[gtranslate]
Country

एक शादी ऐसी भी जिसमें नहीं होगा दूल्हा 

  •    प्रियंका यादव

गुजरात की क्षमा बिंदु की शादी का स्थान और शादी की तारीख दोनों तय हैं लेकिन इस शादी से केवल एक चीज गायब है वह है उसका दूल्हा। गुजरात के वडोदरा की रहने वाली क्षमा बिंदू खुद से शादी करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं। 11 जून को होने वाली क्षमा बिंदू की शादी फेरे और सिंदूर लगाने सहित सभी रस्मों और समारोहों के साथ पूरी होगी। इस शादी को लेकर अब विरोध भी शुरू हो गया है। भाजपा नेता सुनीता शुक्ला ने विरोध जताते हुए कहा कि इस तरह की शादी के लिए किसी भी मंदिर में इजाजत नहीं दी जाएगी। ऐसी शादी स्थल के लिए मंदिर के चुनाव के खिलाफ हूं, उसे किसी भी मंदिर में खुद से शादी करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। भाजपा नेता के अनुसार ऐसी शादियां हिंदू धर्म के खिलाफ हैं। इससे हिंदुओं की आबादी कम होगी अगर कुछ भी धर्म के खिलाफ जाता है तो कोई कानून नहीं चलेगा। भाजपा नेता के इस विरोध के बाद क्षमा बिंदु ने कहा की मैं किसी मंदिर में शादी नहीं करूंगी। मैं किसी की धर्मिक भावनाओं को आहत नहीं करना चाहती, मैंने शादी के लिए स्थान बदलने का फैसला कर लिया है।

 बिना पंडित के होगी शादी 

भाजपा नेता के बयान के बाद पंडित ने भी इस शादी को करवाने से मना कर दिया। बिंदु के अनुसार जिस पंडित ने शादी सम्पन्न करवाने की बात कही वे अपनी बात से पलट गए। पंडित  ने कहा बिना दूल्हे की शादी में वो हिस्सा नहीं लेंगें। क्षमा ने जिसका जवाब देते हुए कहा कि अब टेप पर मंत्र चला कर ही वो अपनी शादी की रशमें पूरी करेंगीं। सनातन धर्म के अनुसार  बिंदु  शादी करेंगी जिसमें वो मंगलसूत्र भी पहनेंगी और खुद से सिंदूर भी लगायेंगी।

 शोलोगेमी कानून नहीं लेकिन अवैध भी नहीं 

 क्षमा बिंदु के अनुसार पारंपरिक तरीके से शादी करने के बाद वो अपनी शादी का कानूनी तरीके से रजिस्ट्रेशन भी कराएंगी। उनके मुताबिक ये पंजीकण भी किसी अन्य कपल की तरह ही होगा। भारत में इस तरह की शादी का कोई कानून नहीं है. लेकिन इस तरह की शादी करना अवैध भी नहीं है.. उन्होंने कहा मैं इसके लिए आवेदन करुँगी और मेरे शादी वैध भी होगी। आपको बता दे ये अनोखी शादी गुजरात के वडोदरा में होने वाली है। और क्षमा बिंदु २४ वर्ष की है। ये शादी बिना दूल्हे के रशमो रिवाजो सहित होगी। क्षमा के अनुसार वो दुल्हन तो बनना चाहती है लेकिन वो किसी लड़के से शादी नहीं करना चाहती। इस लिए क्षमा ने फैसला लिया की वो खुद से ही शादी करेंगी। जिसमे मंडप भी होगा ,दुल्हन भी सजेगी ,लेकिन दूल्हे का नामो निशाँ नहीं होगा। उनके अनुसार इस शादी की वजह आत्म प्रणय है। खुद से भी प्यार किया जा सकता है जिसका संदेश वो दुनिया भर को देना चाहती है। अपनी शादी के फेरो के लिए उन्होंने ५ कश्मे भी लिखी। उनके माता पिता भी उनके इस फैसले के साथ है। आपको बता दे कि ११ जून को ये शादी होने जा रही है। उन्होंने कहा शादी के बाद वो दो हफ्तों के लिए अपने हनीमून के लिए गोवा भी जायेंगीं वो भी अकेली। क्षमा का कहना है इस तरह की शादी का विचार उनके दिमाग ,में पहले से ही था लेकिन उन्होंने कभी नहीं सोचा था की ये पूरा होगा। जब उन्होंने सोलोगेमी के बारे में पढ़ा तो उन्होंने खुद से शादी करने का फ़ैसला लिया। 

 इस वजह से खुद से शादी करेंगी क्षमा बिंदू

क्षमा बिंदू की शादी गुजरात में स्व-विवाह या ‘सोलोगैमी’ का पहला उदाहरण है, उन्होंने अपने निर्णय के बारे में कहा है कि यह खुद से प्रेम का तरीका है. क्षमा बिंदू ने मीडिया इंटरव्यू में बताया कि मैं कभी शादी नहीं करना चाहती थी. लेकिन मैं दुल्हन बनना चाहती थी. इसलिए मैंने खुद से शादी करने का फैसला किया. 11 जून को होने वाली शादी फेरे और सिंदूर लगाने सहित सभी रस्मों और समारोहों के साथ पूरी होगी। 

 क्या होता है सोलोगेमी विवाह 

 जैसे पॉलीगैमी को बहुविवाह कहते हैं। मोनोगैमी को एक विवाह कहते हैं वैसे सोलोगैमी को हिंदी में स्व-विवाह कहा जाता है। यानि जबकोई व्यक्ति खुद से शादी करले तब वह सोलोगेमी मैरिज करता है। यूरोप और अमेरिका के देशो में इस तरह का ट्रेंड देखने को मिलता है। 1993 में अमेरिका की लिंडा बेकर नाम की एक महिला ने खुद से शादी की थी। लिंडा बेकर की शादी को पहली सेल्फ मैरिज का दर्जा मिला है। जब लिंडा बेकर ने शादी की थी तब करीब 75 लोग इस शादी समारोह में शामिल हुए थे। ऐसे ही ब्राजीलियन मॉडल क्रिस गैलेरा ने भी सोलोगैमी शादी की थी लेकिन अपने आप से ही 90 दिनों बाद सैल्फ तलाक लेकर अपनी सोलो मैरिज को खत्म कर दिया क्योंकि ठीक 90 दिन बाद उन्हें प्यार हो गया था। 

You may also like

MERA DDDD DDD DD