[gtranslate]
Country

आसान नहीं है महागठबंधन की राह

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ बन रहे महागठबंधन में पेच फसता दिख रहा है। अजीत सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोकदल ने महागठबंधन में सम्मानजनक सीटों की मांग रख दी है। सूत्रों का कहना है कि राष्ट्रीय लोकदल ने यूपी में महागठबंधन में पांच सीटों की मांग की है। किसानों के बीच अच्छी पकड़ रखने वाली राष्ट्रीय लोकदल ने मुजफ्फरनगर, बागपत, मथुरा, अमरोहा समेत पांच सीटें मांगी हंै। माना जा रहा है कि 15 जनवरी के बाद उत्तर प्रदेश में महागठबंधन का ऐलान किया जाएगा।
सूत्रों के अनुसार महागठबंधन में तय हुआ है कि सपा और बसपा 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। रायबरेली और अमेठी सीट सोनिया गांधी और राहुल गांधी के लिए छोड़ दी जाएगी। बाकी की चार सीटें सहयोगी दलों को दी जाएंगी। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय लोकदल को करारी शिकस्त मिली थी। खुद पार्टी अध्यक्ष अजीत सिंह और उनके बेटे जयंत चैधरी चुनाव हार गए थे। हालांकि साल 2013 में कैराना लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में सपा और कांग्रेस के सहयोग से राष्ट्रीय लोकदल प्रत्याशी तबस्सुम हसन को जीत मिली थी। यानी इस वक्त लोकसभा में राष्ट्रीय लोकदल की महज एक ही सीट है। इसके अलावा 2017 के विधानसभा चुनाव में भी राष्ट्रीय लोकदल का मात्र एक ही विधायक जीत पाया था। गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी और बसपा के बीच हुए गठबंधन में राष्ट्रीय लोकदल का भी अहम हिस्सा है। पिछले दिनों सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती के बीच मुलाकात हुई थी। जिसमें सीटों के बंटवारे को लेकर खबरे आम हुई थी। इसमें राष्ट्रीय लोकदल को दो से तीन सीटंे दिए जाने की बातंे सामने आई थीं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD