक संस्थानों और कोचिंग सेंटरों को 16 नवंबर तक नियमित शैक्षणिक गतिविधियों के लिए बंद कर दिया जाएगा। इसके बाद, एक समीक्षा की जाएगी और इसपर निर्णय लिया जाएगा। स्विमिंग पूल, सिनेमा हॉल, सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स, मनोरंजन पार्क आदि पहले के आदेश के अनुसार 30 नवंबर तक बंद रहेंगे।

विवाह समारोह में मेहमानों की अधिकतम सीमा 100 होगी। अंतिम संस्कार के समय 20 व्यक्तियों की सीमा लागू रहेगी। साथ ही जिला कलेक्टर की अनुमति के साथ खुले स्थानों पर आयोजित होने वाले सामाजिक और राजनीतिक समारोहों में केवल 2 गज की दूरी को बनाए रखकर 250 लोगों को अनुमति दी जा सकती है। बंद हॉल 50 प्रतिशत हॉल क्षमता वाले अधिकतम 200 लोगों को रख सकता है। इन कार्यक्रमों में, मास्क पहनना और सामाजिक भेद-भाव आदि आवश्यक होगा।

You may also like

MERA DDDD DDD DD