[gtranslate]
Country

लोकसभा के बाद विधानसभा फतह की तैयारी में भाजपा

लोकसभा चुनाव 2019 में पार्टी को प्रचंड जीत दिलाने के बाद अमित शाह भाजपा के सांगठनिक मामलों के प्रभारी नेताओं के साथ पार्टी मुख्यालय में बैठक कर रहे हैं। इसमें शामिल होने के लिए वसुंधरा राजे, उमा भारती, दिलीप घोष, विनय सहस्त्रबुद्धे, जेपी नड्डा और भूपेंद्र यादव भी पहुंचे हैं। इस बैठक में पार्टी की आगामी चुनावी रणनीति पर चर्चा होने की उम्मीद है।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को देश भर में चलाए जाने वाले पार्टी के सदस्यता अभियान की कमान दी जा सकती है। इससे पहले 9 जून को अमित शाह ने हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी। इन राज्यों में साल भर के अंदर विधानसभा चुनाव होने हैं।

नई सरकार में गृहमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद से ही अमित शाह लगातार बैठक कर रहे हैं। ईद के दिन भी उन्होंने हाईलेवल मीटिंग बुलाई थी। इसके अलावा उन्होंने देश की आंतरिक सुरक्षा की जानकारी भी ली थी। जिसमें नक्सलवाद और आतंकवाद पर विशेष रूप से चर्चा हुई।

सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पार्टी की इकाइयों में संगठन के चुनाव हरियाणा और महाराष्ट्र राज्यों में विधानसभा चुनावों के साथ हो सकते हैं। इसके बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा।
शाह का तीन साल का कार्यकाल इस साल की शुरूआत में खत्म हो चुका है लेकिन पार्टी ने उनसे संगठन के चुनाव होने तक कामकाज संभालने को कहा। लोकसभा चुनावों पर ध्यान देने की वजह से संगठन के चुनाव टाल दिये गये थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिमंडल में शाह के शामिल होने के बाद अटकलें हैं कि वह पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ देंगे। भाजपा ने अभी तक इस विषय पर कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की है। सूत्रों ने बताया कि पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर सदस्यता अभियान भी चलाएगी जिसके बाद राज्यों में उसके अध्यक्षों का चुनाव होगा। इस पूरी प्रक्रिया के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाएगा।

You may also like