Country

भाजपा के 200 विधायक गुर्जर के समर्थन में,अपनी ही सरकार के खिलाफ बगावत

 

आज लखनऊ की विधानसभा के अंदर चौकाने वाला वाकया घटित हुआ। जब लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर के समर्थन में अपनी ही पार्टी के खिलाफ भाजपा के सैकड़ो विधायकों ने बगावत का झंडा लहराया। योगी सरकार के कार्यकाल में यह पहली बार है जब इतनी संख्या में भाजपा के अपनी ही पार्टी के खिलाफ विधायकों ने विधानसभा में धरना दे दिया। बहरहाल इस प्रकरण से गुर्जर का पलड़ा भारी पड़ा है।  पार्टी के ही जो नेता अंदरखाने गुर्जर पर आरोप लगाकर उन्हें कमजोर करने का षड्यंत्र रच रहे थे उन्हें मुँह की खानी पड़ी है।

गौरतलब है कि भाजपा के लोनी से विधायक नंद किशोर गुर्जर के उत्पीड़न को लेकर भाजपा के 200 विधायक अपनी ही सरकार के खिलाफ आज विधानसभा सदन के भीतर धरने पर बैठ गए हैं। बीते बुधवार को लोनी में तैनात फूड इंस्पेक्टर आशुतोष सिंह का एक वीडियो सामने आया था। जिसमें आरोप है कि विधायक नंद किशोर ने कार्यालय बुलाकर मीट के होटलों के लाइसेंस न बनाने का दबाव डाला था।

दरअसल इसके बाद ही भाजपा ने लोनी से विधायक नंद किशोर गुर्जर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री विद्यासागर सोनकर ने विधायक नंद किशोर से एक सप्ताह के भीतर जवाब मांगा है। विधायक पर यह कार्रवाई उनके खिलाफ मिल रही शिकायतों और मीडिया में आए उनके वक्तव्यों के आधार पर की गई है।  गाजियाबाद के एसपी नीरज जादौन की संस्तुति पर विधायक व उनके साथियों पर आईपीसी की धारा 147, 148, 323, 504, 506 और 332 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है था।


दूसरी तरफ, विधायक ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर कहा था कि उनपर ऐसी धाराओं में मुकदमा दर्ज न किया जाए, जिससे वे आजीवन जेल में रहें और उनका जीवन सुरक्षित रह सके, क्योंकि कुछ लोग उनकी हत्या कराना चाहते हैं। पत्र में उन्होंने गाजियाबाद के जिलाध्यक्ष व लोनी के पूर्व नगर पालिका चेयरमैन पर भी आरोप लगाए कि ये लोग अधिकरियों से सांठगांठ कर उनकी छवि को बदनाम करने का काम कर रहे हैं।

You may also like