fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 7 05-08-2017
 
rktk [kcj  
 
जनपदों से 
 
पत्रकारिता को सम्मान

नई दिल्ली। केदारनाथ में आई आपदा के दौरान सेना ने राहत एवं बचाव कार्य को जिस जज्बे के साथ अंजाम दिया उससे पूरा देश सैनिकों को सैल्यूट करता है। जवान अपनी जान की परवाह किए बगैर कठिन परिस्थितियों में भी जहां-तहां फंसे लोगों को बचाने में जुटे रहे। जवानों के साथ ही पत्रकारों ने भी आपदाग्रस्त क्षेत्रों में जाकर देश-दुनिया को वहां के हालात से अवगत कराने में सराहनीय कार्य किया है। इन पत्रकारों की भूमिका भी जवानों की ही तरह है। इसलिए उन्हें आज सम्मानित कर मुझे गर्व महसूस हो रहा है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने दिल्ली पैरा मेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट (डीपीएमआई) की ओर से आयोजित एक सम्मान समारोह में ये विचार व्यक्त किए। इंस्टीट्यूट के स्थापना की १८वीं वर्षगांठ के अवसर पर नई दिल्ली स्थित हिन्दी भवन में कुल १३ पत्रकारों को जोखिम भरे कार्य के लिए सम्मानित किया गया। पत्रकारों ने आपदा की विषम परिस्थितियों में दुर्गम द्घाटियों में जाकर बेहतर कवरेज की। इन पत्रकारों में 'दि संडे पोस्ट' के रोमिंग एसोसिएट एडिटर गुंजन कुमार भी शामिल हैं। उन्हें कालीमठ और मदमहेश्वर द्घाटी में पहली बार पहुंच कर रिपोर्टिंग के लिए सम्मानित किया गया। उनके वहां जाने से पहले इन दोनों द्घाटियों में सरकार का कोई नुमाइंदा स्थानीय लोगों का हाल जानने नहीं पहुंचा था। पहली बार 'दि संडे पोस्ट' वहां पहुंचा। सम्मानित होने वाले पत्रकारों में एनडीटीवी इंडिया के प्रोड्यूसर सुशील बहुगुणा और एसोसिएट एडिटर हृदयेश जोशी ईटीवी उत्तरकाशी के संवाददाता सुनील नवप्रभात इंडिया टीवी के वरिष्ठ संवाददाता मंजीत नेगी संपादकीय विभाग अमर उजाला के वेद विलास उनियाल दैनिक जागरण नई टिहरी के संवाददाता अनुराग उनियाल यूएनआई के वरिष्ठ पत्रकार कलुड़ा अभिनव राष्ट्रीय सहारा के संवाददाता मनोज कंडवाल अमर उजाला रुद्रप्रयाग के संदीप थपलियाल टीवी १०० के रिपोर्टर अमनदीप भट्ट अमर उजाला के फोटोग्राफर राजेश कंडवाल शामिल हैं।

 

डीपीएमआई के चेयरमैन विनोद बछेती ने कहा कि पत्रकारों ने आपदाग्रस्त क्षेत्रों की जमीनी हकीकत बयां करने में सेना जैसा ही जज्बा दिखाया। तभी देश-दुनिया को वहां की भयावहता का पता चला। वहां के ५० बच्चों को हमने गोद लिया है। इन बच्चों के शिक्षा के लिए संस्थान ने अनिल पंत को संयोजक बनाया है। अनिल पंत ने इस पर कहा कि आपदा में पहाड़ के लोगों ने जो खोया उसे कोई वापस नहीं कर सकता। हमें आगे बढ़ना है। इन बच्चों को भविष्य संवारना है।

 

बनी रही दूरियां

रामनगर (नैनीताल)। भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक रामनगर में २४-२५ अगस्त को आयोजित की गई। दो दिवसीय इस बैठक में प्रदेश के सभी दिग्गज नेता उपस्थित हुए। बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव में प्रदेश की पांचों लोकसभा सीटों पर जीत के दावे किए गए। जीत के लिए प्रदेश सरकार की विफलता और भ्रष्टाचार का मुख्य मुद्दा बनाने की नीति बनाई गई। लेकिन नेताओं की गुटबाजी के चलते वह कैसे पांचों सीट जीतेगी इसका जवाब पार्टी के किसी नेता के पास नहीं था। 

 

प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में दिग्गज नेताओं की उपस्थिति के बाद भी ऐसा नया कुछ नहीं था जिससे प्रदेश की जनता में सकारात्मक संदेश जा सके। मोदी का नाम और प्रदेश की कांग्रेस सरकार की आपदा प्रबंधन में विफलता को ही भाजपा अपनी जीत की गारंटी मान रही है। औपचारिकतावश राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव जरूर पेश किए गए लेकिन उसमें आगामी लोकसभा चुनाव के लिए फोकस ज्यादा था। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट द्वारा पेश किया गया राजनीतिक प्रस्ताव कांग्रेस सरकार पर आपदा प्रबंधन में नाकामी की चार्जशीट से ज्यादा कुछ नहीं था। सरकार की नाकामी पर फोकस इतना ज्यादा था कि कई महत्वपूर्ण मुद्दे हाशिए पर चले गए या फिर उसे हल्का कर दिया गया। कई महत्वपूर्ण मुद्दे जो भाजपा की चुनावी दृष्टि से मुफीद नहीं थे प्रस्ताव में स्थान नहीं बना सके। समापन के दिन प्रस्तुत आर्थिक प्रस्ताव में सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना के अतिरिक्त कुछ नहीं था। प्रस्ताव में पार्टी के लिए कोई आर्थिक नीति नहीं थी। बैठक के आखिरी दिन लोकसभा चुनाव तक संगठन और भाजपा कार्यकर्ताओं को कार्यशील बनाए रखने के लिए कई कार्यक्रमों की द्घोषणा की गई। प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह का कहना था कि मोदी के नाम पर देश भर में बने माहौल ने भाजपा को बढ़त दिलाई है। कांग्रेस के पैर उखड़ रहे हैं। ऐसे में माहौल का फायदा उठाने के लिए पार्टी को गुटबाजी से दूर रहना होगा। पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खण्डूड़ी ने मोदी के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए संबोधन किया कि अगर मोदी को कोई तानाशाह कहता है तो देश के वर्तमान हालात को देखते हुए 'तानाशाह मोदी' भी मंजूर है।

 

प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत ने पार्टी के बड़े नेताओं को गुटबाजी से दूर रहने की सलाह देते हुए पार्टी का सिपाही बनकर रहने की हिदायत दी। पूर्व मुख्यमंत्री कोश्यारी ने पार्टी में एकजुटता पर जोर देते हुए कहा कि आगामी चुनाव में भाजपा को पांचों सीट जीतने से कोई नहीं रोक सकता। पूर्व मुख्यमंत्री निशंक मानते हैं कि आज माहौल भाजपा के पक्ष में है। अगर उसको पार्टी के पक्ष में नहीं भुनाया जा सका तो यह हम सबके लिए नुकसानदेह होगा। भाजपा की कार्य समिति में गुटबाजी की छाया और नेताओं में आपसी समन्वय की कमी साफ नजर आ रही थी। जहां पूर्व मुख्यमंत्री खण्डूड़ी बैठक के पहले दिन ही पहुंचे वहीं पूर्व मुख्यमंत्री कोश्यारी और निशंक दूसरे दिन पहुंचे। बैठक में खण्डूड़ी और कोश्यारी के बीच दूरियां भी दिखीं। इस बैठक से यह निष्कर्ष निकलता है कि भाजपा मोदी का नाम और बहुगुणा सरकार की आपदा प्रबंधन में विफलता को लोकसभा चुनाव की संजीवनी मान रही है। 

 

प्रदूषण फैलाने पर प्राथमिक दर्ज

लालकुआं (नैनीताल)। हल्दूचौड़ स्थित पाल स्टोन क्रशर और पेपर मिल दोनों ही प्रदूषण फैलाने के नए कीर्तिमान रच रहे हैं। इसको गंभीरता से लेते हुए 'पीपुल फॉर एनिमल' संगठन की सचिव गौरी मैलेखी ने दोनों फैक्ट्री के प्रबंधकों को खिलाफ लालकुआं कोतवाली में २४ अगस्त को प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस ने धारा २६८ और २६९ के तहत मामले को दर्ज किया। साथ ही राख का नमूना जांच के लिए सुरक्षित रख लिया गया और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को इसकी सूचना दे दी गई। इनका आरोप है कि फैक्ट्री से निकलने वाला राख और चूने को पाल स्टोन क्रशर की तरफ से बनाए गए गड्ढों में डाला जा रहा है। इसको गड्ढों में डाले जाने से भूमिगत जल प्रभावित हो रहा है। इससे हजारों लोगों की जान खतरे में है।

गोपाल बोरा

 

आपदाग्रस्त  क्षेत्रों का दौरा

कर्णप्रयाग (चमोली)। स्थानीय विधायक एवं डिप्टी स्पीकर डॉ अनुसूया प्रसाद मैखूरी आपदा प्रभावित क्षेत्रों के दौरे पर हैं। पिछले दो सप्ताह में इन्होंने कई गांवों का भ्रमण किया और लोगों की शिकायत सुनी। जनसमस्या सुनने के बाद इन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों को जल्द से जल्द समस्या निपटाने के निर्देश दिए। २६ अगस्त को मैखूरी हाल ही में बादल फटने से तबाह हुए गांव सुनाली गए। वहां उन्होंने ग्रामीणों को राहत सामग्री बांटी। अपने भ्रमण के दौरान विधायक को कई जगहों पर विरोध का भी सामना करना पड़ा। आपदा प्रभावित तहसील कर्णप्रयाग के सिरोली गांव की विधवा हीरा देवी का आवासीय भवन और गौशाला क्षतिग्रस्त हो गया है। लेकिन दो माह बीत जाने के बाद भी प्रशासन की ओर इन्हें आज तक उचित सहायता राशि नहीं मिली है। उन्होंने अभी दूसरे के मकान में शरण ले रखी है। मैखूरी को यहां लोगों का गुस्सा और विरोध झेलना पड़ा। मैखूरी ने उपजिलाधिकारी राहुल कुमार गोयल को निर्देश दिया कि आपदा के जद में आने वाले पटवारीवृत्त कर्णप्रयाग गौचर लंगासू सिमलीमंगरौली सिरौसैंण कनखुल कंडारा आदि विभिन्न गांवों के हर सात दिन में रिर्पोट जिलाधिकारी के माध्यम से शासन को प्रेषित करें। जिसमें अतिवृष्टि से होने वाले क्षति का सही मूल्यांकन किया जाए। क्षतिपूर्ति प्रभावितों को सही मुआवजा प्राप्त हो सके। क्षेत्र में भ्रमण के दौरान डॉ विधायक अनुसूया प्रसाद मैखुरी जिलाध्यक्ष हरी सिंह रावत ब्लॉक अध्यक्ष गबर सिंह नेगी विधायक प्रतिनिधि गजपाल सोनी आदि कई स्थानीय नेता मौजूद थे।

जगत सिंह नेगी

 

सिपाही हत्याकांड का खुलासा

रुड़की (हरिद्वार)। स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले सिपाही सुमित नेगी हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने २१ अगस्त को एक प्रेस वार्ता में कर दिया। सिपाही की हत्या से बौखलाई पुलिस ने केस को पंद्रह दिन के अन्दर खोलकर ही उपलब्धि हासिल की है। इस संबंध में पुलिस ने खुलासा करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि ५ बदमाश फरार हैं। इनकी धरपकड़ के प्रयास में पुलिस जुटी हुई है। नेगी को गोली मारने वाला बदमाश अफजाल है। वह देवबन्द के अम्बेहटा अब्दुल्लापुर का निवासी है। 

 

गौरतलब है कि १४ अगस्त को संतोष नर्सिंग होम की चिकित्सक हिना खरे के आवास पर बदमाशों ने लूट का प्रयास किया था। इसमें बदमाशों का मुकाबला करते हुए सिपाही सुमित नेगी ने अपनी जान गवां दी थी। पुलिस ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए २१ अगस्त को डकैती और हत्या में शामिल तीन अभियुक्तों कुलबीर ललित और सुरेश ठाकुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था लेकिन मुख्य अभियुक्त और उसके अन्य साथी पुलिस गिरफ्त से बाहर थे। डीआईजी अमित सिन्हा ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि हत्याकांड और लूटपाट के मुख्य अभियुक्त दो बाइकों पर सवार होकर हरिद्वार कोर्ट में पेश होने के लिए देवबंद-तांसीपुर के रास्ते से होकर जा रहे हैं। इस पर कोतवाली पुलिस ने तीन टीमें बनाकर बदमाशों की द्घेराबंदी की तो तांसीपुर की पुलिया के पास बदमाश दिखाई दिये। पुलिस पर फायरिंग के बाद जवाबी कार्यवाही करते हुए पुलिस ने बाइकों समेत बदमाशों को धर दबोचा। पूछताछ के बाद अभियुक्तों ने अपने नाम आसिफ पुत्र सदाकत निवासी कायस्थवाड़ा देवबंद अफजाल उर्फ लारा उर्फ दौरा पुत्र सब्बीर निवासी अम्बेहट शेख थाना देवबन्द और जुल्फकार पुत्र शब्बीर निवासी इब्दुल्लापुर निवासी देवबंद बताया। पुलिस का कहना है कि इस मामले में इसके दो साथी मारूफ पुत्र मासूम और मेहताब पुत्र सलीम के अलावा मेरठ निवासी अशोक उर्फ मेजर तथा सोनू उर्फ छोटू अभी भी फरार चल रहे हैं। डीआईजी ने बताया कि सिपाही सुमित नेगी की सरकारी पिस्टल भी अफजाल से बरामद हो गई है। इसके अलावा पुलिस ने एक पिस्टल ३२ बोर और दो जिन्दा कारतूस एक तमंचा ३१५ बोर एक जिन्दा कारतूस के साथ ही एक सोने की चैन भी बरामद की है। एसएसपी ने पुलिस टीम को पांच हजार रुपए का नकद इनाम देने की द्घोषणा की है। उन्होंने कहा कि एक सप्ताह में द्घटना का खुलासा करने पर वह पुलिस मुख्यालय से बीस हजार के इनाम की द्घोषणा कराने का प्रयास करेंगे।

अली खान

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 66%
uk & 13%
 
 
fiNyk vad
  • कृष्ण कुमार

 

उत्तराखण्ड कांग्रेस में जबर्दस्त कलह चल रही है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अपने स्तर से कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं तो पार्टी अध्यक्ष प्रीतम सिंह

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1744890
ckj