fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 36 24-02-2018
 
rktk [kcj  
 
सरगोशियां
 
एनडीए में दरार

जैसे&जैसे आम चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं] केंद्र में सत्तारूढ़ एनडीए गठबंधन में शामिल दलों की भाजपा संग दूरी बढ़ने की खबरें भी तेज होने लगी हैं। भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी शिवसेना ने तो अगले लोकसभा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव अकेले दम पर लड़ने का ऐलान भी कर डाला है। शिवसेना की नाराजगी का एक बड़ा कारण केंद्र सरकार में अपेक्षित प्रतिनिधित्व का ना मिलना है तो दूसरा बड़ा कारण महाराष्ट्र सरकार में शामिल उसके मंत्रियों के विभागों का है। शिव सेना संस्थापक स्व ़ बाल ठाकरे के समय जो जलवा सेना का हुआ करता था] अब उनके बेटे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में वह ?kV गया है। एक तरह से भाजपा नेतृत्व द्वारा हाशिए में डाल देने के चलते शिव सेना प्रमुख रोज अपने मुख पत्र 'सामना' के जरिए भाजपा के खिलाफ अपनी भावनाएं सार्वजनिक करते रहते हैं। केंद्रीय बजट के बाद अब आंध्र प्रदेश के सीएम चन्द्र बाबू नायडू ने भी तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। उनका मानना है कि आंध्र प्रदेश की केंद्रीय बजट में पूरी तरह उपेक्षा की गई है। दरअसल नायडू की भी नाराजगी केंद्र सरकार में अपने सांसदों को सही प्रतिनिधित्व नहीं दिए जाने को लेकर रही है। वर्तमान में टीडीपी के पंद्रह लोकसभा और पांच राज्यसभा सदस्य हैं। इनमें से एक अशोक गजपति राजू मोदी मंत्रिमंडल में नागरिक उड्डन मंत्री हैं तो दूसरे सुजाना चौधरी कम महत्व वाले विज्ञान एवं तकनीकी मंत्रालय के राज्यमंत्री हैं। टीडीपी प्रमुख नायडू के बेहद करीबी माने जाने वाले चौधरी के लिए टीडीपी कैबिनेट मंत्री का दर्जा मांगती आई है। नीतीश कुमार के भाजपा गठबंधन में शामिल होने के बाद से ही उपेन्द्र कुशवाहा के नेतृत्व वाली लोकसमता पार्टी के भी अपने लिए एनडीए से बाहर जाने का रास्ता तलाशने की खबरें हैं। अब यदि मध्य प्रदेश और राजस्थान विधानसभा के नतीजे भाजपा के मनोकूल नहीं आते हैं तो एनडीए में भाजपा विरोधी स्वरों का ज्यादा मुखर होना तय है।

la?k करेगा बदलाव

राष्ट्रीय स्वयं सेवक la?k ने अपनी स्थापना के सौ वर्ष दो हजार पच्चीस में भव्य और बड़े स्तर पर मनाने की तैयारी अभी से शुरू कर दी है। इतना ही नहीं la?k आने वाले दिनों में संगठनात्मक स्तर पर भी बड़े फेरबदल करने जा रहा है। खबर है कि भारतीय जनता पार्टी और la?k के बीच सेतु का काम देख रहे रामलाल के स्थान पर नया चेहरा सामने आ सकता है। १९७४ में la?k से जुड़े रामलाल २००६ से भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री हैं। la?k के पूर्णकालिक प्रचारक रहे रामलाल के स्थान पर संजय जोशी के नाम पर चर्चा हो रही है। सूत्रों की माने तो वरिष्ठता क्रम में तीसरे स्थान पर बैठे वरिष्ठ la?k प्रचारक दत्तात्रेय होसबोले ने इस बाबत प्रधानमंत्री मोदी से सलाह&मशविरा भी किया है। हालांकि संजय जोशी और पीएम मोदी के बीच कटु रिश्तों के चलते शायद ही ऐसा संभव हो। खबर यह भी है कि la?k अपने अनुवाशिंक संगठन विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष पद से प्रवीण भाई तोगड़िया को हटाने पर भी विचार कर रहा है। पिछले दिनों तोगड़िया के बागी तेवरों से इस खबर की पुष्टि भी होती है। हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल रह चुके बी ़एल ़ कोनकना का नाम विहिप के संभावित नए प्रमुख के तौर पर सामने आया है। हालांकि तोगड़िया के करीबी ऐसी किसी भी संभावना से इंकार करते हैं। यह भी चर्चा है कि यदि ऐसा कुछ होता है तो तोगड़िया विहिप में दो फोड़ भी कर सकते हैं।

आम चुनावों की आहट

दिल्ली में इन दिनों २०१९ के मध्य में प्रस्तावित आम चुनावों के समय पूर्व कराए जाने को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। माना जा रहा है कि मोदी सरकार अपना अंतिम बजट पेश कर चुकी है। २०१८ में तीन महत्वपूर्ण राज्यों में चुनाव होने जा रहे हैं। इनमें से राजस्थान और मध्य प्रदेश में भाजपा तो कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार है। गुजरात में अपेक्षित सफलता ना मिल पाने के बाद राजस्थान में हुए लोकसभा के दो उप चुनाव और एक विधानसभा चुनाव भाजपा हार चुकी है। मध्य प्रदेश में भी कुछ अर्सा पहले हुए विधानसभा के उपचुनावों में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था। ऐसे में पार्टी के रणनीतिकारों के मध्य मंथन तेज हो चला है कि इन राज्यों के साथ ही आम चुनाव भी करा लिए जाएंगे। खबर यह भी है कि वर्तमान मुख्य न्यायाधीश के अक्टूबर में सेवानिवृत्त होने से पूर्व ही सुर्प्रीम कोर्ट राम मंदिर&बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला सुना सकती है। सूत्रों की मानें तो इस फैसले के बाद भाजपा अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का ऐलान कर चुनावी मैदान में उतरने का मन बना रही है।

रेखा से बढ़ती नाराजगी

कांग्रेस छोड़ चुनाव पूर्व भाजपा में शामिल हुए नेताओं से पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं की पटरी बैठ नहीं पा रही है। भाजपा के खांटी नेताओं को राज्यमंत्रिमंडल गठन के समय ज्यादा तव्वजो दिए जाने को लेकर है। हालांकि असंतोष के स्वर सरकार गठन के बाद से ही सुनने को मिलने लगे थे।] अब इनमें तेजी आने लगी है। कुछ दिन हुए रेखा आर्या चंपावत जिले के दौरे पर थीं। वे वहां की प्रभारी मंत्री भी हैं। चंपावत से भाजपा के दो विधायक हैं। इनमें से एक पूरन सिंह फर्त्याल ने मंत्री द्वारा उन्हें गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में ना बुलाए जाने की सार्वजनिक आलोचना करते हुए आरोप लगा डाला कि मंत्री का कांग्रेस प्रेम अभी तक खत्म नहीं हुआ है। बकौल फर्त्याल गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में रेखा आर्या ने उन्हें आमंत्रित ना कर स्थानीय कांग्रेसी नेताओं को बुलाया। हालांकि मंत्री महोदया ने इन आरोपों को सिरे से नकारा है लेकिन इससे भाजपा के भीतर आयातित नेताओं को लेकर खांटी नेताओं की नाराजगी सामने आ गई है। खबर यह भी है कि मंत्री अल्मोड़ा संसदीय सीट में जिस प्रकार पोस्टर बाजी कर जनता से संवाद कर रही हैं उससे उनके लोकसभा चुनाव लड़ने के संकेतों ने पार्टी के कई दिग्गजों की नींद उड़ा दी है। 


 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 73%
uk & 16%
 
 
fiNyk vad

  • संजय चौहान

चमोली की मानसी और परमजीत ने वॉक रेस में सोने के तमगे हासिल कर पूरे प्रदेश का मान बढ़ाया। हालांकि दिल्ली में आयोजित प्रथम ^खेलो इंडिया खेलो^ प्रतियोगिता

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
2042586
ckj