Country

नए मोटर व्हीकल एक्ट के विरोध में दिल्ली-एनसीआर में 51 संगठनों ने की हड़ताल घोषणा

देशभर में  एक सितंबर से नया मोटर व्हीक्ल एक्ट-2019 लागू होने के बाद से लगातार ट्रकों के हो रहे  भारी-भरकम चालानों को लेकर विरोध के सुर तेज हो गए हैं।अब ऑल इंडिया ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशन ने कल  19 सितंबर को हड़ताल की घोषणा की है ,कल  दिल्ली-एनसीआर में सार्वजनिक वाहन नहीं चलेंगे, बताया जा रहा है कि 51 संगठनों ने इस हड़ताल में शामिल होने की घोषणा की है। इस हड़ताल में सार्वजनिक वाहनों के साथ-साथ स्कूल बस और कैब भी शामिलहैं।


नए मोटर व्हीकल एक्ट में कई गुना तक बढ़े जुर्माने, बीमा की राशि और आरएफआइडी टैग की अनिवार्यता सहित अन्य मसले को लेकर ट्रक, टेंपो, बस, ऑटो, टैक्सी और कैब सर्विस ने हड़ताल का ऐलान किया है। इस दौरान तकरीबन 25 हजार ट्रक, 35 हजार ऑटो, 50 हजार टैक्सी और कैब नहीं चलेंगी। स्कूल बस और स्कूल कैब संचालकों ने भी हड़ताल में शामिल होने का ऐलान किया है।
हड़ताल की घोषणा के बाद दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों ने कल स्कूल बंद करने की घोषणा भी कर  दी है।  स्कूल बस नहीं चलने के चलते ज्यादातर स्कूलों ने सातवीं क्लास तक की छुट्टी करने का निर्णय लिया है, वहीं कुछ स्कूलों ने सभी क्लास नहीं लगाने का फैसला किया है।  दिल्ली के अलावा एनसीआर में आने वाले- गाजियाबाद, गुरुग्राम (गुड़गांव) और नोएडा के स्कूलों ने भी छुट्टी की घोषणा कर दी है।

हड़ताल के दौरान दफ्तर और अन्य कामों के लिए कैब का उपयोग करने वाले लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. क्योंकि पूरे दिल्ली-एनसीआर में कैब चालक हड़ताल पर रहेंगे. ऐसे में जिन इलाकों में मेट्रो नहीं है या वहां बस की कनेक्टिविटी भी ठीक नहीं है वहां के निवासियों को ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ सकती है।

You may also like