[gtranslate]
Country

चीन से तनावपूर्ण माहौल के बीच 27 जुलाई तक 6 राफेल लड़ाकू विमान पहुंचेंगे भारत

चीन के बीच तनावपूर्ण माहौल के बीच 27 जुलाई तक 6 राफेल लड़ाकू विमान पहुंचेंगे भारत

भारत और चीन के बीच तनावपूर्ण माहौल के बीच भारत के लिए एक अच्छी खबर है। राफेल फाइटर जेट्स का पहला बैच 27 जुलाई को भारत आएगा। राफेल की पहली टुकड़ी को हिरण अंबाला एयर बेस पर तैनात किया जाएगा।

प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, चार से छह राफेल विमान फ्रांस से भारत पहुंचेंगे। राफेल का गोल्डन एरो स्क्वाड्रन अगस्त में किसी भी लड़ाई के लिए तैयार होगा। पहले ये विमान मई में आने वाले थे, लेकिन कोरोना वायरस से उत्पन्न हुई स्थिति के चलते ये समय पर नहीं आ सके।

यह चीन के साथ मौजूदा तनावों के संदर्भ में और भारत के लिए युद्ध में गेमचेंजर साबित हो सकता है। राफेल को भारतीय वायु सेना में शामिल करना चीन के लिए एक जागृत आह्वान है। क्योंकि चीन-पाकिस्तान के पास राफेल जैसा कोई लड़ाकू विमान नहीं है। केवल भारतीय पायलट दक्षिणी फ्रांस के इस्त्रेस बेस से एंब्रेस, हरियाणा से राफेल फाइटर जेट लाएंगे। फ्रांस से भारत आने वाली उड़ानें केवल कुछ समय के लिए संयुक्त अरब अमीरात में अल धफ्रा एयर बेस पर रुकेंगी।

रक्षा मंत्रालय द्वारा कहा गया था कि दोनों मंत्रियों ने क्षेत्रीय सुरक्षा परिदृश्य सहित आपसी चिंता के मामलों पर चर्चा की और द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को मजबूत करने पर सहमति व्यक्त की। हालांकि, अभी यह पता नहीं चल सका था कि क्या इस वार्ता के दौरान लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव पर चर्चा हुई या नहीं।

गौरतलब है कि भारत सरकार की ओर से भारतीय वायुसेना की आपातकालीन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए 36 लड़ाकू राफेल विमान के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ 60,000 करोड़ रुपये से अधिक के समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। आठ अक्टूबर को राजनाथ सिंह ने पहला राफेल विमान फ्रांस के एक एयरबेस पर प्राप्त किया था।

भारत और फ्रांस के बीच हुए समझौते के अनुसार, फ्रांस 2022 तक भारत को कुल 36 राफेल लड़ाकू जेट की आपूर्ति करेगा। भारत को इस साल चार से छह राफेल विमान मिलेंगे। राफेल की पहली टुकड़ी अंबाला अड्डे पर और दूसरी पश्चिम बंगाल में हासीमारा अड्डे पर होगी। राफेल चौथी पीढ़ी का अत्याधुनिक लड़ाकू विमान है।

You may also like