fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 26 16-12-2017
 
rktk [kcj  
 
आईना  
 
पंचेश्वर पर मुलाकात

हिल एरिया पीपुल्स फाउंडेशन का प्रतिनिधिमंडल जगदीश चंद्र भट्ट के नेतृत्व में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से पंचेश्वर परियोजना से प्रभावित होने वाले लोगों के उचित पुनर्वास के संबंध में विस्तृत बातचीत की। उन्हें अवगत कराया कि बरसात के दिनों में रास्ते बंद पड़े हुए हैं। ऐसे में जनसुनवाई ठीक से नहीं हो पाएगी कारण कि कई लोग इसमें शामिल नहीं हो पाएंगे। जन सुनवाई के लिए जनता को पर्याप्त समय दिया जाए। सुनवाई में लोगों की राय जानी जाए कि वे कैसा पुनर्वास चाहते हैं] अपनी भावी पीढ़ियों को लेकर उनके क्या सपने हैं। प्रतिनिधिमंडल के मुताबिक मुख्यमंत्री ने बड़ी आत्मीयता से उनकी बातें सुनी और आश्वासन दिया कि विकास के लिए मील का पत्थर साबित होने जा रही परियोजना में क्षेत्र के लोगों के साथ पूरा न्याय किया जाएगा। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार डॉक्टर केएस पंवार से भी चर्चा की।

बाड़ाहोती से चीनी ?kqliSB

सीमांत चमोली जिले के बाड़ाहोती से चीनी सैनिक कई बार भारतीय सीमा में ?kqliSB कर चुके हैं। अभी हाल में भी चीनी सैनिकों ने ?kqliSB की है। इससे पूरे देश में हड़कंप मच गया। चीनी सैनिक करीब एक ?kaVs तक बाड़ाहोती में रहे। दोकलाम के बाद अब उत्तराखण्ड के चमोली जिले से लगी चीन सीमा पर भी तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। हालांकि जिला प्रशासन ?kqliSB से इंकार कर रहा हैं। लेकिन बताया जा रहा है कि २६ जुलाई को जब देश की अंतिम चौकी रिमखिम में आईटीबीपी के जवान नियमित गश्त कर रहे थे। उसी दौरान करीब दो सौ चीनी सैनिक बाड़ाहोती में द्घुस आए। उन्होंने चरवाहों को धमकाया। इससे पहले तीन जून को भी बाड़ाहोती क्षेत्र में दो चीनी हेलीकॉप्टर मंडराते देखे गए थे। वर्ष २०१४ में एक चीनी हेलीकॉप्टर बाड़ाहोती क्षेत्र में काफी देर तक आसमान में मंडराता रहा। वर्ष २०१५ में चीनी सैनिकों की ओर से भारतीय चरवाहों के खाद्यान्न को नष्ट कर दिया गया था। वर्ष २०१६ में सीमा क्षेत्र के निरीक्षण पर गई चमोली प्रशासन की टीम का भी चीनी सैनिकों से सामना हुआ था।

अस्पतालों के बीच समझौता

मुख्यमंत्री की मौजूदगी में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोईवाला को  लेकर स्वास्थ्य विभाग और स्वामीराम हिमालयन विवि के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर हुए। इस समझौते को प्रो&बोनो एग्रीमेंट ¼निःशुल्क निस्वार्थ समझौता½ का नाम दिया जिसके अंतर्गत हिमालयन विवि कि डॉक्टर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोईवाला में निशुल्क सेवाएं देंगे। समझौते अवधि ५ साल की है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र 

डोईवाला ५ साल बाद फिर से अपनी पहली जैसी स्थिति में आ जाएगा। और डोईवाला के इस सरकारी अस्पताल को ५ वर्ष के बाद अगली सरकार के रहमो&करम का इंतजार रहेगा। कुल मिलाकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डोईवाला अस्पताल के लिए जो व्यवस्था की है। वो पूरी तरह से वैकल्पिक है और ये व्यवस्था उनके मुख्यमंत्री या यूं कहें कि उनके इस विधायक के कार्यकाल तक ही रहेगी।

सीएचसी डोईवाला के उच्चीकरण के ?kks"k.kk राज्य के चार&चार मुख्यमंत्रियों ने की हैं। मुख्यमंत्री रहते हुए हरीश रावत ने इस अस्पताल को ३० बैड से उच्चीकूत करते हुए ५० बैड का शासनादेश भी जारी किया था। सिर्फ इसमें वित्तीय स्वीकूति मिलनी बाकी थी। सीएम त्रिवेंद्र ने इस बार डोईवाला से चुनाव लड़ते हुए जनता से अस्पताल के उच्चीकरण का वादा किया था। लेकिन कांग्रेस] सपा और तमाम संगठनों के विरोध को दरकिनार करते हुए वर्तमान सरकार ने इस अस्पताल को पूरी तरह निजी हाथों में सौंप दिया है। हिमालयन के प्राइवेट चिकित्सकों को डोईवाला के सरकारी अस्पताल में भेजने से पहले अस्पताल में वर्तमान में तैनात सभी सरकारी डॉक्टरों] तकनीशियनों और अन्य स्टाफ को वहां से हटा दिया जाएगा। वर्तमान में डोईवाला में हड्डी रोग] बाल रोग] महिला विशेषज्ञ] दंत रोग] फिजिशयन आदि और एक्सरे] लैब टेक्निशयन सेवाएं दे रहे हैं। इन सबका ट्रांसफर कहीं और करके सरकारी अस्पताल को हिमालयन के हाथों सौंप दिया जाएगा।


फेसबुक

इंद्रेश मैखूरी % अल्मोड़ा जिले के भिकियासैंण ब्लाक के इनलौ गांव में ग्रामीणों को मछली मारने के लिए जेल भेजने के खिलाफ मैंने कल उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री को ज्ञापन ई&मेल द्वारा भेजा। ज्ञापन मुख्यमंत्री जी के ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट भी किया। २४ ?kaVs होने को हैं पर अभी तक ट्विटर पर भी कोई जवाब नहीं है

संजय नौदयाल % सुनने में आ रहा है कि जब गांव वालों को ये पता चला कि मछली विलुप्त प्रजाति की है तो उन्होंने मछली नदी में वापस छोड़ दी थी। ज्ञात हो जब गांव वाले मछली लेकर गांव आये थे तो वो जिन्दा थी। गांव वाले डरे हुए हैं। शायद वो इस कारण कुछ नहीं बोल पा रहे हैं। मैं गांव वालों के साथ हूं।

हिरा सिंह अधिकारी % बहुत खूब मैखुरी जी! मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि इमेल का जवाब नहीं आएगा] क्योंकि मेरे द्वारा की गई किसी भी शिकायत का जवाब नहीं आया। आज तक] यहां तक कि ंबादवूसमकहमउमदज भी नहीं मिली।

देव सिंह रावत % जनहित में न्यायोचित कदम उठाने के लिए आपको धन्यवाद।

डबराल सुमनत % आपकी सोच सही है दादा] मैंने भी कुछ मित्रों को यही बात कही है कि ये जल] जंगल और जमीन का मामला है। फिर कहेंगे कि माओवादी पैदा हो रहे हैं।

विक्रम सिंह रावत % मुख्यमंत्री कभी भी जवाब नहीं देते हैं। ना ही कोई विभाग। चोर बैठे हैं सब ऊपर की राजनीति में।

देवेंद्र नैनवाल % जंगलात अपनी मिल्कियत समझता है हमारे पुरुषों के पाले पोसे और विकसित किए गए जल जमीन और जंगलों को।

लक्ष्मण सिंह सजवाण % मारना ^संरक्षण नहीं होता है^ कानून का पालन करना हर नागरिक की जिम्मेदारी है।  मामला न्यायालय में चला गया है^ जो निर्दोष होगा बरी हो जाएगा।

हेम उप्रेती % दलित कार्ड खेलो सब बाहर आ जाएंगे। जब हमारे खेतों को सुअर खत्म कर रहे हैं तब ये फोरेस्ट कहां चले जाते हैं।

किशन सिंह भण्डारी % ^विकास और ईमानदारी की निष्ठा से जुड़ी हर एक पगडंडी और दीवार है। सुरेंद्र जीना क्षेत्र की जनता की सेवा में हर पल तैयार हैं^

सतपाल सिंह % काम कहां हो रहा है] मोदी का नाम बदनाम हो रहा है।

मनबर मनी % काम हो न हो शोर मचाते रहो।

सतीश चंद्रा % सही बोल रहे हैं आप। रंग ही बदल रहे हैं। काम तो चौपट है। जब तक बजट आता है तब तक पांच साल पूरे हो जाएंगे।

महादेव भगत कार्की % सही बोल रहे हैं आप। रंग ही बदल रहे हैं। काम तो चौपट है। जब तक बजट आता है तब तक पांच साल पूरे हो जाएंगे।

प्रताप सिंह प्रताप सिंह % जीना जी नहीं दिखे तो कोई बात नहीं काम दिखना चाहिए।

श्याम रावत % इसीलिए हमारा क्षेत्र बहुत पीछे है क्योंकि यहां की सोच यही है। एक&दूसरे की टांग खींचने पर लग जाते और सब नेता बन जाते हैं। कभी किसी ने सच जानने की जरूरत नहीं समझी। गांव में जाकर देखो कि लोग कितने परेशान हैं।

लक्ष मनराल % जनता ने ही जीना जी को विधायक बनाया है जनता की जय बोलो।


ट्वीटर वॉर

Sweta Singh @SwetaSinghAT

में बहार है। भ्रष्टाचार है। ^हत्याचार^ है। दरार है। तकरार है। नए गठबंधन का आविष्कार है। पर नीतीश कुमार है।


Akshay Kumar @Sirakshaykumar_

बिहार में आज दीवाली मनाई जा रही है] लालू का दिवाला निकल रहा है] देश में भगवा लहरा रहा है और तुम कहते हो अच्छे दिन कब आएंगे।

G S Lavania 7 @gslavaniya

बिहार में भ्रष्टाचार और अत्याचार है। नए गठबंधन का इंतजार है। अब भी जंगलराज है अब किसका हुआ करार है लेकिन फिर भी नीतिश कुमार की ही सरकार है।

Reeta Panwar @wetwokrishna

ही अच्छी खबर है। सांप भी मर गया] लाठी भी बच गई। जय हो।


Vikram Singh Bhati @vsjaisalmer

बिहार को ही बदनाम मत करो] भ्रष्टाचार तो राजस्थान] मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में भी बहुत हैं।


Harish Rawat @harishrawatcmuk

अवैध खनन इतना#क गया है कि #मुख्यमंत्री के रुविधानसभा क्षेत्र में भी अवैध खनन की खबरें अखबारों में छप रही हैं।


Deepak Purohit @deepak9p

आपने भी यही करवाया और नई सरकार भी यही करवा रही है।

ravi durgapal @ravidurgapal

आपके शासनकाल में अवैध खनन कितना हुआ यह तो सभी को पता है।


prakashpaliwal @prakashtehri

वैध तरीके से खनन रुका है। अवैध खनन थोड़े नहीं। क्या बात करते हैं रावत साहब।

जनाब ने फरमाया + + + 

चार माह में भाजपा सरकार जनता में विश्वास पैदा करने में सफल रही है। जनता इस बात को समझ रही है कि यह सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ है] सत्ता दलालों से मुक्त है और लंबी सोच के साथ काम कर रही है।

त्रिवेंद्र सिंह रावत] मुख्यमंत्री 

छात्रों को स्व दीनदयाल  उपाध्याय के विचारों का ज्ञान कराने के नाम पर भारत के स्वतंत्रता संग्राम एवं आधुनिक भारत के निर्माण के इतिहास को तोड़&मरोड़ कर दिखाने की कुचेष्टा हो रही है] जो निंदनीय है। 

हरीश रावत] पूर्व मुख्यमंत्री

भाजपा चुनाव के दौरान किसानों से किए गए वादे भूल गई है। आज वह किसानों की आत्म हत्या पर मौन है।

प्रीतम सिंह प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

वर्ष २००४ से लेकर २०१४ तक यूपीए सरकार के दस वर्षों में १५८११७ किसानों की मृत्यु हुई। यानी प्रति वर्ष १५ हजार से अधिक किसानों की मौत हुई है] लेकिन अब जाकर कांग्रेस को किसानों की याद आई है।

अजय भट्ट] प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 71%
uk & 15%
 
 
fiNyk vad

गुजरात विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व भले ही डेढ़ सौ सीटें जीतने का दावा करे। लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि भाजपा यदि वर्तमान ११५ सीटें फिर से जीत ले तो बड़ी बात होगी।

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1948152
ckj