[gtranslate]
Country

दो साल बाद अखिलेश यादव बैठे  धरने पर, मुख्यमंत्री से मांगा इस्तीफा 

2017 का चुनाव हारने के बाद पहली बार उन्नाव कांड को लेकर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है । उन्नाव गैंगरेप पीडिता की देर रात मौत के बाद नेताओ की नींद टूटी है। फिलहाल लखनऊं में अखिलेश विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए हैं।
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उन्नाव रेप मामले को लेकर यूपी विधान भवन के सामने धरने पर बैठ गए हैं। अखिलेश यादव करीब दो मिनट तक मौन धरने पर बैठे रहे। फिर मीडिया से बात करते हुए योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा। अखिलेश यादव ने कहा, देश हैदराबाद की घटना को लेकर गुस्से में था। खासकर बहनें और माताएं और उसके बाद उन्नाव की घटना उसी तरह से हुई।
उन्नाव की घटना बीजेपी सरकार में पहली नहीं है। जो बेटी के साथ हुआ। वह बहादुर थी। उसकी आखिरी शब्द थे की वह जिंदा रहना चाहती थी। सफदरजंग के डॉक्टरों की कोशिशों के बाद भी उसकी जान नहीं बच पाई। हमारे लिए यह काला दिवस है। उन्होंने कहा कि कल हर जिले में सपा शोक सभा करेगी।
 अखिलेश यादव ने कहा, जब तक मुख्यमंत्री, गृह सचिव और डीजीपी इस्तीफा नहीं देते तब तक न्याय नहीं होगा। एक बेटी जो न्याय मांग रही थी हम उसे न्याय नहीं दे पाए।
उन्होंने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश की मौजूदा सरकार के राज में यह पहली घटना नहीं है। याद कीजिए जब मुख्यमंत्री आवास के सामने एक बेटी न्याय मांग रही थी और उसे आत्मदाह की कोशिश करनी पड़ी तब जाकर मुकदमा लिखा गया।
याद कीजिए बाराबंकी के उस बेटी की घटना जो यहीं मुख्यमंत्री आवास पर आई थी न्याय मांगने के लिए। उसने भी आत्मदाह किया और बाद में उसकी जान नहीं बची। उन्नाव की एक बेटी का तो पूरा परिवार खो दिया कौन दोषी था, भारतीय जनता पार्टी की सरकार दोषी थी। यह बेटी जिसकी जान गई है तो उसके भी कोई दोषी हैं तो वह सरकार है क्योंकि सरकार की जानकारी में थी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD