Country

तमिल राजनीति में नया मोड़

करुणानिधि के निधन के बाद केवल डीएमके ही नहीं, बल्कि तमिलनाडु की राजनीति में नए मोड़ की संभावना बढ़ गई है। तमिलनाडु के पांच बार मुख्यमंत्री रहे। डीएमके प्रमुख एम ़ करुणानिधि का 7 अगस्त को निधन हो गया। वह काफी लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे।

तमिलनाडु सरकार ने विपक्षी द्रमुक को उसके दिवंगत नेता करुणानिधि को दफनाने के लिए मरीना बीच पर जगह देने से साफ इंकार कर दिया। उसे इसके लिए पूर्व मुख्यमंत्री सी राजगोपालचारी और के ़ कामराज के स्मारकों के करीब जगह देने की पेशकश की। सरकार के इस फैसले से विवाद भी जन्मा। मामला मद्रास हाईकोर्ट तक पहुंचा। डीएमके की याचिका पर सुनवाई के बाद मद्रास हाईकोर्ट ने फैसले में कहा कि करुणानिधि को मरीना बीच पर ही दफनाया जाएगा। सुनवाई के दौरान डीएमके के वकील ने कहा कि राज्य की सात करोड़ आबादी में से एक करोड़ डीएमके के समर्थक हैं, अगर करुणानिधि को मरीना बीच पर दफनाने की अनुमति नहीं मिलती है तो वे सभी आहत हो जाएंगे। डीएमके के संस्थापक अन्ना दुर्रई अक्सर कहा करते थे- मेरा जीवन और मेरी आत्मा करुणानिधि हैं।

करुणानिधि के पार्थिक शरीर को सीआईटी कॉलोनी स्थित कनिमोझी के घर से राजाजी हॉल ले जाया गया ताकि नेता, पार्टी कार्यकर्त्ता और आम लोग उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि दे सकें। कुछ लोगों को करुणानिधि को दफनाने पर हैरानी हो रही है। जयललिता के निधन पर भी यह सवाल उठा था कि जयललिता का दाह संस्कार क्यों नहीं किया गया। दरअसल करुणानिधि की तरह जयललिता भी द्रविड़ मूवमेंट से जुड़ी थीं। द्रविड़ आंदोलन हिंदी धर्म की किसी ब्रह्मणवादी परंपरा और रस्म में यकीन नहीं करता। द्रविड़ आंदोलन से जुड़े रहने के कारण ही करुणानिधि को दफनाया गया। जयललिता से पहले एमजी रामचंद्रन को भी दफनाया गया था। तमिलनाड़ु के प्रथम मुख्यमंत्री अन्ना दुरै की भी उनके बगल में कब्र है।

गौरतलब है कि एमजीआर पहले डीएमके में ही थे लेकिन अन्ना दुरै के निधन के बाद जब पार्टी की कमान करुणानिधि के हाथों में आई तो नाराज होकर अलग हो गए। और एआईएडी- एमके की स्थापना की। करुणानिधि के निधन के बाद तमिलनाडु की राजनीति में निश्चित तौर पर एक शून्य उभरा है। इस शून्य में खुद की उपस्थिति को लेकर बहुत जल्द ही कवायदें भी शुरू हो जाएंगी, हालांकि शुरू तो पहले से ही हो गयी थी अब दिखाई देने लगेगी। डीएमके और एआईएडीएमके के बीच की सियासी जंग अपनी जगह है। इससे भी इतर कुछ होने की गुंजाइश वहां की राजनीति में दिखाई दे रही है। वहां की सियासत का सिनेमा से बहुत पुराना संबंध है। साहित्य और सिनेमा के पुराने और वर्तमान संबंध पर चर्चा से पहले करुणानिधि के सियासी सफर को बातें जिसका आगाज सिनेमा से ही होता।

करुणानिधि के व्यक्तित्व के कई पहलू थे। वह एक सफल राजनेता के साथ-साथ पिता, लेखक, साहित्यकार, पत्रकार, तमिल सिनेमा के मशहूर पटकथा लेखक थे। उनके समर्थक उन्हें कलाईनारा यानी कला का विद्वान भी कहते हैं। उन्होंने मात्र 20 साल की उम्र में तमिल फिल्म उद्योग में पटकथा लेखक के रूप में अपने करियर का आगाज किया। अपनी पहली फिल्म राजकुमारी से ही वे मकबूल हो गए। वह एक प्रसिद्ध पटकथा लेखक के रूप में स्थापित हो गए। उनकी लिखी 75 से अधिक पटकथाएं मशहूर हुई।

असल में करुणानिधि ने द्रविड़ आंदोलन के जरिए राजनीति का सफर तय किया। उन्होंने अपनी फिल्म पराशिक्त के मार्फत अपने राजनीतिक विचारों का प्रचार-प्रसार किया। यह फिल्म तमिल सिनेमा जगत की माइल स्टोन है। इससे द्रविड़ आंदोलन को समर्थन मिला। फिल्म सुपरहिट रहे मगर विवादों से नहीं बच सकी। उनके लेखन में समाज सुधार होता था। करुणानिधि ‘कुडियारसु’, ‘मुत्तारम’, ‘अरासु’ सहित कई तमिल और अंग्रेजी पत्र-पत्रिकाओं का संपादकीय दायित्व निभाते रहे।

तमिल फिल्मों में काम करने के कारण ही वह एमजी रामचंद्रन के करीब आए। करुणानिधि की फिल्मों में एमजीआर ने काफी काम किया। लेकिन अन्ना दुरैई के निधन के बाद करुणानिधि वहां के मुख्यमंत्री बन गए। तब उनको मुख्यमंत्री बनने में एमजीआर ने मदद की। लेकिन बाद में दोनों के दरम्यान सियासी जंग शुरू हो गई जो मरते दम तक जारी रही। एमजीआर ने तत्कालीन मुख्यमंत्री करुणानिधि पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। नतीजतन उनको पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इसके बाद ही एमजीआर ने अन्नाद्रमुक नाम से दूसरी पार्टी बना ली और वहां के चुनाव में जीत के बाद मुख्यमंत्री बने। यही वह दौर था जब तमिलनाडु में चुनाव में सस्ती लोकप्रियता के नए-नए नुस्खे अपनाए गए। एमजीआर के जीवित रहते करुणानिधि मुख्यमंत्री नहीं बन पाए। येरियार के समाज सुधार आंदोलन का समर्थक, हिंदी विरोध का झंडा और श्रीलंकई तमिलनाडु के मुद्दे को लेकर ही करुणानिधि राजनीति के केंद्र में रहे। वक्त ने करवट ली और करुणानिधि की प्रतिद्वंदिता जयललिता से हो गई। यह प्रतिद्वंदिता वर्षों तक चलती रही। जयललिता के बाद अब करुणानिधि भी चले गए। यक्ष प्रश्न यह हे कि इनके बाद कौन?

बेशक तमिलनाडु की राजनीति में एक शून्य उभरा है। उस शून्य की भूमिका कौन? वर्तमान मुख्यमंत्री या करुणानिधि के पुत्र एम स्टालिन के वश की बात नहीं। सारी उम्मीद भरी निगाह सिनेमा की दो बड़े हस्तियों पर टिकी हैं- रजनीकांत और कमल हसन। क्या सिनेमा और सियासत की पुरानी परंपरा आगे भी बढ़ेगी। दोनों ही बेहद लोकप्रिय अभिनेता हैं। दक्षिण में सिनेमा के अभिनेता, खासकर रजनीकांत को ‘भगवान’ का दर्जा देते हैं, उनके प्रशंसक। क्या राजनीकांत और कमल हसन सियासत में अपनी सक्रियता बढ़ाएंगे?

4 Comments
  1. 激光靶向祛痣:對斑痣的顯性症狀能快速控制、甚至消除,短期實現肌膚無暇;多款激光設備深層激活膠原蛋白活性,深層煥發激活生命力。快速補充肌膚活性:根據顧客肌膚特性,醫生配套無創注射項目,為肌膚注入玻尿酸、肉毒素等能直接補充肌膚活性,快速補充肌膚缺失的玻尿酸、膠原蛋白,並能達到年輕態塑型的效果,從膚質和形態上保持年輕。聯合療法:注射玻尿酸、肉毒素等產品、配合精確波長的激光能加速透明質酸、肉毒素等物質的吸收,能極大化提高注射營養物質轉換率,最高達30以上,塑形效果保持3.5個月以上,年輕態效果保持時間延長1年以上。

  2. 通過水光療程抑制黑色素細胞生長的成分注射到真皮層,減少黑色素形成,淡化黑斑色素沉澱,從而達到美白祛斑的效果 療程特色 :可配搭多元化產品來量身訂做不同療​​程計算機化規格,操作方便,容易控制可調節進針深度,精準注射於目標的肌膚層 每針的注射劑量相等,達到均勻注射 一次平均5點注射,可縮短療程時間 採用31號細針頭,幾乎看不到入針點 降低疼痛、瘀血、腫脹及不適感 使用靈活度高,可複合式搭配針劑,量身訂製療程

  3. Beauty Talk 美人語 美妝品牌情報匯集 找品牌 Beauty Talk 美人語 Beauty Talk 美人語 ,匯集了Beauty Talk 美人語凝膠,精華液,乳霜,藍銅胜肽抗老全系列,氧氣保濕系列,亮白系列

  4. 富里酸 3 days ago
    Reply

    雙眼皮手術前後須知

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like