[gtranslate]
Country

जम्मू-कश्मीर में सेना के एक कैप्टन पर हत्या और अपहरण का आरोप

जम्मू-कश्मीर में सेना के एक कैप्टन पर तीन लोगों की हत्या और अपहरण का  आरोप लगा हैै। पुलिस ने माना है कि कैप्टन ने जानबूझकर इन लोगों की हत्याएं की है। 27 दिसबंर को एक बयान में पुलिस ने आरोपी कैप्टन भूपेंद्र सिंह और एक अन्य पर मजदूरों का अपहरण कर उनकी हत्या करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने हत्याओं को फर्जी सैन्य मुठभेड़ के रूप में मंचन किया था इसके बाद मृतकों के शवों पर अवैध रूप से अर्जित हथियार और सामग्री लगाई और उन्हें कट्टर आतंकवादी के रूप में टैग किया। पुलिस ने कहा कि भूपेंद्र सिंह ने जानबूझकर और उदेश्यपूर्ण तरीकें से इन तीनों हत्याओं को अंजाम दिया था। जुलाई में काम के सिलसिले में अपने घर से बाहर निकले अबरार अहमद खान, इम्तियाज अहमद और अबरार अहमद यूसुफ का अपहरण कर हत्या कर दी गई थी।

हालांकि भारतीय सेना ने यह संकेत नहीं दिया है कि कैप्टन पर नागरिक अधिकार क्षेत्र में या सैन्य अदालत में मुकदमा चलेगा या नहीं। जम्मू-कश्मीर में 1990 से लागू एक आपात कानून के तहत भारतीय सेना के सैनिकों को संघीय सरकार की अनुमति के बिना साधारण अधिकार क्षेत्र के तहत नागरिक अदालतों में नहीं आजमाया जा सकता। कश्मीर क्षेत्र के कुछ हिस्सों पर भारत, पाकिस्तान और चीन का दावा है, जबकि स्थानीय समूहों ने भी अधिक स्वायत्तता या पूर्ण स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी है। दशकों से चले आ रहे इस संघर्ष में हजारों लोगों की मौत हो चुकी है और कार्यकर्ताओं ने नियमित रूप से अधिकारियों और भारतीय सैनिकों द्वारा मानवाधिकारों के उल्लंघन की शिकायत की है।

हालांकि, कथित अपराधों और दुर्व्यवहार के लिए सेना के अधिकारियों के अभियोजन दुर्लभ हैं, और अतीत में हुई घटनाओं के इसी तरह के दावे किए गए हैं, जिससे जांच और आरोप और भी असामान्य हो गए हैं। पिछले साल भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया था।

You may also like

MERA DDDD DDD DD