fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 45 28-04-2018
 
rktk [kcj  
 
फेसबुक 
 
Qsl बुक

राजीव लोचन साह % ^पकौड़ा प्रकरण^ में मुझे एक बात पर ?kksj आपत्ति है। आप मोदी जी की जितनी चाहे खिंचाई करें ¼इस पद पर रहने वाले व्यक्ति को आलोचना के लिए खुला होना चाहिए] आक्रामक असहिष्णुता के इस दौर में भी½ मगर कुशल&अर्द्धकुशल काम में लगे किसी उद्यमी के सम्मान को ठेस नहीं पहुंचनी चाहिए।

राजन हेम मलखानी % ये एक राजनीतिक वक्तव्य है मोदी की आलोचना अधिकांशतः मोदी के समर्थक और कार्यकर्ता कर रहे हैं तो आपको इससे कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

नरेंद्र गुनियाल % साह जी आपकी बात के समर्थन के साथ आपकी अंतिम पंक्तियों से असहमत हूं मोदी की गैर जिम्मेदार बकैती^ मैंने यह पूरा साक्षात्कार देखा था। इसमें कहीं कोई गैर जिम्मेदाराना बात नहीं थी। यही कहा था कि कोई पकौड़ा बनाकर शाम को दो सौ रुपए कमाता है तो वह भी एक रोजगार है। पकौड़ा बनाने की बात की भीख से तुलना कर श्रम एवं स्वरोजगार की जिस तरह चिदंबरम ने तौहीन की है वह बेहद निंदनीय है।

रवि पांडे % डिगनिटी ऑफ लेबर तो होना ही चाहिए.. कोई भी कार्य छोटा नहीं है! चिदंबरम का स्टेटमेंट निंदनीय है। भिक्षा में तो आत्मसम्मान बिकता है।कविता पांडे % पकौड़े तलना] बेचना] मेहनत का व्यवसाय है] सही है] पर किसी देश के प्रधानमंत्री को पढ़े&लिखे नौजवान को पकौड़े तलकर पेट पालने की राय मंच से देना निःसंदेह अपमानजनक है और उसकी पढ़ाई&लिखाई का न केवल उपहास मात्र है। वरन्‌ सरकार की भी असफलता का परिचायक है। एक बेलगाम वाणी वाले प्रधानमंत्री की फिसली जबान को सही ठहराने के लिए असफल सरकार की वास्तविकता से हम मुंह नहीं मोड़ सकते। पकौड़े तलने के लिए किसी विशेष प्रशिक्षण] १६&१७ वर्षों तक देश के रिसॉर्स के बूते पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं होती और यदि यह व्यवसाय इतना ही सम्मानजनक है तो राजीव] रवि आप लोगों ने या अमित शाह ने अपनी संतानों को यह करने के लिए प्रेरित क्यों नहीं किया\

श्रीप्रकाश नैथानी % भाई सिंपल बात है। जिसे जिस चीज का ज्ञान है उसे वही करना चाहिए और उसे वही काम मिलना भी चाहिए। अब एक बच्चे ने अपने ४&५ साल मेकेनिकल इंजीनियरिंग सीखने में लगा दिए उसे बाद में आप पकौड़े बनाने की इंजीनियरिंग सीखने की राय दें] ठीक नहीं। लुहार से सुनार का काम नहीं कराया जा सकता। फेंकू द ग्रेट ने पकौड़े का जिक्र स्वरोजगार के संदर्भ में किया था जिसे मीडिया और आलोचकों ने लपक लिया।

इंद्र चंदर जवार % उत्तराखण्ड राज्य आंदोलन के साथ ही टिहरी बांध का निर्माण शुरू हो गया था। आज गैरसैंण राजधानी बनाने की मांग तेज हुई है तो पंचेश्वर बांध परियोजना के बहाने उत्तराखण्ड को डुबाने की साजिश चल पड़ी है।

लक्ष्मण धामी मुसाफिर % कारगर जनांदोलन चलाना जरूरी है। एकजुट होना ही होगा।

पुरन चंद्र कंडपाल % रजवार साहब ठीक कहते हैं। आंदोलन को तोड़ने के प्रयास भी चल रहे हैं। जैसा कि मैंने कई बार कहा है] हम में एकता का अभाव है और उसका लाभ दो दलों ने बारी बारी से खूब लिया। इनके ऊलजलूल बयान खूब सुने हैं हमने।

रामप्रसाद नैथानी % नेता की सोच व कद बड़ा होना चाहिए मेरे प्रिय श्रेष्ठ मित्र का कहना है। सोच तो अपनी माटी के चहुमंखी संरक्षण को लेकर ईमानदार होनी चाहिए। हां] कद तो वहां की जनता ही बड़ा करेगी उसकी सोच का अनुशरण करते हुए और एकता तो तभी हो जाती है जब सभी एक विचार को लेकर चलते हैं एक ही विचार को लेकर सैकड़ों बैनर या झंडे जब हर दिशाओं में उठ खड़े होते हैं तो वह विचार मजबूती से स्थापित होता है।


जनाब ने फरमाया + + +

हमारी सरकार ने केदारनाथ में युद्धस्तर पर पुनर्निर्माण कार्य किए और यात्रा सुचारु कराई] लेकिन इसका श्रेय भाजपा लेने में लगी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह को जनता को सच बताना होगा। कई बार स्थिति ऐसी होती है कि अपना बाजा खुद ही बजाना पड़ता है। 

हरीश रावत] पूर्व मुख्यमंत्री

कार्यकर्ता खुद निकाय चुनाव के प्रत्याशी तय करेंगे। कांग्रेस इतना बड़ा परिवार है कि उसको कांग्रेस ही नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए सब एकजुट होकर निकाय चुनाव लड़ाएं।

प्रीतम सिंह] प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

लोग स्वेच्छा से मुझे चाय पर बुला रहे हैं और चंदा भी दे रहे हैं। यह साबित करता है कि जनता के मन में भाजपा कितनी रची&बसी है।

अजय भट्ट] प्रदेश भाजपा अध्यक्ष 

मेरी लोकप्रियता को धूमिल करने के लिए सोशल मीडिया में मेरे भाजपा में शामिल होने की अफवाह फैला रहे हैं। इसके खिलाफ मैं कानूनी कार्रवाई से पीछे नहीं हटूंगा।

शैलेंद्र सिंह रावत] पूर्व विधायक कोटद्वार 


 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और और वित्त मंत्री प्रकाश पंत के बीच शीतयुद्ध चल रहा है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 5%
uk & 0%
fiNyk vad

  • मंगलेश डबराल

कवि एवं संपादक

अन्ना आंदोलन और आप का जन्म आदि जो ?kVuk]a हैं] ये बताती हैं कि जब भी सुपर स्ट्रक्चर के आंदोलन चलते हैं वह कहीं&न

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
2157897
ckj