[gtranslate]
Country

सप्ताह में 150 मिनट की कसरत से दूर होगा अवसाद-तनाव : शोध

विश्व में अवसाद के मामले जिस तरह दिन-प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं। उसी तरह रोजाना इससे जुड़े अध्ययन सामने आते रहते हैं। इस गंभीर विषय पर हाल ही में एक शोध किया गया जिसके अनुसार देखा गया है कि 150 मिनट की कसरत करने वाले अधिकतर लोग हमेशा स्वस्थ रहते हैं।  कसरत और सैर करना अवसाद से ग्रसित लोगों के लिए काफी कारगर साबित हुआ है।

गौरतलब है कि दुनिया की एक तिहाई आबादी अवसाद, दुश्चिंता और तनाव जैसी मानसिक स्थितियों का सामना कर रही हैं। दुनिया के हर एक आदमी को कोई न कोई परेशानी है लेकिन केवल कसरत करने से आप अपने तनाव और इन मुश्किलों से छुटकारा पा सकते हैं। ऐसा हम नहीं हाल ही में यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथ ऑस्ट्रलिया का एक शोध कहता है। इन सब बीमारियों से निजात पाने के लिए हम महंगे उपचार और दवाओं पर अपना पैसा खर्च करते हैं। इतना पैसा लगाने के बाद भी हम बेहतर स्वास्थ्य को खरीद नहीं सकते हैं। लंबे समय तक कई दवाओं का सेवन भी करते हैं। लेकिन शोध के अनुसार इन सबके बजाए एक व्यक्ति केवल सप्ताह में 150 मिनट की कसरत करें तो अवसाद और तनाव से बचा जा सकता है।

इस नतीजे तक पहुंचने के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ता बेन सिंह, कैरोल महेर और जैकिंटा ब्रिंसली द्वारा 97 शोध परीक्षणों के नतीजों का अध्ययन किया गया है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन में इस शोध को प्रकाशित किया गया है।

यह भी पढ़ें : अविवाहित रहना पसंद कर रहीं हैं महिलाएं

97 शोध की हुई तुलना

अध्ययन में दावा किया गया है कि अवसाद से पार पाने में  दवाओं और चिकित्सा परामर्श की तुलना में शारीरिक गतिविधियां, जैसे- चलना, दौड़ना, खेलना या किसी भी तरह की कसरत ज्यादा कारगर साबित होती हैं। इस अध्ययन के दौरान 97 अलग-अलग शोध, 1,093 परीक्षण और 1,28,119 भागीदारों के नतीजों की तुलना की गई। अध्ययन के अनुसार कसरत,  दवाओं और परामर्श की तुलना में 150 फीसदी ज्यादा लाभकारी है। मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के साथ ही कसरत के दूसरे और भी कई लाभ हैं।

You may also like

MERA DDDD DDD DD