[gtranslate]
Country Poltics

2020 : साल भर कांग्रेस पार्टी में मची रही उथल-पुथल, नेतृत्व पर भी उठा सवाल

नेतृत्व की कमी से जूझ रही इस राष्ट्रीय पार्टी को वर्ष 2020 में एक के बाद एक झटके लगे जिसे पार्टी चाहकर भी अगले कई वर्षों तक भूल नहीं पाएगी। वर्ष 2020 कांग्रेस पार्टी के लिए संघर्ष और संकट भरा रहा। कह सकते हैं कि जितने उतार-चढ़ाव इस वर्ष हुए या जो अप्रिय घटनाएं हुईं शायद ही पार्टी ने उनकी कल्पना की होगी। पार्टी के लिए वर्ष 2020 कांग्रेस पार्टी के लिए किसी बुरे सपने की तरह ही रहा।

इसी वर्ष कांग्रेस पार्टी ने यह मंजर भी देखा जब गांधी परिवार के बेहद करीबी रहे लोगों ने अपने बगावती तेवर दिखाए। अपने किसी विश्वासपात्र नेता का यूँ बागी होना आतंरिक कलह का अचानक से सार्वजनिक हो जाने की ओर इशारा करता है। इसी के चलते मध्य प्रदेश में कांग्रेस को सरकार भी गंवानी पड़ी तो कुछ अन्य राज्यों में पार्टी के बनी-बनाई सरकार के ऊपर संकट भी मंडराया रहा। कुछ नेता ऐसे भी रहे जिन्होंने सिर्फ बागी तेवर ही नहीं बल्कि गांधी परिवार के खिलाफ खुलकर सामने आये और आवाज भी उठायी।

आइये समझते हैं,साल 2020 के खत्म होने तक,पार्टी ने क्या खोया और क्या पाया ?

जब देश की राजधानी में,शून्य पर पहुंची कांग्रेस

साल 2020 का पहला विधानसभा चुनाव दिल्ली में लड़ा गया जिसमें पार्टी ने लगातार दूसरी बार अपना सबसे खराब प्रदर्शन दोहराया। तीन बार दिल्ली की सत्ता में रही पार्टी को दिल्ली विधानसभा में एक भी सीट नहीं मिली।
लेकिन एक महीने बाद पार्टी को सबसे तगड़ा झटका तब लगा जब मध्य प्रदेश में उसके एक दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बगावत कर दी। इस बगावत ने डेढ़ साल पहले ही 2018 में बनी राज्य की कमलनाथ सरकार को गिरा दिया।

ज्योदिरादित्य सिंधिया ने पार्टी से जब तोडा अपना  नाता

ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद तो भाजपा में गए ही उनके जाने के बाद उनके समर्थन में कांग्रेस के दर्जनों विधायक पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। आखिर में कांग्रेस को अपने 25 जीते हुए विधायकों को नुकसान उठाना पड़ा और कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़ा। इसके बाद एक बार फिर भाजपा के शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

ज्योदिरादित्य का पार्टी से जाना कांग्रेस के लिए ही नहीं बल्कि कांग्रेस की ताकत कहे जाने वाले गांधी परिवार के लिए भी झटका था। ज्योदिरादित्य सिंधिया को राहुल गांधी का करीबी माना जाता था। वे उन नेताओं में थे जो कभी भी राहुल गांधी तक पहुंच सकते थे।

चिट्ठी के बहाने आंतरिक कलह हुई सार्वजनिक

पार्टी एक बार फिर मुश्किल में आई जब अगस्त में पार्टी के दिग्गज और लंबे समय से गांधी परिवार के करीबी रहे 23 नेताओं ने पार्टी में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चिठ्ठी लिखी जो सार्वजनिक हो गई। इसमें गुलाम नबी आजाद थे जो 1998 में उस समय कांग्रेस के सचिव थे जब पार्टी ने सीताराम केसरी को हटाकर सोनिया गांधी को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया था।

 

उस समय केसरी को दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में एक कमरे में बंद कर दिया गया था और उसी दौरान सोनिया गांधी ने ऑफिस संभाल लिया था। अब वहीं आजाद कांग्रेस में सामूहिक नेतृत्व की बात कर रहे थे जिसका कि गांधी परिवार एक अविभाज्य अंग हो। सबसे खास बात यह थी कि यह समूह पार्टी में पूर्ण नेतृत्व की मांग कर रहा था।

गांधी परिवार की आस्था पर उठे सवाल

इन दिग्गज नेताओं के चिठ्ठी सार्वजनिक होने से इस बात पर मुहर लग गई कि पार्टी के बारे में जैसा बाहर सोचा जा रहा था वैसी ही आवाजें पार्टी के अंदर से भी उठ रही हैं। इसके पहले रामचंद्र गुहा जैसे वरिष्ठ इतिहासकार कहते रहे थे कि पार्टी को गांधी परिवार से बाहर झांकना चाहिए।

इस घटना ने इसे और पुख्ता किया हालांकि पार्टी के एक दूसरे वर्ग ने गांधी परिवार में ही आस्था जताई और चिठ्ठी लिखने वाले नेताओं के बारे में बुला-भला यहां तक कि भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप भी लगा दिया गया लेकिन इस चिठ्ठी ने आम जनता के सामने ये जरूर ला दिया कि कांग्रेस में सब ठीक नहीं है। इन दिग्गज नेताओं के चिठ्ठी सार्वजनिक होने से इस बात पर मुहर लग गई कि पार्टी के बारे में जैसा बाहर सोचा जा रहा था वैसी ही आवाजें पार्टी के अंदर से भी उठ रही हैं।

पार्टी को गांधी परिवार से बाहर झांकना चाहिए

अब तक आम जनता भी जान चुकी थी कि कांग्रेस में सब ठीक नहीं हैं। रामचंद्र गुहा जैसे वरिष्ठ इतिहासकार बहुत पहले से कहते रहे हैं कि पार्टी को गांधी परिवार से बाहर झांकना चाहिए।चिट्ठी प्रकरण ने इस बात की पुष्टि भी की। हालाँकि बहुत से ऐसे नेता भी रहे जिन्होंने चिट्ठी लिखने वालों को बुरा-भला कहा और गांधी परिवार में ही अपनी आस्था बरकरार रखने की बात पुरजोर तरीके से कहा गया।

एक तरफ जहां पार्टी के अंदर झटके लग रहे थे वहीं पार्टी ने इस साल चुनावी राजनीति में भी खास प्रदर्शन नहीं किया। अक्टूबर नवम्बर में ही बिहार विधानसभा के चुनाव हुए जिसमें पार्टी ने पिछली बार की अपेक्षा ज्यादा सीटें चुनाव लड़ने के लिए तो हासिल कर लीं लेकिन उसका प्रदर्शन पिछली बार से भी खराब रहा।

महागठबंधन में सबसे कमजोर कड़ी रही कांग्रेस

पिछली बार जहां पार्टी ने 40 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 27 सीटें जीती थीं वहीं इस बार पार्टी के हिस्से में चुनाव लड़ने के लिए 70 सीट आई थीं। लेकिन परिणामों में कांग्रेस सिर्फ 19 सीटों पर ही कब्जा जमा सकी। चुनाव के बाद ये भी कहा जाने लगा कि महागठबंधन में सबसे कमजोर कड़ी कांग्रेस ही रही जबकि वामदलों ने कम सीट पर चुनाव लड़कर ही अच्छा प्रदर्शन किया था।

इसी नवम्बर में मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए जहां एक बार फिर कांग्रेस को अपनी ताकत दिखाने का मौका था लेकिन पार्टी यहां भी फेल हुई। इनमें 25 सीट तो वही थी जहां से इसके ही विधायक जीते थे और पार्टी बदलकर भाजपा में शामिल हो गए थे। 28 सीटों पर हुए चुनाव में कांग्रेस सिर्फ 9 सीट जीतने में सफल रही और इस तरह राज्य में वापसी का सपना पूरा नहीं हो सका। वहीं गुजरात और उत्तर प्रदेश के उपचुनावों में भी पार्टी का प्रदर्शन निराशाजनक रहा।

पार्टी के सबसे बड़े रणनीतिकार अहमद पटेल का कोरोना से निधन

कांग्रेस के लिए एक और बड़ा झटका रहा पार्टी के सबसे बड़े रणनीतिकार का दुनिया से चले जाना। पार्टी में शुरुआत से ही सोनिया गांधी के करीबी रहे कद्दावर नेता और राज्यसभा सांसद अहमद पटेल का कोरोना से निधन हो गया। पटेल को सोनिया गांधी का संकट मोचक कहा जाता था। कई बार कांग्रेस को उन्होंने कुशल प्रबंधन के चलते संकट से उबार लिया था। इनमें राजस्थान में सचिन पायलट के बागी होने का मामला सबसे ताजा है।

अहमद पटेल पर आयकर विभाग चौतरफा शिकंजा

कहा जाता है कि इस बगावत को शांत करने में अहमद पटेल की सबसे अहम भूमिका थी। गुजरात में राज्यसभा सीट के चुनाव में उनका प्रबंधन तब सबसे ज्यादा चर्चा में रहा जब उन्होंने भाजपा के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह के दांव को फेल करते हुए उन्होंने सीट निकाल ली थी। लेकिन हर बार मुश्किलों को मात देने वाले पटेल कोरोना महामारी से एक महीने तक लड़ने के बाद 25 नवम्बर को आखिर हार गए और दुनिया को अलविदा कह दिया। पटेल का जाना कांग्रेस पार्टी के साथ ही गांधी परिवार के लिए भी बड़ा झटका था।

मोतीलाल वोरा का जाना,पार्टी के लिए बड़ी क्षति

मोतीलाल वोरा कांग्रेस की राजनीति के उन चुनिंदा नेताओं में शामिल रहे जिन्होंने गांधी परिवार की तीन पीढि़यों के साथ काम किया है। उन्होंने इंदिरा गांधी के कार्यकाल में राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय हुए। इसके बाद वे राजीव गांधी के साथ भी काम किए।

गांधी परिवार के करीबी नेताओं में शामिल वोरा सोनिया गांधी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहने के दौरान पूरे समय कोषाध्यक्ष रहे। राहुल गांधी के कार्यकाल में भी वे लंबे समय तक उस पद पर बने रहे। उनका जाना न केवल छत्तीसगढ़, बल्कि पूरे कांग्रेस परिवार के लिए एक अभिभावक के चले जाने जैसा है। वह आजीवन एक समर्पित कांग्रेसी बने रहे। उनकी जगह कभी नहीं भरी जा सकेगी।

   नेतृत्व क्षमता पर भी उठने लगे सवाल

एक तरफ पार्टी की चुनावों में हार और दूसरी तरफ संगठन में नेताओं की बगावत, इन सब बातों ने पार्टी में गांधी परिवार की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठने लगे हैं। जो कांग्रेस विपक्षी गठबंधन की धुरी कही जा रही थी वह अब गठबंधन के लिए बोझ नजर आने लगी है। लगातार चुनावों में हार के बाद अब विपक्षी दलों में भी नए नेतृत्व की आवाज उठने लगी हैं।

हाल ही में शिवसेना ने विपक्ष के लिए एक प्रभावी नेतृत्व की मांग रखी थी। इस दौरान राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार को विपक्ष का नेता बनाए जाने की मांग उठने लगी। बिहार में तो राजद ने ये तक कह दिया कि अगर नीतीश तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाएं तो पार्टी 2024 में उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने के लिए अपना समर्थन देगी।

136वें स्थापना दिवस पर छुट्टियां मनाने विदेश गए राहुल गांधी

एक तरफ पार्टी नेतृत्व के संकट से जूझ रही है। विपक्षी गठबंधन अपने लिए नए नेता की तलाश कर रहा है क्योंकि उसे कांग्रेस में नेतृत्व नजर नहीं आ रहा है। वहीं देश भर में किसान आंदोलन कर रहे हैं। इस बीच 28 दिसम्बर को कांग्रेस के 136वें स्थापना दिवस पर खबर आई कि राहुल गांधी इसमें शामिल नहीं होंगे क्योंकि वह छुट्टियां मनाने विदेश गए हुए हैं। निश्चित तौर पर कांग्रेस पार्टी को अगर उपर्युक्त स्थिति से पार पाना है तो वर्ष 2021 का समय नए वर्ष का स्वागत करने का नहीं बल्कि आत्म मंथन कर पार्टी को मजबूती देने का है।

You may also like

MERA DDDD DDD DD