[gtranslate]
Country

समाजवादी पार्टी के 3 नेताओं की हत्या, BJP पंचायत सदस्य पर आरोप

समाजवादी पार्टी के 3 नेताओं की हत्या, BJP पंचायत सदस्य पर आरोप

लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश से हत्या की खबर आई है। समाजवादी पार्टी के नेता और उनके साथी पर जानलेवा हमला किया गया है। हमले में समाजवादी पार्टी के नेता देवेंद्र सिंह उर्फ लाठी सिंह समेत 2 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा 4 लोग घायल हैं। पुलिस ने 2 मुख्य आरोपियों समेत 11 लोगों को गिरफ्तार किया है।

यह मामला यूपी के गोंडा जिले की है। गोंडा जिले के उमरी बेगमगंज थाना क्षेत्र के परास मझवार ग्राम पंचायत के संगम गांव के प्राथमिक विद्यालय में शुक्रवार को डीसी मनरेगा और एपीओ तरबगंज मनरेगा जॉब कार्डधारकों का बयान लेने गए थे। बताया जा रहा है कि तभी बीजेपी के जिला पंचायत सदस्य अतुल परास के लोगों ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसमें लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्रनेता टिंटु सिंह, उनके भाई पूर्व प्रधान देवेंद्र कुमार सिंह उर्फ लाठी सिंह, कन्हैया पाठक समेत छह लोग घायल हो गए।

इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां देवेन्द्र कुमार सिंह उर्फ लाठी सिंह और कन्हैया पाठक को डॉक्टरों ने मृत बताया। वहीं समाजवादी नेता विजय कुमार उर्फ टिंटू सिंह की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है। बाकी 2 लोगों की स्थिति भी गंभीर है। इनके बिगड़ते हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने लखनऊ रेफर कर दिया है। लखनऊ ट्रामा सेंटर में इन सभी का इलाज चल रहा है।

सपा ने जताई नाराजगी

घटना के लेकर समाजवादी पार्टी ने नाराजगी जताई है। सपा का कहना है, “आपदा के आपातकाल में जब समाजवादी गांव, शहर में प्रशासन का सहयोग कर लोगों की मदद कर रहे हैं। तब सत्ता संरक्षित अपराधी सपा नेताओं की हत्या करा रहे हैं। गोंडा में सपा नेता एवं पूर्व प्रधान देवेंद्र सिंह, कन्हैया पाठक की हत्या, कई अन्य घायल। दोषियों को गिरफ्तार कर हो न्याय।”

डीआईजी देवीपाटन रेंज राकेश सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। फिलहाल 11 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, तत्काल प्रभाव से उमरी बेगमगंज के प्रभारी निरीक्षक को सस्पेंड कर दिया गया है। एसपी के मुताबिक, घटना की गंभीरता को देखते हुए रासुका की कार्रवाई की जा रही है। जबकि एसओ ओमप्रकाश सिंह ने इस मामले पर कहा कि परिजनों की ओर से तहरीर मिलने के बाद आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया जाएगा। पूरे घटनाक्रम की जानकारी जुटाई जा रही है।

क्या है पूरा मामला

मझवार संगम पुरवा गांव में मनरेगा मजदूरों को सरकार द्वारा दी जा रही सहायता राशि का पैसा वितरित किया जा रहा था। सूत्रों के मुताबिक, गांव के प्रधान और रोजगार सेवक की मिलीभगत से लोगों को कम पैसा दिया जा रहा था। इस बात की शिकायत की गई थी। जिसके बाद जांच करने गई टीम के सामने ही जिला पंचायत सदस्य अतुल सिंह नें अपने साथियों के साथ मौके पर पहुंचकर तबातोड़ फायरिंग शुरू कर दी।

You may also like

MERA DDDD DDD DD