fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 26 16-12-2017
 
rktk [kcj  
 
प्रतिभा
 
सीमांत की प्रतिभाओं का कमाल
  • संजय चौहान

चमोली। राज्य के सीमांत क्षेत्रों में बेशक बेहतर शिक्षा और सुविधआों का अभाव हो। लेकिन यहां की प्रतिभाएं मिसाल कायम कर रही हैं। ?kV ब्लॉक] नंद्र प्रयाग निवासी तरुणा चमोला ने उत्तराखण्ड पीसीएस परीक्षा पास कर महिलाओं को रास्ता दिखाया है कि वे गृहस्थी के कामकाज के साथ सफलता की सीढ़ियां भी चढ़ सकती हैं। इसी तरह ग्रामीण अंचलों से पढ़े पीपलकोटी के युवा अनुज आर्य भी पीसीएस में सफल रहे।

तरुणा चमोली का चयन बाल विकास अधिकारी के पद पर हुआ है। पीसीएस परीक्षा पास करने से दो दिन पहले ही उन्होंने एक बच्ची को भी जन्म दिया। ऐसे में परिवार के लिए यह दोहरी खुशी का मौका था। तरुणा चमोला के पति अनुसूया प्रसाद चमोला २०११ में देश की प्रतिष्ठित la?k लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा की परीक्षा में सफल हो चुके हैं। वर्तमान में वह कानपुर में भारतीय डाक सेवा में प्रवर डाक अधीक्षक के पद पर कार्यरत हैं। इस पद पर चयन से पूर्व वे राजकीय इंटर कालेज गणाई ¼पीपलकोटी½ में बतौर शिक्षक थे। लेकिन विपरीत परिस्थितियों में भी उन्होंने देश की सबसे बड़ी परीक्षा उत्तीर्ण की। साथ ही अपनी पत्नी तरुणा को भी प्रोत्साहन दिया।

तरुणा चमोला इतिहास में स्नात्कोत्तर और नेट उत्तीर्ण हैं। पति की प्रेरणा से ही उन्होंने पीसीएस की परीक्षा उत्तीर्ण की। वास्तव में तरुणा चमोला उन महिलाओं के लिए मिसाल हैं जो गृहस्थी को कैरियर में बाधक मानती हैं। अगर मन में कुछ करने का जज्बा हो तो सफलता जरूर मिलती है। पीपलकोटी के युवा अनुज आर्य ने भी उत्तराखण्ड पीसीएस परीक्षा में सफलता प्राप्त की है। अनुज का चयन डीएसपी पद हुआ है। जिस कारण से पूरे पीपलकोटी में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। माता पिता ही नहीं] बल्कि हर कोई खुश है। हर कोई अनुज को बधाईयां दे रहा है।

अनुज ने प्राथमिक से लेकर १२वीं तक की शिक्षा पीपलकोटी से ही ग्रहण की। जबकि बीएससी गोपेश्वर महाविद्यालय और एमएससी ¼भौतिक विज्ञान½ व बीएड की डिग्री डीएवी देहरादून से ग्रहण की। बचपन से ही होनहार अनुज ने अपना लक्ष्य ही सिविल सेवा उतीर्ण करने का बनाया था और उसमें सफलता भी हासिल की। डीएसपी के पद में चयन से पहले अनुज का चयन जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवक्ता पद] केंद्रीय विद्यालय में प्रवक्ता पद] बैंक में मैनजर पद और भारत तिब्बत सीमा पुलिस में असिस्टंट कमान्डेंट के पद पर हो चुका है। लेकिन अनुज उत्तराखंड की सेवा करना चाहता है इसलिए डीएसपी के पद पर कार्यभार ग्रहण करेगा। अनुज के पिताजी रोशन लाल आर्य वर्तमान में जूनियर हाईस्कूल टंगणी में बतौर प्रधानाध्यापक कार्यरत है। मां कमला देवी गृहणी हैं। ३ भाई और २ बहनों में अनुज आर्य चौथे नंबर के हैं। अनुज अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने माता पिताजी और अपने गुरुओं को देते हैं। अनुज ने बिना कोचिंग और कड़ी मेहनत के पीसीएस की परीक्षा पास की। इसके अलावा अनुज वास्तव में उन लोगों के लिए एक उदाहरण हैं जो सरकारी स्कूलों को दोयम दर्जे का मानते हैं। अनुज ने अपनी पूरी पढाई सरकारी स्कूलों से ग्रहण कर अपना मुकाम खुद बनाया है। वह कहते हैं कि यदि खुद पर विश्वास हो तो कठिन से कठिन मंजिल को हासिल की जा सकती है। 

 

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 71%
uk & 15%
 
 
fiNyk vad

दिनेश पंत

न्यायालय के आदेश पर अवैध खनन निरोधक सतर्कता ईकाई का गठन तो हुआ] लेकिन नदियों] जंगलों और गाड-गधेरों को बेतरतीबी से उजाड़ने का सिलसिला कभी रुका नहीं। अकेले

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1948154
ckj